DA Image
24 सितम्बर, 2020|7:42|IST

अगली स्टोरी

JEE Main Result 2020: जानें कैसे निकाले जाते हैं जेईई मेन ऑल इंडिया रैंक और पर्सेंटाइल

jee main 2020 result

JEE Main 2020 results : एनटीए ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट jeemain.nta.nic.in पर जेईई मेन रिजल्ट जारी कर दिया है। जेईई मेन परीक्षार्थियों के लिए यह भी जानना जरूरी है कि उनके पर्सेंटाइल और उनकी ऑल इंडिया रैंक कैसे कैलकुलेट की जाती है। जेईई मेन रिजल्ट मार्क्स नॉर्मलाइजेशन की पद्धति से निकाला जाता है। चूंकि परीक्षा कई दिनों तक और कई सेशन में हुई थी, ऐसे में संभव है कि कुछ परीक्षार्थियों का पेपर आसान आया हो और कुछ का मुश्किल। किसी भी परीक्षार्थियों को इससे नुकसान या फायदा न हो, इसके लिए जेईई मेन रिजल्ट और रैंक तय करने के लिए मार्क्स नॉर्मलाइजेशन फॉर्मूले को अपनाया जाता है। एनटीए परीक्षा में प्राप्त पर्सेंटाइल स्कोर के आधार पर ही स्टूडेंट्स की रैंक तय करेगा, न कि उन मार्क्स के आधार पर जो कि उसने परीक्षा में हासिल किए हैं। पर्सेंटाइल स्कोर पहले से तय फॉर्मूले के आधार पर निकाला जाएगा। 

JEE Mains Result 2020 LIVE: JEE मुख्य परीक्षा के नतीजे दोपहर तक आने की उम्मीद, पढ़ें नतीजों से जुड़ा हर अपडेट

पर्सेंटाइल स्कोर में उन सभी स्टूडेंट्स का प्रदर्शन देखा जाता है जो परीक्षा में बैठे थे। इसमें प्रत्येक सेशन के परीक्षार्थियों का स्कोर 100 से 0 के स्केल की रेंज में बदला जाता है। एनटीए की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, 'किसी स्टूडेंट का पर्सेंटाइल स्कोर यह दर्शाता है कि उस परीक्षा में कितने प्रतिशत स्टूडेंट्स के मार्क्स उससे कम आए हैं। यही वजह है कि हर सेशन को टॉपर (सबसे अधिक स्कोर) को एक जैसे 100 पर्सेंटाइल मिल जाते हैं।'

पर्सेंटाइल और परसेंटेज के बीच का अंतर 
पर्सेंटाइल और पर्सेंटेज में फर्क होता है। पर्सेंटेज का अर्थ होता है कि हर सब्जेक्ट में 100 में कितने मार्क्स आए हैं। पर्सेंटेज 100 में से होता है। जबकि पर्सेंटाइल का अर्थ होता है कि कितने उम्मीदवारों के मार्क्स आपसे कम आए हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो आपको कितने छात्रों से ज्यादा नंबर मिले हैं। जितने प्रतिशत लोग आपने नीचे, उतना आपका पर्सेंटाइल होगा। अगर आपका पर्सेंटाइल 90 फीसदी है तो इसका मतलब हुआ कि आपने 90 फीसदी उम्मीदवारों से ज्यादा मार्क्स हासिल किए हैं।

यूं निकाला जाता है आपका पर्सेंटाइल
100 x सेशन में कितने स्टूडेंट्स के मार्क्स आपसे कम आए हैं/ सेशन के कुल स्टूडेंट्स की संख्या

जैसे किसी छात्रों को 70 फीसदी मार्क्स मिले और 70 फीसदी या उससे कम मार्क्स लाने वाले छात्रों की कुल संख्या 15000 है जबकि ग्रुप में कुल छात्रों की संख्या 18000 थी तो पर्सेंटाइल यूं निकाला जाएगा।
100x15000/18000=83.33 फीसदी।

JEE Main 2020 result और ऑल इंडिया रैंक की घोषणा
जेईई मेन के स्कोर की कैलकुलेशन मार्क्स नॉर्मलाइजेशन की पद्धति से होती है। इसमें सभी स्टूडेंट्स को एक लेवल पर लाकर उनकी असल मेरिट/रैंक निकाली जाती है। एक लेवल पर लाने के बाद स्टूडेंट्स के बीच मुश्किल पेपर/आसान पेपर वाला अंतर खत्म हो जाता है। यही पद्धति देश की अन्य कई प्रवेश परीक्षाओं और भर्ती परीक्षाओं में अपनाई जाती है। 

जेईई मार्क्स नॉर्मलाइजेशन का फॉर्मूला - 

एनटीए टाइ-ब्रेकिंग को कम करने के लिए किसी स्टूडेंट का परसेंटाइल स्कोर 7 डेसिमल स्थानों तक निकालेगी। 

यूं तैयार होगी जेईई मेन 2020 की मेरिट/रैंक लिस्ट- 

स्टेप - 1 - परीक्षार्थियों का दो दिन और प्रतिदिन दो शिफ्टों में बंटवारा। 
परीक्षार्थियों को रेंडमली चार सेशन में बांट दिया जाएगा ताकि हर सत्र में बराबर स्टूडेंट्स हो जाए। 

ये चार सत्र इस प्रकार हैं- • सेशन -1: डे- -1 शिफ्ट -1

• सेशन -2: डे- -1 शिफ्ट -2

• सेशन -3: डे- 2 शिफ्ट -1

• सेशन -4: डे- 2 शिफ्ट -2

स्टेप - 2 -  हर सेशन का रिजल्ट तैयार किया जाएगा। 
हर सेशन का जेईई मेन 2020 रिजल्ट इस फॉर्म में तैयार किया जाएगा- 

- रॉ स्कोर यानी पेपर में प्राप्त मार्क्स 
- तीनों विषय में अलग अलग पर्सेंटाइल स्कोर और टोटल स्कोर।

- ये चार पर्सेंटाइल एक सेशन में प्रत्येक छात्र के लिए निकाले जाएंगे -- 

 

स्टेप 3: एनटीए स्कोर का कंपाइलेशन और ओवरऑल मेरिट/रैंक लिस्ट

ऊपर दिए गए चरणों में सभी चारों सत्रों के पेपर में हासिल मार्क्स का पर्सेंटाइल स्कोर निकाला जाता है और अब उसे मर्ज कर दिया जाता है। इसे ही एनटीए स्कोर कहा जाता है। इसी एनटीए स्कोर का इस्तेमाल जेईई मेन 2020 मेरिट लिस्ट / रैंकिंग में किया जाएगा। 

ध्यान रखें कि सभी चारों सेशन का पर्सेंटाइल स्कोर अलग अलग निकाला जाएगा। 

कई सेशन के JEE Result 2020 का कंपाइलेशन और डिस्प्ले 

पहले प्रयास के JEE Main 2020 Result का कंपाइलेशन 
इसमें भी जेईई रिजल्ट के लिए सभी सेशन का एनटीए स्कोर निकाला जाएगा। रिजल्ट में फर्स्ट अटेम्प्ट के टोटल के साथ सभी चारों एनटीए स्कोर ( तीन विषय - मैथ्स, फिजिक्स व केमिस्ट्री ) शामिल होंगे। 

दूसरे प्रयास के JEE Main 2020 Result का कंपाइलेशन भी ऊपर दिए गए तरीके से किया जाएगा। 

रिजल्ट का कंपाइलेशन और मेरिट लिस्ट /  रैंकिंग बनाना 
जेईई मेन रिजल्ट के कंपाइलेशन और मेरिट लिस्ट /  रैंकिंग तैयार करने के लिए प्रत्येक परीक्षार्थी के पहले और दूसरे अटेम्प्ट के चारों एनटीए स्कोर्स को मर्ज किया जाता है। जिन परीक्षार्थियों ने दोनो अटेम्प्ट दिए होते हैं, उनका बेस्ट एनटीए स्कोर ले लिया जाता है। 

ये रहा मैथड और उदाहरण

JEE Main 2020 Result के बाद क्या होता है ?

• जेईई एडवांस्ड के लिए कटऑफ 
एनटीए जेईई एडवांस्ड के लिए कटऑफ जारी करेगा। 2019 में जनरल कैटेगरी का कटऑफ स्कोर 89.75 जबकि ओबीसी (नॉन क्रीमी लेयर -एनसीएल) का कटऑफ 74 था। 

काउंसलिंग / सेलेक्शन की प्रक्रिया 
जेईई मेन और जेईई एडवांस्ड रिजल्ट जारी होने के बाद JoSAA देश के 100 संस्थानों (23 आईआईटी, 31 एनआईटी, 25 आईआईआईटी और 28 अन्य जीएफटीआई संस्थान) में संयुक्त सीट आवंटन की प्रक्रिया आयोजित करती है। जेईई मेन और जेईई एडवांस्ड परीक्षा से जुड़े इंस्टीट्यूट्स में दाखिला सिंगल काउंसलिंग प्लेटफॉर्म के जरिए होता है। 

( यह लेख FITJEE से जुड़े एक एक्सपर्ट ने लिखा है। )
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:JEE Main Result 2020 : know How NTA calculate percentile and All India Rank of jeemain jee mains result