ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरस्कूली शिक्षा की सुविधा-लर्निंग में बिहार-यूपी से झारखंड बेहतर: रिपोर्ट

स्कूली शिक्षा की सुविधा-लर्निंग में बिहार-यूपी से झारखंड बेहतर: रिपोर्ट

स्कूली शिक्षा में सुविधा और लर्निंग आउटकम के मामले में झारखंड की स्थिति पड़ोसी राज्य बिहार और उत्तर प्रदेश से बेहतर है। इसके बावजूद झारखंड की स्थिति बहुत अच्छी नहीं कही जा सकती है। राज्यों और केंद्र श

स्कूली शिक्षा की सुविधा-लर्निंग में बिहार-यूपी से झारखंड बेहतर: रिपोर्ट
Alakha Singhवरीय संवाददाता,रांचीSat, 08 Jul 2023 07:37 PM
ऐप पर पढ़ें

स्कूली शिक्षा में सुविधा और लर्निंग आउटकम के मामले में झारखंड की स्थिति पड़ोसी राज्य बिहार और उत्तर प्रदेश से बेहतर है। इसके बावजूद झारखंड की स्थिति बहुत अच्छी नहीं कही जा सकती है। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को मिलाकर झारखंड 27 प्रदेशों से पीछे है। यह खुलासा भारत सरकार के शिक्षा विभाग की ओर से कराए गए परफॉर्मेंस ग्रेडिंग इंडेक्स (पीजीआई) रिपोर्ट में हुआ है। इसमें झारखंड को 503.7 अंक मिले हैं, जबकि बिहार को 465 और उत्तर प्रदेश को 501.9 अंक मिले हैं।
2021-22 की इस रिपोर्ट के अनुसार झारखंड को आकांक्षी टू ग्रेड में रखा गया है। इस ग्रेड में झारखंड सहित अन्य 11 राज्य हैं। इस ग्रेड में 461 से 520 तक स्कोर मानक रखा गया था। यह सर्वे आधारभूत संरचना, सुविधा, टीचर ट्रेनिंग, एसेसिबिलिटी, गवर्नेंस, इक्विटी और लर्निंग के आधार पर किया गया था। इसके लिए पीएम पोषण पोर्टल, यू डायस प्लस, नेशनल अचीवमेंट सर्वे (नैस), प्रबंध पोर्टल और विद्याजंलि पोर्टल के डाटा का इस्तेमाल किया गया था।

मात्र आठ राज्यों से आगे है झारखंड
रिपोर्ट में झारखंड मात्र आठ प्रदेशों से आगे है। झारखंड से नीचे बिहार (465), उत्तर प्रदेश (501.9), त्रिपुरा (485.8), तेलंगाना (479.9), नागालैंड (471.5), मिजोरम (453.4), मेघालय (420.6) और अरुणाचल प्रदेश (485.5) हैं। रिपोर्ट में चंडीगढ़ और पंजाब को सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग मिली है। चंडीगढ़ को सबसे अधिक 659 और पंजाब को 647.4 अंक मिले हैं।

झारखंड के पड़ोसी छत्तीसगढ़-ओडिशा आगे
झारखंड के पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ और ओडिशा में स्कूली व्यवस्था बेहतर है। छत्तीसगढ़ को सारी सुविधाओं के आधार पर 521 अंक दिए गए हैं। वहीं ओडिशा को 517.1 अंक मिले हैं। रिपोर्ट के अनुसार झारखंड में स्कूलों में सुविधाओं और लर्निंग आउटकम की स्थिति थोड़ी बेहतर है, लेकिन टीचर ट्रेनिंग, एसेसिबिलिटी और गवर्नेंस आदि मानकों में स्थिति अन्य राज्यों के मुकाबले पीछे है।

ऐसा है पीजीआई मानक

स्कोर  कितने प्रदेश   कैटेगरी

941-100 एक भी नहीं        दक्ष
881-940 एक भी नहीं     उत्कर्ष

821-880 एक भी नहीं   अति उत्तम
761-820 एक भी नहीं उत्तम

701-760 एक भी नहीं प्रचेष्टा 1
641-700 दो राज्य प्रचेष्टा 2

581-640 छह राज्य प्रचेष्टा 3
521-580 13 राज्य  आकांक्षी 1

461-520 12 राज्य आकांक्षी 2
401-460 तीन राज्य  आकांक्षी 3

किस कैटेगरी में कौन सा प्रदेश

प्रचेष्टा - 2 (641-700 स्कोर) : चंडीगढ़ और पंजाब
प्रचेष्टा - 3 (581-640 स्कोर) : गुजरात, केरल, महाराष्ट्र, महाराष्ट्र, दिल्ली, पुडुचेरी व तमिलनाडू।

आकांक्षी - 1 (521-580 13 स्कोर) : अंडमान-निकोबार, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, लक्ष्यद्वीप, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, दादर नगर हवेली एवं दमन-दीव, गोवा, सिक्किम, हरियाणा, पश्चिम बंगाल व हिमाचल प्रदेश।
आकांक्षी - 2 (461-520 स्कोर) : झारखंड, असम, नागालैंड, बिहार, ओडिशा, जम्मू-कश्मीर, तेलंगाना, त्रिपुरा, लद्दाख, उत्तराखंड, मणिपुर व उत्तर प्रदेश।

आकांक्षी - 3 (401-460 स्कोर) : अरुणाचल प्रदेश, मेघालय और मिजोरम।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें