ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरIndependence Day Speech: स्वतंत्रता दिवस पर देने जा रहे हैं भाषण तो इन फैक्ट को भी करें शामिल

Independence Day Speech: स्वतंत्रता दिवस पर देने जा रहे हैं भाषण तो इन फैक्ट को भी करें शामिल

स्वतंत्रता दिवस हर साल 15 अगस्त के दिन मनाया जाता है। इस दिन स्कूलों में भाषण प्रतियोगिता का आयोजन होता है। अगर आपका बच्चा भी इस दिन के लिए स्पीच तैयार कर रहा है, तो उसे स्पीच में इन बातों को जरूर शाम

Independence Day Speech: स्वतंत्रता दिवस पर देने जा रहे हैं भाषण तो इन फैक्ट को भी करें शामिल
Anuradha Pandeyलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीWed, 10 Aug 2022 12:41 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

स्वतंत्रता दिवस हर साल 15 अगस्त के दिन मनाया जाता है। इस दिन स्कूलों में भाषण प्रतियोगिता का आयोजन होता है। अगर आपका बच्चा भी इस दिन के लिए स्पीच तैयार कर रहा है, तो उसे स्पीच में इन बातों को जरूर शामिल करना चाहिए। स्वतंत्रता दिवस से जुड़े ये फैक्ट सभी को पता होने जरूरी हैं।

15 अगस्त 1947 को भारत को ब्रिटिश शासन से आजादी मिली थी। 

भारत की स्वतंत्रता को 75 साल पूरे हो गए हैं, इसलिए इस साल देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। 'हर घर तिंरगा' अभियान भी इसी महोत्सव का एक हिस्सा है। इसका मुख्य उद्देश्य लोगों में देश भक्ति की भावना जागृत करना और और घर पर भारतीय तिरंगे को लहराना है। आपको बता दें कि आजादी के अमृत महोत्सव की शुरुआत 12 मार्च 2011 से की गई थी, जो अब 75 साल पूरे होने पर 15 अगस्त 2022 को खत्म होगी। 

इस दिन हमें उन सभी स्वतंत्रता सैनानियों महात्मा गांधी, भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, सुभाष चंद्र बोस, रानी लक्ष्मी बाई के संघर्ष को याद करना चाहिए, जिन्होंने देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान दे दिया।

1947 में अगर 15 अगस्त के दिन की बात करें तो इस दिन देस के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने लालकिले पर तिरंगा फहराया था, तब से यह परंपरा बन गई है। 

भारत 15 अगस्त को आजाद जरूर हो गया लेकिन उस समय उसका अपना कोई राष्ट्र गान नहीं था। हालांकि रवींद्रनाथ टैगोर 'जन-गण-मन' 1911 में ही लिख चुके थे, लेकिन यह राष्ट्रगान 1950 में ही बन पाया। 

 यह लार्ड माउंटबेटन ही थे जिन्‍होंने निजी तौर पर भारत की स्‍वतंत्रता के लिए 15 अगस्‍त का दिन तय किया क्‍योंकि इस दिन को वह अपने कार्यकाल के लिए बेहद सौभाग्‍यशाली मानते थे। 

epaper