DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   करियर  ›  JNU Admission 2021: जेएनयू ने सेमेस्टर पंजीकरण प्रक्रिया 16 मई तक रोकी

करियरJNU Admission 2021: जेएनयू ने सेमेस्टर पंजीकरण प्रक्रिया 16 मई तक रोकी

वरिष्ठ संवाददाता,नई दिल्लीPublished By: Alakha Singh
Sun, 09 May 2021 10:28 PM
JNU Admission 2021: जेएनयू ने सेमेस्टर पंजीकरण प्रक्रिया 16 मई तक रोकी

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) प्रशासन ने सेमेस्टर पंजीकरण प्रक्रिया पर रोक लगा दी है। कुलसचिव प्रो. अनिर्बान चक्रवर्ती ने आदेश जारी कर कहा है कि 16 मई तक सेमेस्टर पंजीयन प्रक्रिया पर रोक रहेगी। पंजीकरण के लिए छात्रों को अधिक फीस चुकाने का मामला सामने आने के बाद कुलसचिव ने पंजीकरण प्रक्रिया पर रोक लगाने का आदेश जारी किया है। कुलसचिव ने स्पष्ट किया है कि सेमेस्टर फीस में किसी तरह की बढ़ोतरी नहीं की गई है।

जेएनयू कुलसचिव ने पंजीकरण प्रक्रिया पर रोक और फीस न बढ़ाने का आदेश तब जारी किया, जब पंजीकरण पोर्टल छात्रों को 21 हजार गुना अधिक फीस जमा करने को कह रहा था। छात्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पहले सेमेस्टर के छात्रों को दूसरे सेमेस्टर के लिए पंजीकरण कराना था, जिसकी अंतिम तिथि शनिवार थी। जैसे ही शनिवार शाम को छात्रों ने पंजीकरण प्रक्रिया शुरू की तो सेमेस्टर फीस के पोर्टल पर 42 से 43 हजार रुपये जमा कराने का निर्देश आने लगा, जबकि सेमेस्टर फीस 108 से 109 रुपये हैं। ऐसे में छात्रों ने प्रशासन से इसकी शिकायत की थी।

पंजीकरण पोर्टल गलत तो जिम्मेदारी ले प्रशासन
जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष और आइसा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एन साई बालाजी ने कहा कि प्रशासन ने रविवार को स्पष्ट किया है कि कोई फीस नहीं बढ़ाई गई है। हालांकि उन्होंने पोर्टल में तकनीकी गलती भी नहीं स्वीकार की है, लेकिन अगर यह पोर्टल की गलती है, तो इससे कई छात्र दो दिनों तक परेशान रहे हैं। ऐसे में प्रशासन को गलती की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

तीन केंद्रों में ऑनलाइन परीक्षाएं टली
कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच जेएनयू के तीन केंद्रों ने ऑनलाइन परीक्षाएं टाल दी हैं। इसमें सेंटर फॉर स्टडी एंड रीजनल डेवलपमेंट, सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ इकोनामिक्स और स्टडी एंड प्लानिंग ऑफ द स्कूल ऑफ सोशल साइंस शामिल हैं। केंद्रों ने यह फैसला जेएनयू कुलपति प्रो एम जगदेश कुमार की तरफ से विभिन्न विभागों, केंद्रों, स्कूलों के डीन को ऑनलाइन पढ़ाई और परीक्षा को लेकर छात्रों के प्रति नरम रुख अपनाने के निर्देश और छात्रों के अनुरोध के बाद लिया है। असल में कई छात्र और फैकल्टी कोरोना संक्रमित हो गए हैं।

संबंधित खबरें