ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरNEET-PG स्थगित होने के बाद परीक्षार्थियों ने कहा, खर्च हुए पैसे और समय की भरपाई कौन करेगा?

NEET-PG स्थगित होने के बाद परीक्षार्थियों ने कहा, खर्च हुए पैसे और समय की भरपाई कौन करेगा?

रविवार को निर्धारित NEET के लिए परीक्षा केंद्रों के दूसरे शहर पहुंचे कई उम्मीदवारों और अभिभावकों को इस बात की जानकारी नहीं थी कि इसे स्थगित कर दिया जाएगा। ऐसे में उनके परीक्षा केंद्र तक आने में काफी

NEET-PG स्थगित होने के बाद परीक्षार्थियों ने कहा, खर्च हुए पैसे और समय की भरपाई कौन करेगा?
Priyanka Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 24 Jun 2024 06:36 PM
ऐप पर पढ़ें

NEET-PG Postponed:  देशभर के मेडिकल कॉलेजों में पीजी की मेडिकल सीटों पर दाखिले के लिए रविवार को होने वाली प्रवेश परीक्षा शनिवार रात अचानक स्थगित कर दी गई। इस फैसले से दो लाख से अधिक आवेदक प्रभावित हुए हैं। परीक्षा देने के लिए अलग-अलग शहरों से दिल्ली आए छात्रों ने गुस्सा भी जाहिर किया है।

एमबीबीएस के बाद पीजी में दाखिले का सपना लिए कई छात्रों ने कहा कि उन्होंने ट्रेन का टिकट नहीं मिलने पर महंगी फ्लाइट बुक की थी। कोई अपने बच्चों को लेकर साथ आया था तो कोई अपने परिवार के अन्य सदस्यों को साथ लाया। परीक्षा रद्द होने से सभी परेशान हैं।

बिहार के भागलपुर की रहने वाली डॉक्टर आकांक्षा ने बताया कि उन्होंने पटना से दिल्ली के लिए फ्लाइट टिकट बुक किया था। वह शनिवार शाम दिल्ली पहुंची और होटल में अपने कमरे में गई।

उसी वक्त उन्हें सोशल मीडिया के माध्यम से पता चला कि परीक्षा स्थगित हो गई है। पहले तो उन्हें यह फेक न्यूज लगी, लेकिन बाद में पता चला कि यही सही है। आकांक्षा बताती हैं कि पेपर लीक के डर से ही उन्होंने देश की राजधानी का सेंटर चुना था। पूरे प्रकरण में उनका पैसा और समय दोनों बर्बाद हुआ है।

इसी तरह नीना शर्मा मेरठ से परीक्षा देने एक दिन पहले ही दिल्ली आईं। वे एक छोटे बच्चे की मां है। इस वजह से उनके पति और बच्चे को भी गर्मी में साथ लाना पड़ा। उन्होंने परीक्षा केंद्र के पास ही दक्षिणी दिल्ली के होटल में कमरा लिया था, लेकिन परीक्षा स्थगित होने की खबर से वे हैरान रह गए। उन्होंने कहा कि वे एक निजी अस्पताल में काम करती हैं। उन्होंने परीक्षा के लिए कोचिंग भी ली है और निजी अस्पताल से एक सप्ताह की छुट्टी ली थी। ऐसे में अब दोबारा उन्हें परीक्षा के लिए आना होगा।

छात्र शुभम आनंद ने कहा कि केंद्र द्वारा उन्हें परीक्षा के बारे में अंतिम समय में सूचित करने से बहुत असुविधा हुई। अगर पुनर्निर्धारित करना था तो उन्हें कम से कम कुछ दिन पहले इसकी घोषणा करनी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि परीक्षा केंद्रों को ठीक से वितरित नहीं किया गया। उम्मीदवारों को परीक्षा केंद्रों पर बहुत दूर-दूर की जगह मिलीं। जयपुर और पटना के छात्रों के केंद्र दिल्ली में थे और फिर जब वे वहां पहुंचे तो परीक्षा स्थगित कर दी गई। सभी को बहुत परेशानी हो रही है। उनके खर्च हुए पैसे और समय की भरपाई कौन करेगा?

 

 

Virtual Counsellor