ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरUPSC परीक्षा में शामिल नहीं हो पाई थी ये लड़की, अब MPPSC में आई तीसरी रैंक, किराने की दुकान चलाते हैं पिता

UPSC परीक्षा में शामिल नहीं हो पाई थी ये लड़की, अब MPPSC में आई तीसरी रैंक, किराने की दुकान चलाते हैं पिता

किराना व्यापारी की बेटी पूजा चौहान ने एमपीपीएससी परीक्षा में तीसरा स्थान हासिल किया है। बता दें, वह यूपीएससी की परीक्षा में शामिल होना चाहती थी, लेकिन कारणवश शामिल नहीं हो पाई। आइए जानते हैं, उनके बा

UPSC परीक्षा में शामिल नहीं हो पाई थी ये लड़की, अब  MPPSC में आई तीसरी रैंक, किराने की दुकान चलाते हैं पिता
mppsc
Priyanka Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 08 Jun 2024 03:09 PM
ऐप पर पढ़ें

MPPSC Result:  मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (एमपीपीएससी) ने 2021 परीक्षा के नतीजे घोषित कर दिए हैं। जिसके बाद से कई घरों में खुशियों का माहौल है। इनमें से एक घर सीहोर जिले के बकतरा गांव के किराना व्यापारी का है, जिनकी बेटी पूजा चौहान का चयन डिप्टी कलेक्टर के पद पर हुआ है। पूजा ने 920 अंकों के शानदार स्कोर के साथ MPPSC की परीक्षा में पूरे राज्य में तीसरी रैंक हासिल की है। बता दें, ये उनका दूसरा प्रयास था।

साल 2020 में अपने पहले प्रयास में पूजा असफ रही थी, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और फिर से  MPPSC की परीक्षा देने के फैसला किया। जिसके बाद कड़ी मेहनत के दम पर दूसरे प्रयास में सफल रही।

इंडियन टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, उनके पिता, राजेंद्र चौहान की एक किराने की दुकान हैं और खेती से भी जुड़े हुए हैं। वे शुरू से ही चाहते थे कि उनके बच्चे पढ़ाई- लिखाई में मन लगाकर पढ़ें और किसी भी बात की टेंशन न लें। बता दें, पूजा ने आगे की पढ़ाई के लिए भोपाल और इंदौर जाने से पहले अपनी प्रारंभिक स्कूली शिक्षा अपने गांव में पूरी की थी। पूजा ने कलेक्टर बनने का सपना बचपन से ही देख लिया था, जिसके बाद से उन्होंने अपने बचपन के सपने को साकार करने के लिए दृढ़ संकल्प के साथ प्रतिदिन 6 से 7 घंटे लगन से पढ़ाई करनी शुरू कर दी थी।

जैसे ही पता चला कि, बेटी का चयन MPPSC की परीक्षा के लिए हुआ है, तो  ढोल नगाड़ें और आतिशबाजी के साथ जश्न बनाया गया। बता दें, पूजा ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और परिवार को दिया है।

आपको बता दें, पूजा यूपीएससी सीएसई की परीक्षा में शामिल होना चाहती थी,  लेकिन कई कारणों से नहीं हो पाई। जिसके बाद पूजा ने भोपाल और इंदौर में कोचिंग लेते हुए अपना पूरा फोकस एमपीपीएससी पर लगाया। आज उनका समर्पण और कड़ी मेहनत  सफल हो गई है, और वह गर्व से डिप्टी कलेक्टर के रूप में अपनी भूमिका में कदम रख रही हैं।

 

Virtual Counsellor