ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरचौंकाते हैं NEET पेपर लीक के आरोपी छात्रों के कम मार्क्स और रैंक, MBBS की सरकारी सीट नहीं मिलेगी

चौंकाते हैं NEET पेपर लीक के आरोपी छात्रों के कम मार्क्स और रैंक, MBBS की सरकारी सीट नहीं मिलेगी

नीट पेपर लीक मामले में पटना के जो 13 छात्र पुलिस की जांच के दायरे में हैं, उनमें से तीन स्टूडेंट्स नीट में क्वालिफाइंग मार्क्स भी हासिल नहीं कर पाए हैं।आठ छात्रों को 720 में से 500 से भी कम अंक हैं।

चौंकाते हैं NEET पेपर लीक के आरोपी छात्रों के कम मार्क्स और रैंक, MBBS की सरकारी सीट नहीं मिलेगी
neet
Pankaj Vijayलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 20 Jun 2024 04:42 PM
ऐप पर पढ़ें

नीट पेपर लीक मामले में घमासान जारी है। नीट में गड़बड़ी की पुलिस जांच, सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, विपक्ष के हमलों और सरकार की बढ़ती सख्ती के बीच एक ऐसा तथ्य उजागर हुआ है तो मामले को और पेचीदा बना सकता है। बिहार में नीट पेपर लीक मामले में पटना के जो 13 छात्र पुलिस की जांच के दायरे में हैं, उनमें से तीन स्टूडेंट्स नीट में क्वालिफाइंग मार्क्स भी हासिल नहीं कर पाए हैं। मिली जानकारी के अनुसार आठ छात्रों को 720 में से 500 से भी कम अंक मिले हैं। जांच के शिकंजे में आए 13 में 9 स्टूडेंट्स के 500, 400, 300, 200 और 185 में स्कोर है। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक एक स्टूडेंट्स के 609 मार्क्स मिले हैं और उनकी रैंक 71000 है। देश के सरकारी मेडिकल कॉलेजों में कुल एमबीबीएस सीटें करीब 56000 हैं । जाहिर है कि इन सभी स्टूडेंट्स को सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन नहीं मिलेगा। 

पेपर लीक कराने की बात कबूल करने वाले छात्र अनुराग यादव को केमिस्ट्री विषय में महज 5 प्रतिशत, फिजिक्स में 85.52 प्रतिशत और बायो में 51.04 प्रतिशत अंक ही आए। इस तरह कुल 185 अंक ही उसे प्राप्त हुए। अन्य छात्रों में आयुष को कुल 300 अंक मिले।

नीट पेपर लीक कराने के लिए मोटी रकम देने के बाद प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों की एमबीबीएस सीट की भारी भरकम फीस चुकाना भी आसान नहीं होगा। इसके अलावा इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक गुजरात में गोधरा के जो दो एग्जाम सेंटर ओएमआर शीट में हेराफेरी के आरोप में जांच के दायरे में हैं, उनके 98 फीसदी अभ्यर्थियों के 500 से भी कम मार्क्स हैं। 

 मेरा नीट में कुछ नहीं हो सकता, बांधी किताबें; 600 से अधिक अंक वाले भी डिप्रेशन में डूबे

रात में ही मिल गया था पेपर, फूफा ने कराई थी सेटिंग
मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट पेपर लीक मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। बिहार में पेपर लीक के एक आरोपी छात्र अनुराग यादव ने कबूल कर लिया है कि उसे परीक्षा से पहले वाली रात में पेपर मिल गया था। पेपर में हूबहू वही प्रश्न थे जो अगले नीट प्रश्न पत्र में थे। छात्र ने स्वीकारा कि उसे उत्तर पुस्तिका भी दी गई थी और प्रश्नों के उत्तर रटवाए गए थे। अनुराग ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि मुझे मेरे फूफा सिकंदर यादवेंद्र ने कोटा से यह कह कर बुलाया था की परीक्षा के लिए सेटिंग हो गई है। परीक्षा के बाद पुलिस ने मुझे गिरफ्तार कर लिया था।  पेपर लीक मामले के मास्टरमाइंड बताए जा रहे सिकंदर को भी गिरफ्तार किया जा चुका है। जल संसाधन विभाग में कार्यरत सिकंदर को गिरफ्तारी के बाद सस्पेंड कर दिया गया है। 

बिहार में नीट यूजी पेपर लीक मामले की जांच आर्थिक अपराध इकाई ( बिहार ईओयू) कर रही है। आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) का कहना था कि नेशनल टेस्टिंग काउंसिल (एनटीए) सहयोग नहीं कर रही है। इसके मद्देनजर मंगलवार को ईओयू की दो सदस्यीय टीम एनटीए मुख्यालय नई दिल्ली पहुंची। 

Virtual Counsellor