DA Image
1 सितम्बर, 2020|4:44|IST

अगली स्टोरी

JEE Main 2020 : मैथ्स ने छुड़ाए पसीने, जानें पहले दिन कैसा रहा जेईई मेन का पेपर, छात्रों ने क्या कहा

jee main exam at a noida center  photo - pti

JEE Main 2020 Exam : कोविड-19 महामारी के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग और सख्त ऐहतियाती कदमों के बीच मंगलवार को इंजीनियरिंग कॉलेजों में दाखिले के लिये संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई - मेन ) का आयोजन शरू हुआ। परीक्षा में कुछ अभ्यर्थियों को मैथ्स के सवालों ने छकाया। उत्तर प्रदेश में रायबरेली के उत्कर्ष साहू ने कहा कि अगर मैथ्स के कुछ मुश्किल प्रश्नों को छोड़ दिया जाए तो पेपर ठीक रहा। उत्कर्ष ने कहा, 'मैथ्स के कुछ प्रश्न मुझे कठिन लगे। इसके अलावा बाकी पेपर मेरा ठीक रहा।' हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि परीक्षा केंद्र तक स्टूडेंट्स को पहुंचाने के लिए प्रशासन को ट्रांसपोर्ट के बेहतर इंतजाम करने चाहिए। लखनऊ पब्लिक स्कूल के शाश्वत सिंह ने कहा कि पेपर मुश्किल नहीं था। उसे सोल्व करने के लिए काफी समय था। 

लखनऊ की ही अदिति ने कहा, 'मैं पेपर में अपने प्रदर्शन से संतुष्ट हूं। मुझे खुशी है कि आखिरकार एग्जाम हुआ और अब मैं फ्री हूं। परीक्षा केंद्र पर सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजेशन जैसे इंतजाम दुरुस्त थे।'

लखनऊ के रानी लक्ष्मीबाई सीनियर सेकेंडरी स्कूल के मानस मणि और उनके दोस्त दिव्यांश सिंह ने कहा कि परीक्षा आगे बढ़ाई जा सकती थी क्योंकि स्टूडेंट्स की सुरक्षा सर्वोपरी है। 

जेईई अभ्यर्थियों की संख्या के मामले में यूपी दूसरे स्थान पर है। यहां के 66 केद्रों पर मंगलवार को परीक्षा हुई। यूपी से इस बार 100706 स्टूडेंट्स जेईई मेन दे रहे हैं।

दिल्ली 
हरियाणा के रेवाड़ी से रोडवेज बस की मदद से दिल्ली परीक्षा देने आए पुनीत कौशल ने कहा, 'सुरक्षा को लेकर मैं काफी डरा हुआ था। लेकिन जब विवेक विहार स्थित अपने परीक्षा केद्र पहुंचा तो वहां सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजेशन, नए मास्क की अच्छी व्यवस्था थी। सेंटर पर हमें पहनने के लिए नए मास्क दिए गए थे।'

दिल्ली के नायारणा की रहने वाली श्रुति मेहरा ने कहा, 'ओला कैब की स्ट्राइक के चलते मैं काफी डर गई थी कि परीक्षा केंद्र कैसे पहुंचूंगी लेकिन कैसे तैसे मुझे कैब मिल गई। परीक्षा केंद्र पर अच्छे इंतजाम थे। परीक्षा देकर खुश हूं।'

आदित्य ने कहा कि पेपर आसान था। परीक्षा केंद्र में कोविड-19 से बचने के लिए हर संभव कदम उठाए गए थे।  बहुत से स्टूडेंट्स ने जेईई टलने के बाद प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन ले लिया लेकिन जो छात्र आईआईटी ज्वॉइन करना चाहते हैं, जैसे मैं, उन्हें यह परीक्षा देना जरूरी था। 

रांची
रांची की पूजा कुमारी ने कहा, 'पहले काफी डरी हुई थी। लेकिन फिर सोचा कि कोविड का तो कुछ पता नहीं। परीक्षा तो होगी, इस महीने या फिर अगले महीने। सरकार ने इसी माह कराकर अच्छा फैसला लिया। परीक्षा देकर खुश हूं। पेपर मेरी उम्मीद के मुताबिक था। मैथ्स के प्रश्न थोड़े मुश्किल लगे।'

मध्य प्रदेश
भोपाल के विपुल कुमार ने कहा कि कोविड-19 के चलते मैं काफी डरा हुआ था। लेकिन परीक्षा केंद्र के इंतजामों ने मेरा डर हल्का कर दिया। इसके बाद आसान पेपर से मेरी जान में जान आई। 

भोपाल की स्मृति शर्मा ने कहा, 'मुझे मैथ्स वाला भाग थोड़ा मुश्किल लगा।' ग्वालियर के आकाश सिंह ने कहा कि क्वेश्चन पेपर आसान था, खासतौर पर ड्राइंग वाला हिस्सा। 

बिहार 
सासाराम में बीआर्क का पेपर देने वाले सतीश प्रकाश ने कहा कि पेपर आसान था। एप्टीट्यूड सेक्शन में कुछ प्रश्न एक ही टॉपिक से रिपीट थे। 

एक अन्य छात्र सुमित कुमार ने कहा, 'मैथ्स थोड़ा मुश्किल था। एप्टीट्यूट और ड्राइंग सेक्शन आसान थे। परीक्षा केंद्र में हमारी सीटों पर पहले ही रफ शीट रखी थी। कोई भीड़ भाड़ नहीं थी। इनविजिलेटर ने भी मास्क पहना हुआ था।'

मधुबनी में बीआर्क का पेपर देने वाली आस्था ठाकुर ने कहा, 'पेपर मुश्किल नहीं था। एप्टीट्यूड सेक्शन आसान था। मैथ्स टाइम टेकिंग था। कुल मिलाकर पेपर अच्छा था। मुझे अच्छे मार्क्स की उम्मीद है।'

देश में करीब 9 लाख उम्मीदवारों ने आईआईटी, एनआईटी और केंद्र पोषित तकनीकी संस्थानों में इंजीनियरिंग कोर्स में दाखिले के लिये जेईई मुख्य परीक्षा के वास्ते पंजीकरण कराया है। 

गौरतलब है कि कोविड-19 के प्रसार के कारण जेईई मेन्स और मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट के आयोजन को स्थगित करने की मांग की जा रही थी। इससे पहले उच्चतम न्यायालय ने परीक्षा स्थगित करने के संबंध में एक याचिका को खारिज कर दिया था और कहा था कि छात्रों के बहुमूल्य वर्ष को बर्बाद नहीं किया जा सकता।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:JEE Main 2020 Exam Analysis : students find nta jee maths questions difficult on day 1 check answer key updates