ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरदिग्गज कंपनी ने आईआईटी दिल्ली में ऑफर किया 1.6 करोड़ का सैलरी पैकेज, फिर वापस लिया

दिग्गज कंपनी ने आईआईटी दिल्ली में ऑफर किया 1.6 करोड़ का सैलरी पैकेज, फिर वापस लिया

IIT campus placement : कुछ दिनों पहले जोमैटो ने आईआईटी दिल्ली में 1.6 करोड़ के सैलरी पैकेज की जॉब ऑफर की थी। लेकिन इसके बाद दिग्गज ऑनलाइन फूड डिलिवरी कंपनी ने अपना ऑफर वापस ले लिया।

दिग्गज कंपनी ने आईआईटी दिल्ली में ऑफर किया 1.6 करोड़ का सैलरी पैकेज, फिर वापस लिया
Pankaj Vijayलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 28 Nov 2023 05:31 PM
ऐप पर पढ़ें

देश के दिग्गज तकनीकी संस्थानों आईआईटी में प्लेसमेंट सीजन शुरू होने वाला है। आईआईटी से पढ़ाई कर रहे बीटेक छात्रों को कैंपस प्लेसमेंट में नामी कंपनियों से मोटे सैलरी पैकेज पाने की उम्मीद है। इंतजार के बीच जोमैटो के जॉब ऑफर पर यूटर्न से आईआईटी दिल्ली कैंपस में खलबली मच गई है। कुछ दिनों पहले जोमैटो ने आईआईटी दिल्ली में 1.6 करोड़ के सैलरी पैकेज की जॉब ऑफर की थी। लेकिन इसके बाद दिग्गज ऑनलाइन फूड डिलिवरी कंपनी ने अपना ऑफर वापस ले लिया। जोमेटो ने आईआईटी दिल्ली में एल्गोरिदम इंजीनियर की जॉब ऑफर की थी। 

आईआईटी दिल्ली के रिसर्च इंटर्न ऋतिक तलवार ने सोशल मीडिया पर इस खबर को शेयर किया। उन्होंने हाई-प्रोफाइल नौकरी के अवसर का नोटिस पोस्ट किया और यह भी खुलासा किया कि जोमैटो ने तुरंत अपना प्रस्ताव वापस ले लिया, जिससे कैंपस सकते में आ गया। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर शेयर की गई तलवार की पोस्ट काफी तेजी से वायरल हो गई। पोस्ट एक स्क्रीनशॉट शामिल है जिसमें छात्रों से कंपनी से जुड़ी दिक्कतों के कारण अपने आवेदन वापस लेने का आग्रह किया गया था। कुछ यूजर्स ने चौंकाने वाले इस सैलरी ऑफर की प्रामाणिकता पर सवाल उठाया। साथ ही यह भी अंदेशा लगाया कि यह एक टाइपोग्राफिक त्रुटि हो सकती है। 16 लाख की जगह 1.6 करोड़ लिख दिया होगा। कुछ ने कहा कि यह जोमैटे की मार्केटिंग की चाल थी। तलवार ने एक्स पर दावा किया कि कहानी बिल्कुल सही है।

हालांकि ऐसा करने वाली सिर्फ जोमैटो एकमात्र कंपनी नहीं है। गूगल और मेटा जैसे बड़े तकनीकी दिग्गजों ने इस साल की शुरुआत में भी ऐसा ही किया है।

इस साल जनवरी में मेटा ने कई लोगों के फुल टाइम जॉब के ऑफरों को रोक दिया था जो कि कंपनी जॉइन करने के लिए पूरी तरह तैयार थे। मेटा ने कहा भी था कि उसके लिए यह निर्णय काफी कठिन था, लेकिन वह उन नौकरियों को प्राथमिकता देना चाहती थी जो अधिक महत्वपूर्ण थीं।  

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें