DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रिजल्ट का इंतजार: यूपी में PCS समेत तीन बड़ी नियुक्तियों के रिजल्ट अटके, दो लाख छात्रों को रिजल्ट का इंतजार

UPPCS

पीसीएस, लोअर और समीक्षा अधिकारी-सहायक समीक्षा अधिकारी यानी आरओ-एआरओ लोक सेवा आयोग की यह तीन बड़ी भर्तियां होती हैं। इस समय इन तीनों ही भर्तियों का एक-एक परिणाम अटका हुआ है। इस वजह से डिप्टी कलेक्टर, डिप्टी एसपी सहित विभिन्न प्रकार के 1629 पदों पर चयन नहीं हो पा रहा है। परीक्षा और इंटरव्यू देकर परिणाम का इंतजार कर रहे प्रतियोगियों का आयोग के प्रति असंतोष बढ़ रहा है। प्रतियोगी आयोग में ज्ञापन देकर परिणाम घोषित करने की मांग कर रहे हैं तो उन्हें सिर्फ आश्वासन मिल रहा है। आयोग के अफसरों का कहना है कि भर्तियों की सीबीआई जांच की वजह से आयोग का सामान्य कामकाज प्रभावित हुआ है। इस वजह से देरी हो रही है।

UPPSC: अब स्केलिंग की जांच शुरू करेगी सीबीआई

परीक्षा के डेढ़ साल बाद भी नहीं आया परिणामपीसीएस 2016 की प्रारंभिक परीक्षा 20 मार्च 2016 को हुई थी। 250696 परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी थी। प्री में सफल 12897 अभ्यर्थी 20 सितंबर से आठ अक्तूबर 2016 तक हुई मुख्य परीक्षा में शामिल हुए थे। इस भर्ती से सामान्य चयन के तहत डिप्टी कलेक्टर के 53, डिप्टी एसपी के 52, नायब तहसीलदार 209 समेत 25 प्रकार के कुल 630 पद भरे जाने हैं जबकि विशेष चयन के तहत सहायक सेवायोजन अधिकारी के तीन पदों पर भर्ती होनी है।

आरओ-एआरओ 2016 की प्रारंभिक परीक्षा 27 नवंबर 2016 को हुई थी। इसमें 203261 परीक्षार्थी शामिल हुए थे। 16 माह बाद भी परिणाम का इंतजार है। इस भर्ती से 361 पदों पर चयन होना है।

आयोग किसी भर्ती का इंटरव्यू पूरा होने के एक सप्ताह या अधिकतम 15 दिन बाद अंतिम परिणाम घोषित कर देता है। लेकिन लोअर के इंटरव्यू पूरे हुए लगभग डेढ़ माह हो गए। परिणाम घोषित नहीं हुआ। इंटरव्यू में 2113 अभ्यर्थी शामिल हुए थे। इस भर्ती में सामान्य चयन के तहत 616 और विशेष चयन के तहत 19 पद भरे जाने हैं। सामान्य चयन में सर्वाधिक 196 पद सहकारी निरीक्षक/ सहायक विकास अधिकारी सहकारी समितियां के हैं जबकि विशेष चयन के सभी 19 पद आबकारी निरीक्षक के हैं।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:In UPpcs results on hold of three major appointments including PCS two lakh students wait for the result