ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरJEE Main Topper:दिन में 15 घंटे पढ़ाई करते थे टॉपर नीलकृष्णा, ऐसा था उनका स्टडी पैटर्न

JEE Main Topper:दिन में 15 घंटे पढ़ाई करते थे टॉपर नीलकृष्णा, ऐसा था उनका स्टडी पैटर्न

JEE Main सेशन 2 की परीक्षा में नीलकृष्णा निर्मलकुमार ने ऑल इंडिया टॉप किया है। अब वह आईआईटी बॉम्बे से कंप्यूटर साइंस में बीटेक करने की इच्छा रखते हैं। आइए जानते हैं, उनके स्टडी पैटर्न के बारे में, कै

JEE Main Topper:दिन में 15 घंटे पढ़ाई करते थे टॉपर नीलकृष्णा, ऐसा था उनका स्टडी पैटर्न
Priyanka Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 25 Apr 2024 10:38 PM
ऐप पर पढ़ें

JEE Main result 2024: नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) मुख्य 2024 सत्र 2 पेपर 1 (बी.टेक और बीई) के रिजल्ट की घोषणा कर दी है। छात्र आधिकारिक वेबसाइट jeemain.nta.nic.in पर नतीजे देख सकते हैं। इस बार 56 उम्मीदवारों ने 100 परसेंटाइल हासिल किए हैं। वहीं जेईई परीक्षा में पहला स्थान गजारे नीलकृष्णा निर्मलकुमार ने हासिल किया है, वह महाराष्ट्र के वाशिम जिले के रहने वाले हैं और एक किसान के बेटे हैं। आइए जानते हैं कैसे उन्होंने शुरू की थी अपनी जेईई की  तैयारी और क्या रहा था उनका स्टडी पैटर्न।

नीलकृष्णा महाराष्ट्र के एक छोटे से गांव से ताल्लुक रखते हैं। वे जानते थे कि गांव में जेईई की तैयारी का इतना स्कोप नहीं है, जिसके बाद अपने गांव से निकलर नागपुर में कोचिंग ली। नीलकृष्णा का पढ़ाई में शुरू से ही काफी मन लगा रहता था, वे शुरू से ही एक होनहार छात्र रहे हैं। उन्होंने 10वीं कक्षा की परीक्षा में 97% अंक हासिल किए थे। बता दें, उन्होंने जेईई मेन 2024 के जनवरी सत्र की परीक्षा भी दी थी, जिसमें 100 परसेंटाइल हासिल किए थे।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट्स के अनुसार नीलकृष्णा ने बताया,जब कक्षा 10वीं की परीक्षा देकर आया था, उसके बाद मैंने अपने प्रश्न पत्र को पूरा विश्लेषण किया था, जिसके बाद कमजोर सब्जेक्ट्स पर फोकस किया था। उन्होंने आगे कहा, जो उम्मीदवार जेईई की परीक्षा में शामिल हो रहे हैं, तैयारी करने से पहले कॉन्सेप्ट का क्लियर होना बहुत जरूरी है।  

नीलकृष्णा ने अपनी जेईई की तैयारी कक्षा 11वीं से शुरू कर दी थी। उन्होंने आईआईटी-जेईई की तैयारी के लिए कक्षा 11वीं में एलन करियर इंस्टीट्यूट में दाखिला लिया था। जिसके बाद उनका ये सफर शुरू हो गया था।

उन्होंने कहा, जब मैंने जेईई की तैयारी कक्षा 11वीं में शुरू की, तो पहले एक या दो महीनों में, मुझे थोड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा था। उस समय मैंने जाना कक्षा 10वीं की तुलना में, कक्षा 11वीं और 12वीं का सिलेबस काफी लंबा चौड़ा है। जिसके बाद मुझे शुरुआत में काफी परेशानी हुई थी, लेकिन कुछ समय बाद मैंने सभी परिस्थितियों का सामना करते हुए हार न मानने का निर्णय लिया और पूरे फोकस के साथ तैयारी शुरू कर दी'

उन्होंने कहा, जेईई की तैयारी के दौरान  रोजाना 10 से 15 घंटे पढ़ाई किया करता था। जेईई की तैयारी के लिए मैंने अपनी पढ़ाई लगातार जारी रखी। ऐसे करने से मुझे काफी लाभ हुआ। नीलकृष्णा ने जेईई परीक्षा की तैयारी करने वाले उन छात्रों को सलाह देते हुए कहा, 'अगर भविष्य में कभी भी आपके सामने ऐसी कठिनाइयां आएं जहां आपको लगे कि शायद आप यह नहीं कर पाएंगे या नहीं हो रहा है, तो अपना लक्ष्य निर्धारित करें और तैयारी लगातार जारी रखें। उन सब्जेक्ट्स को पढ़ें जिसमें आप रुचि रखते हैं और उन्हें बोझ न समझें। अगर आप अपनी तैयारी पूरी ईमानदारी से करेंगे तो यकीन मानिए अच्छा रिजल्ट आपका आगे इंतजार कर रहा है'

नीलकृष्णा ने कहा, 'जेईई एडवांस्ड में मेरा लक्ष्य कंप्यूटर साइंस के लिए आईआईटी बॉम्बे में सीट हासिल करना है और मैं फिलहाल इसके लिए तैयारी कर रहा हूं"

 

 

Virtual Counsellor