ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरबीपीएससी में नौकरी के नाम पर दारोगा के बेटे से 40 लाख की ठगी

बीपीएससी में नौकरी के नाम पर दारोगा के बेटे से 40 लाख की ठगी

बिहार में एक दारोगा ने 68वीं बीपीएससी परीक्षा के जरिए सरकारी नौकरी लगवाने का झांसा देकर अपने बेटे से 40 लाख रुपए ठगे जाने का आरोप लगाया है। आरोपी है कि बीपीएससी 68वीं परीक्षा पास कराने के नाम पर 40 ल

बीपीएससी में नौकरी के नाम पर दारोगा के बेटे से 40 लाख की ठगी
Alakha Singhलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 28 Jan 2024 03:53 PM
ऐप पर पढ़ें

बीपीएससी में नियुक्ति के नाम पर एक महिला दारोगा के बेटे से 40 लाख रुपये की ठगी करने का आरोप चिकित्सक दंपती पर लगा है। इस बाबत पीड़ित रितेश कुमार उर्फ सोनू ने जक्कनपुर थाने में डॉक्टर धर्मेंद्र कुमार, उनकी पत्नी व पिता पर केस दर्ज करवाया है। सोनू ने बताया कि डॉक्टर के पिता ब्रज किशोर प्रसाद से उसके परिवार का पुराना संबंध है। बातचीत के दौरान ही ब्रजकिशोर ने सोनू की मां आशा सिंह से उसे बीपीएससी 68वीं में पास करवा देने की बात कही थी।

उन्होंने कहा कि उनके बेटे डॉक्टर धर्मेंद्र की वहां अच्छी पकड़ है। इसके बाद सोनू व उसके परिवार के सदस्य उनके झांसे में आ गये। 10 मई वर्ष 2023 को जब रिजल्ट आया तो उसमें सोनू का नाम नहीं था। डॉक्टर ने बगैर पैसे के रिजल्ट में नाम नहीं आने की बात कही। बीपीएससी 69वीं में उन्होंने पास करवाने की गारंटी ली। सोनू से 40 लाख रुपये तत्काल देने को कहा गया। इसके बाद 23 अगस्त 2023 को पीड़ित ने डॉक्टर के जक्कनपुर स्थित घर जाकर 40 लाख रुपये दिये। उसी वर्ष 30 सितंबर को परीक्षा हुई, लेकिन रिजल्ट में सोनू का नाम नहीं आया। वह समझ गया कि उसे झांसा दिया जा रहा है। उसने डॉक्टर से रुपये की मांग की तो उन्होंने 25 लाख का एक चेक दिया। चेक जमा करने पर पता चला कि उस पर जाली हस्ताक्षर है। फिर पीड़ित ने जक्कनपुर थाने में 21 जनवरी को केस दर्ज करवाया। डॉ धर्मेंद्र पूर्व में कुम्हरार विधान सभा क्षेत्र से चुनाव भी लड़ चुके हैं। वहीं दूसरी ओर जक्कनपुर के प्रभारी थानेदार अजीत कुमार टिंकू ने बताया कि इस मामले की छानबीन की जा रही है।

दंत चिकित्सक बोले- आरोपों में कोई सच्चाई नहीं
दंत चिकित्सक डॉ धर्मेंद्र कुमार ने कहा कि अभी तक मुझे केस होने की जानकारी नहीं दी गई है। यहां तक कि केस करने वाले व्यक्ति को भी मैं नहीं जानता हूं। केस करने से पहले पुलिस को मेरा पक्ष जानना चाहिये था। आरोपों में किसी तरह की सच्चाई नहीं है। जांच के बाद पूरी सच्चाई सामने आ जायेगी। 

Virtual Counsellor