DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीबीएसई 10वीं और 12वीं में री-इवैल्यूशन से छात्रों के 20 अंक तक बढ़े

CBSE

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने री-इवैल्यूशन (पुनर्मूल्यांकन) का काम पूरा कर लिया है। सभी छात्रों के मार्क्स को अपडेट करके वेबसाइट पर नया मार्क्स सीट जारी किया गया है। 2018 की तरह इस बार भी पूनर्मूल्यांकन के बाद कई छात्रों के अंक बढ़े हैं। पटना जोन की बात करें तो री-इवैल्यूशन के लिए सैकड़ों छात्रों को फायदा हुआ है। पुनर्मूल्यांकन के बाद विद्यार्थियों के अंक तो बढ़े, लेकिन शिक्षकों की इस लापरवाही पर उन्हें नोटिस देने की तैयारी बोर्ड कर रहा है। बोर्ड की मानें तो 2018 में भी शिक्षकों की यह लापरवाही सामने आयी थीं। 

12वीं और 10वीं के पुनर्मूल्यांकन के लिए दस हजार से अधिक आवेदन आये थे। इसमें पांच हजार से अधिक आवेदन में अंक बढ़ा है। सीबीएसई क्षेत्रीय कार्यालय सूत्रों की मानें तो सात से 20 अंक तक छात्रों को मिले हैं। रिजल्ट सभी छात्रों को व्यक्तिगत रूप से भेजे गये हैं। इसके अलावा बोर्ड वेबसाइट पर भी अपडेट रिजल्ट को डाला गया है। 

जिन छात्रों के अंक में बदलाव हुए हैं, उन छात्रों को पहले वाले अंक पत्र बोर्ड के पास सरेंडर करने होंगे। छात्रों को सीबीएसई क्षेत्रीय कार्यालय में जाकर अपना अंक पत्र वापस करना होगा। क्योंकि अंक बढ़ने के बाद जो अंक पत्र विद्यार्थियों को जारी किये जाएंगे, वहीं मान्य होगा। बोर्ड ने डिजिलॉकर में भी नये अंक पत्र को अपलोड कर दिया है। 

सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज ने बताया, मूल्यांकन के समय भी कई निर्देश दिये गये थे। लेकिन शिक्षकों की लापरवाही का खामियाजा विद्यार्थियों को भुगतना पड़ा। इसके लिए शिक्षकों को शोकॉज किया जायेगा। इसके साथ जुर्माना भी लगाया जायेगा। जो भी शिक्षक पकड़ में आयेंगे, उन्हें मूल्यांकन से अलग रखा जायेगा।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:in class 10 and 12 cbse re evaluation 20 marks increased