ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरMNNIT शुरू करेगा MTech का नया कोर्स, GATE के जरिए 15 सीटों पर होगा एडमिशन

MNNIT शुरू करेगा MTech का नया कोर्स, GATE के जरिए 15 सीटों पर होगा एडमिशन

अब भावी टेक्नोक्रेट्स जैविक प्रणाली से दवाओं की फैक्टरी के संक्रमित जल के ट्रीटमेंट की पढ़ाई करेंगे। MNNIT सत्र 2024-25 से एमटेक का नया पाठ्यक्रम शुरू करेगा। इसके लिए सीनेट ने मुहर लगा दी है।

MNNIT शुरू करेगा MTech का नया कोर्स, GATE के जरिए 15 सीटों पर होगा एडमिशन
Pankaj Vijayअनिकेत यादव,प्रयागराजWed, 22 Nov 2023 01:48 PM
ऐप पर पढ़ें

अब भावी टेक्नोक्रेट्स जैविक प्रणाली से दवाओं की फैक्टरी के संक्रमित जल के ट्रीटमेंट की पढ़ाई करेंगे। एमएनएनआईटी शैक्षिक सत्र 2024-25 से एमटेक का नया पाठ्यक्रम शुरू करेगा। इसके लिए सीनेट ने मुहर लगा दी है। पाठ्यक्रम संचालन के अंतिम मंजूरी के लिए संस्थान के बोर्ड ऑफ गर्वनर्स (बीओजी) के प्रस्तावित बैठक में रखा जाएगा। यह पाठ्यक्रम केमिकल इंजीनियरिंग विभाग के अंतर्गत संचालित होगा। पहले चरण में ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट फॉर इंजीनियरिंग (गेट) के जरिए 15 सीटों के सापेक्ष प्रवेश लिए जाएंगे।

विभागाध्यक्ष प्रो. साधना सचान ने बताया कि केमिकल इंजीनियरिंग विभाग ने एमटेक इन बायो प्रोसेस इंजीनियरिंग कोर्स डिजाइन किया है। इस विभाग के अंतर्गत वर्तमान एमटेक केमिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई हो रही है। नए पाठ्यक्रमों में छात्रों को ऐच्छिक विषय चुनने का विकल्प मिलेगा। इस नए पाठ्यक्रम में बीई व बीटेक केमिकल इंजीनियरिंग अथवा बीटेक बायोटेक्नोलॉजी, केमिकल इंजीनियरिंग एंड एलाइड ब्रांच वाले छात्रों को प्रवेश दिया जाएगा।

प्रो. सचान ने बताया कि बायोप्रोसेस इंजीनियरिंग (जैविक प्रणालियों), जैसे बैक्टीरिया और स्तनधारी कोशिकाओं, एंजाइमों और अन्य जैव रासायनिक उत्पादों का उपयोग करके समस्याओं का समाधान करने की तरीके छात्रों को पढ़ाया जाएगा। बायोप्रोसेस इंजीनियर उद्योगों के लिए उपकरण और प्रक्रियाओं के डिजाइन, पर्यवेक्षण और समस्याओं के निस्तारण सीखेंगे। उन्होंने कहा कि फार्मास्युटिकल उद्योग आम तौर पर नवीन दवाओं, फार्मास्यूटिकल्स, एंटीबायोटिक दवाओं और टीकों जैसे पूरकों के लिए विनिर्माण प्रक्रियाओं को विकसित करने और व्यवस्थित करने के लिए बायोप्रोसेस इंजीनियरों की जरूरत होती है। नए जैव रासायनिक गुणों, इम्यूनोजेनेसिटी और प्रोटीन-आधारित फार्मास्यूटिकल्स की प्रभावकारिता की तेजी से पहचान के लिए तरीकों को विकसित किए जाएंगे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें