DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   करियर  ›  लखनऊ विश्वविद्यालय : ऑफलाइन होंगी फाइनल ईयर की परीक्षाएं, ये होगा क्वेश्चन पेपर का पैटर्न
करियर

लखनऊ विश्वविद्यालय : ऑफलाइन होंगी फाइनल ईयर की परीक्षाएं, ये होगा क्वेश्चन पेपर का पैटर्न

कार्यालय संवाददाता,लखनऊPublished By: Pankaj Vijay
Fri, 18 Jun 2021 02:17 PM
लखनऊ विश्वविद्यालय : ऑफलाइन होंगी फाइनल ईयर की परीक्षाएं, ये होगा क्वेश्चन पेपर का पैटर्न

लखनऊ विश्वविद्यालय में स्नातक और परास्नातक के विद्यार्थियों की अंतिम वर्ष की परीक्षा बहुविकल्पीय प्रश्न पत्र (एमसीक्यू) के साथ ऑफलाइन होगी। इसके लिए गुरूवार को विश्वविद्यालय की परीक्षा समिति की ओर से रूपरेखा जारी कर दी है। लंबे समय से छात्र और छात्राएं परेशान थे कि परीक्षा कैसे होगी और उसका प्रारूप क्या होगा। परीक्षा समिति की ओर से रूपरेखा  जारी होने से छात्रों को काफी राहत मिली है। जारी कार्यक्रम के अनुसार, बीकॉम, बीए, बीएससी और स्नातक ललित कला संकाय की वार्षिक परीक्षा होगी जबकि शेष अन्य विषयों की सेमेस्टर परीक्षा होगी।

आंतरिक मूल्यांकन के अंक प्रोन्नति का आधार
प्रथम सेमेस्टर 

परीक्षा नियंत्रक प्रो. एएम सक्सेना ने बताया कि कोविड-19 के दृष्टिगत स्नातक, परास्नातक और डिप्लोमा आदि पाठ्यक्रमों के प्रथम सेमेस्टर दिसम्बर 2020 के छात्र-छात्राओं को आंतरिक मूल्यांकन के अंकों के आधार पर द्वितीय सेमेस्टर में प्रोन्नत किया जायेगा। समस्त विभागाध्यक्षों और महाविद्यालयों के प्राचार्यों को आंतरिक मूल्यांकन के अंक प्राथमिकता के आधार पर पोर्टल पर अपलोड करने के निर्देश दिए हैं।  यदि विश्वविद्यालय व कालेज द्वारा पूर्व में प्रथम सेमेस्टर के अंक पोर्टल पर अपलोड हैं तो उन्हें भेजने की आवश्यकता नहीं है। संक्रमण के चलते किसी छात्र ने प्रथम सेमेस्टर की आतंरिक परीक्षा नहीं दी है तो उनकी परीक्षा पुन: कराकर अंक अपलोड कर दिये जाएं। स्नातक, परास्नातक और डिप्लोमा आदि पाठ्यक्रमों के द्वितीय सेमेस्टर जून के छात्र-छात्राओं के द्वितीय सेमेस्टर (जून) को आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर तृतीय सेमेस्टर में प्रोन्नत किया जायेगा। 

12 अगस्त से पहले हो जाएंगी परीक्षाएं 
लखनऊ विश्वविद्यालय की परीक्षा समिति ने परीक्षा प्रारूप जारी कर दिया है। शुक्रवार को समय सारिणी की जाएगी। संभव है कि जुलाई दूसरे सप्ताह से परीक्षा शुरू कराकर 12 अगस्त से पूर्व परीक्षाएं पूरी करा ली जाएंगी। जानकारों का कहना है कि परीक्षा के दौरान कोविड नियमों का पूरी तरह से पालन किया जाएगा। छात्र-छात्राओं को किसी तरह का संक्रमण न हो इस बात का पूरी तरह से ख्याल रखा जाएगा। छात्र-छात्राओं की सुरक्षा विवि की प्राथमिकता है। 

स्नातक 4 सेमेस्टर 
स्नातक परीक्षा (सेमेस्टर प्रणाली) चतुर्थ सेमेस्टर के छात्रों को उनके तीसरे सेमेस्टर के प्राप्तांकों के आधार अंक निकालकर चतुर्थ सेमेस्टर का परीक्षाफल तैयार होगा। फिर उन्हें पांचवे सेमेस्टर में प्रोन्नत किया जायेगा। ऐसे में चतुर्थ सेमेस्टर की आंतरिक मूल्यांकन की परीक्षा ऑनलाइन व ऑफलाइन करवाकर विभागाध्यक्ष व महाविद्यालय के प्राचार्य के माध्यम से प्राथमिकता के आधार पर पोर्टल पर अपलोड किया जायेगा। स्नातक एवं परास्नातक कक्षाओं के विद्यार्थियों का प्रथम व द्वितीय सेमेस्टर (जिनकी दिसंबर 2020 व जून 2021 की परीक्षा संपन्न नहीं हुयी है) का परीक्षाफल उनके आंतरिक अंक के आधार पर तैयार होगा। इसके बाद द्वितीय से तृतीय सेमेस्टर में चतुर्थ से पांचवे में, छठें से सातवें में और आठवें से नवें सेमेस्टर में प्रोन्नत किया जायेगा। वहीं, एनसीटीई के नियमों के तहत बीएड, एमएड प्रथम सेमेस्टर व अंतिम (चतुर्थ सेमेस्टर) और बीईएलएड प्रथम व अंतिम वर्ष, बीपीएड और एमपीएड प्रथम व अंतिम (चतुर्थ सेमेस्टर) की परीक्षाएं एमसीक्यू प्रणाली से करायी जाएंगी। 

तीसरे सेमेस्टर के अंकों के आधार पर मूल्यांकन

परीक्षा के प्रश्न और समय तय 
ग्रुप         परीक्षा    प्रश्न संख्या    समय

बीकॉम     वार्षिक    100           2घंटा
बीकॉम     सेमेस्टर    80        2 घंटा
बीकॉम आनर्स    सेमेस्टर    35    1घंटा 
एमकॉम     सेमेस्टर    35    1घंटा
बीए     वार्षिक        75    2घंटे
बीए     सेमेस्टर     120    3घंटे
बीए आनर्स    सेमेस्टर    35    1घंटा
एमए    सेमेस्टर    35    1 घंटा 
बीएससी    वार्षिक    75    2 घंटे
बीएससी    सेमेस्टर    120    3 घंटे 
एमएससी    सेमेस्टर    35    1 घंटा 
एलएलबी     सेमेस्टर    50    1.5 घंटा
एलएलबी ऑनर्स    सेमेस्टर    50    1.5 घंटा
बीसीए    सेमेस्टर    35    1 घंटा
बीटेक    सेमेस्टर    35    1 घंटा 
स्नातक ललित कला    वार्षिक    50    1.5घंटा
परास्नातक ललित कला    वार्षिक    35    1घंटा 

नोट: प्रत्येक प्रश्न के लिए दो अंक तय हैं।

संबंधित खबरें