ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियर100वीं रैंक के साथ 11 वर्षीय बच्ची की मां ने पास की बीपीएससी परीक्षा, बनी बीडीओ

100वीं रैंक के साथ 11 वर्षीय बच्ची की मां ने पास की बीपीएससी परीक्षा, बनी बीडीओ

बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं प्रतियोगिता परीक्षा के परिणाम जारी होने के बाद कई ऐसे अभ्यर्थियों के सफलता की कहानियां सामने आई रही हैं जिन्होंने विषम से विषयम परिस्थितियों को मात देकर कामयाबी हासिल की ह

100वीं रैंक के साथ 11 वर्षीय बच्ची की मां ने पास की बीपीएससी परीक्षा, बनी बीडीओ
Alakha Singhलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 06 Nov 2023 01:54 PM
ऐप पर पढ़ें

BPSC 67th Result : बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं बीपीएससी परीक्षा के फाइनल नतीजे 28 अक्टूबर 2023 को जारी किए गए थे। बिहार की इस पीसीएस परीक्षा में कई अभ्यर्थियों कठिन परिस्थियों को पार कर परीक्षा पास की है। ऐसे ही कामयाबी की जिद रखने वाले अभ्यर्थियों में से एक प्रियंका भी हैं। प्रियंका बिारह के कैमूर, चैनपुर ब्लॉक के हाटा नगर पंचायत से आती हैं। उन्होंने बीपीएससी 67वीं परीक्षा में 100वीं रैंक प्राप्त कर ब्लॉक डेवलपमेंट ऑफिसर के पद पर तैयाती प्राप्त की है।

बीपीएससी परीक्षा में सफल हासिल करने को लेकर प्रियंका सफलता यात्रा भी काफी मुश्किल भरी रही है। उन्हें एक मां की जिम्मेदारियों के साथ-साथ एक अभ्यर्थी की चुनौतियों का सामना करना था। लेकिन जिस प्रकार से उनके संघर्ष को सफलता मिली है उससे अंदाज लगाया जा सकता है कि मन यदि दृढ़ इच्छा शक्ति है तो कोई भी बाधा आपका रास्ता नहीं रोक सकती।

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, प्रियंका अपने 7 भाई-बहनों में 6वें नंबर की है। एक पोर्टल को इंटरव्यू देते हुए उन्होंने बताया कि उनकी शादी धनंजय प्रसाद के साथ 2011 में हुई थी। धनंजय औरंगाबाद जिले के रहने वाले हैं। प्रियंका ने बताया कि उनके पति मापतौल निरीक्षक के तौर पर पटना में तैनात हैं।

प्रियंका की प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षा बिहार के भबुआ हुई। वहीं से उन्होंने 2012 मनोरमा देवी रामरती पटेल महिला डिग्री कॉलेज से स्नातक किया। उन्होंने बताया कि 2017 के बाद से उन्होंने बीपीएससी के लिए तैयारी शुरू कर दी थी।

प्रियंका ने बताया कि सुबह जल्दी उठने के बाद वह घर के काम निपटाती थीं  और 11 साल की बेटी को स्कूल भेजती थीं। इन सब कामों के साथ वह बीपीएससी के लिए तैयारी भी कर रही थीं। उन्होंने  बताया कि वह बीपीएससी की लिखित परीक्षा दो बार पास कर चुकी थीं, लेकिन इंटरव्यू में स्टेज में फेल हो जाती थीं। लेकिन उनके लगातार प्रयास और फैमिली सपोर्ट के चलते उन्होंने तीसरे प्रयास में सफलता हासिल की। उन्होंने अपनी कामयाबी का श्रेय अपने पति, ससुर, भाई और परिवार के अन्य सभी सदस्यों को दिया। उन्होंने कहा कि जबसे बीपीएससी रिजल्ट के नतीजे घोषित हुए तब से लगातार उनके पति को शुभकामना संदेश प्राप्त हो रहे हैं। 

उन्होंने कहा वह अब सरकारी योजनाओं व सरकार के कामों को जमीनी स्तर पर लागू करने के लिए काम करेंगी। जिससे जरूरतमंद लोगों की मदद की जा सके। उन्होंने कहा कि महिलाओं के अधिकारों को और सशक्त बनाने की दिशा में काम करेंगी।

प्रियंका ने कहा कि वह आगे अभी तैयारी करती रहेंगी क्योंकि उनका लक्ष्य एसडीएम बनना है। 
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें