DA Image
30 मार्च, 2021|12:56|IST

अगली स्टोरी

यूपी में IAS, IPS, PCS, UPSSSC फ्री कोचिंग : लाभार्थियों ने CM योगी पूछा, क्या UPSC की तैयारी तक अभ्युदय योजना से जुड़े रहेंगे?

up panchayat election gram pradhan bdc candidates will get relief from a decision of yogi government

यूपी में IAS, IPS, PCS, UPSSSC फ्री कोचिंग : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को एनेक्सी भवन के सभागार में अभ्युदय योजना के लाभार्थियों से सीधा संवाद किया। सभागार में मौजूद तकरीबन 300 अभ्यर्थियों में सीएम से संवाद को लेकर खासी उत्सुकता थी। हालांकि तीन छात्राओं को ही सीएम से सीधा सवाल करने का मौका मिला। मुख्यमंत्री ने बेबाकी के साथ उनके सवालों के जवाब दिए। साथ ही प्रतियोगिता के इस कठिन दौर में देश का जिम्मेदार नागरिक बनाने के साथ सफलता हासिल करने के लिए निरंतर प्रयास की जरूरत को रेखांकित भी किया। आगे देेखिए कुछ अभ्यर्थियों के सवाल और सीएम योगी के जवाब-

अर्पणा मिश्रा: आप संत हैं, देश के सबसे बड़े प्रदेश के मुख्यमंत्री भी हैं। दोनों दायित्व के साथ आप कैसे समन्वय स्थापित करते हैं?
सीएम योगी आदित्यनाथ : सनातन हिन्दू धर्म की बात करें या भारत में जन्मे किसी भी व्यक्ति की बात करें तो योगी और सीएम दोनों का लक्ष्य लोक कल्याण है। इसलिए मेरा दायित्व है कि लोक कल्याण के मार्ग पर चल कर राष्ट्रधर्म का निवर्हन करूं। व्यक्ति के सामने कोई दुविधा, उसे त्रिशंकु की तरह लटका देती है। मेरे समक्ष कोई दुविधा नहीं है। लक्ष्य एवं धर्म दोनों निर्धारित है। धर्म का मतलब वह नहीं जो सामान्य अर्थों में लोग समझते हैं। मेरा धर्म राष्ट्रधर्म है, जो मुझे मेरे कर्तव्यों, मूल्यों एवं आदर्शों के बारे में सदैव सचेत करता है। पूजा पद्धति, उपासना विधि मेरी व्यक्तिगत साधना का हिस्सा है। उसे मै कैसे करूं, या किसी व्यक्ति को कैसे करना है, उस पर थोप नहीं सकता। लेकिन राष्ट्रधर्म हर व्यक्ति का निर्धारित है, वह सभी पक्ष देश, काल और परिस्थिति में सब पर समान रूप से लागू होता है। राष्ट्रधर्म का पालन करने वाला कोई भी व्यक्ति अपने पवित्र लक्ष्य एवं उद्देश्य को हासिल कर सकता है। जीवन में लक्ष्य को हासिल करने के लिए दुविधा न रखें। दुविधा में दोनों गए माया मिली न राम। इसलिए मन में दुविधा न रखें।

शोभा सिंह: गाजीपुर जिले से यहां आकर अभ्युदय कोचिंग ज्वॉइन की हूं। यूपीएससी के लिए पूरी तरह तैयारी न हो जाए, क्या तब तक इस योजना से जुड़े रहेंगे?
सीएम योगी आदित्यनाथ: व्य
क्ति को सफलता प्राप्ति के लिए धैर्य खोए बगैर अनवरत प्रयास करना चाहिए। अभ्युदय में ऑनलाइन और भौतिक रूप से भी कक्षाएं ले सकते हैं। डिजिटल लाइब्रेरी के जरिए स्मार्ट फोन में दुनिया के ज्ञान को आप समेट सकते हैं। आज की पीढ़ी के लिए यह सब कुछ बहुत सुलभ और सहज हो गया है। असफलता से व्यक्ति को घबराना नहीं चाहिए। प्रयास में कमी नहीं है, फिर भी असफलता मिलती है तो मान कर चलिए कि कोई खुशखबरी आपके जीवन में आने वाली है। इसलिए असफलता से घबरा कर पलायन का रास्ता नहीं अपनाना चाहिए। भगवान कृष्ण ने गीता में कहा है कि हमें न दीनता दिखानी है, न पलायन का रास्ता अपनाना है। हमें बस अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अहर्निश प्रयास करना है। अहर्निश प्रयास का ही नाम है अभ्युदय योजना है।

दीक्षा पाण्डेय: भारत को विश्व स्तर पर सशक्त राष्ट्र बनाने के लिए हम सब को क्या प्रयास करना होगा?
सीएम योगी आदित्यनाथ:
राष्ट्र निर्माण का काम केवल राष्ट्राध्यक्ष ही नहीं करता है। यह ठीक ऐसे ही है जैसे एक घर को सुव्यवस्थित रूप से संचालित करने के लिए परिवार के हर सदस्य को कुछ न कुछ करना होता है। उसी तरह से देश की व्यवस्था में प्रत्येक नागरिक को अपना योगदान करना होगा। नेतृत्व हमें नई उंचाइयों पर ले जा सकता है लेकिन इसके साथ हर क्षेत्र में काम करने वाले नागरिकों का भी दायित्व है कि वह अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देने के साथ अपने कर्तव्यों का पालन करें। हमारा संविधान हमें मौलिक अधिकारों के साथ कर्तव्यों के प्रति भी आगाह करता है। हम कर्तव्यों का पालन करने लगे तो देश, दुनिया की नई ताकत बन जाएगा। छह वर्षो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत की स्थिति वैश्विक पटल पर मजबूत हुई है। आज भारत के प्रति दुनिया का नजरिया सकारात्मक हुआ है। कोविड 19 के काल में भी दुनिया में हमें सम्मान मिला है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:IAS IPS PCS UPSSSC Free Coaching in UP: The beneficiaries asked CM Yogi will they be connected to Abhyudaya Yojana till the preparation of UPSC