DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यहां अपने नाम के आगे 'ड्राइवर' जोड़ रहे हैं शिक्षक, जानें क्यों

Teacher Recruitment

लोकसभा चुनाव 2019 के प्रचार के दौरान बीजेपी के 'मैं भी चौकदार' अभियान से प्रेरित होकर असम के शिक्षको ने ऐसा ही एक अभियान छेड़ा है। यहां के शिक्षकों ने राज्य के शिक्षा मंत्री के खिलाफ 'मैं भी ड्राइवर' नाम से अभियान शुरू किया है। राज्य के शिक्षक अपने फेसबुक पेज व ट्विटर हैंडल्स पर अपने नाम के साथ 'ड्राइवर' शब्द जोड़ रहे हैं। बहुत से शिक्षक सोशल मीडिया पर 'मैं भी ड्राइवर' नाम से पोस्ट शेयर कर रहे हैं। 

दरअसल, ये सरकारी टीचर शिक्षा मंत्री सिद्धार्थ भट्टाचार्य की उस टिप्‍पणी का विरोध कर रहे है जिसमें उन्‍होंने कहा था कि जिन शिक्षकों ने कुछ साल पहले अपना टीचिंग सर्टिफिकेट हासिल किया था, उन्‍हें ड्राइविंग लाइसेंस की तरह से ही रिन्‍यू कराना होगा। 

ibps.in, IBPS RRB 2019: आवेदन प्रक्रिया शुरू, ये रहे Direct Link

टीईटी पास करने वाले शिक्षकों को यह सर्टिफिकेट जारी किया जाता है। क्वालिफाइड शिक्षकों को सरकारी-सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों में नियुक्त किया जाता है। ये परीक्षा राज्य में इससे पहले 2012 में हुई थी। सर्टिफिकेट 7 सालों तक मान्य होता है। 

असम के 41 हजार टीईटी पास शिक्षकों में से कुछ को नियमित किया जा चुका है। ऐसे में शेष अन्य शिक्षक भी उन्हें नियमित करने की मांग कर रहे हैं। राज्य सरकार 7 साल बाद परीक्षा आयोजित करने की योजना बना रही है। राज्य में शिक्षकों के 36500 पद खाली पड़े हैं। 

इससे पहले सोमवार को टीईटी पास हजारों शिक्षकों ने जिला मुख्‍यालयों पर प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारी शिक्षकों ने मंत्री के बयान की निंदा की और अपनी संविदा की नौकरी को नियमित किए जाने की मांग की। 

Indian Navy Recruitment 2019: 12वीं पास के लिए नौसेना में भर्तियां, सेलर की 2700 वैकेंसी

एक शिक्षक ने जोहहाट में अपनी पहचान न बताने की शर्त पर कहा, 'हम ड्राइवर और उनके पेश की इज्जत करते हैं। लेकिन हम शिक्षा मंत्री के बयान का विरोध कर रहे हैं। बड़ी संख्‍या में शिक्षकों ने अपने नाम के आगे 'ड्राइवर' जोड़ लिया है। यह कुछ उसी तरह से है जैसे लोकसभा चुनाव के दौरान पीएम मोदी समेत बीजेपी नेताओं ने अपने नाम के आगे 'चौकीदार' शब्‍द जोड़ लिया था। 

मंत्री ने अपनी सफाई में कहा, 'मेरा बयान महज एक तुलना थी। मैंने बस इतना ही कहा था कि जिस तरह से ड्राइविंग लाइसेंस को रिन्यू किया जाता है उसी तरह से टीईटी क्वालिफाइड टीचर्स को सात सात सालों बाद अपने सर्टिफिकेट रिन्यू कराने चाहिए।'

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Inspired by Chowkidar campaign Assam teachers turn drivers