ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरPhD के बाद असिस्टेंट प्रोफेसर बनने पर कैसे मिलेगा प्रोफेसर का पद, जानें क्या हैं UGC NET व अनुभव के नियम

PhD के बाद असिस्टेंट प्रोफेसर बनने पर कैसे मिलेगा प्रोफेसर का पद, जानें क्या हैं UGC NET व अनुभव के नियम

असिस्टेंट पोफेसर बनने के बाद आप प्रोफेसर कैसे बनेंगे। करीब 8 वर्ष के बाद एसोसिएट प्रोफेसर और फिर लगभग 3 वर्ष बाद आप प्रोफेसर बन सकते हैं। जानें पीएचडी, यूजीस नेट, पीजी और अनुभव को लेकर क्या है नियम।

PhD के बाद असिस्टेंट प्रोफेसर बनने पर कैसे मिलेगा प्रोफेसर का पद, जानें क्या हैं UGC NET व अनुभव के नियम
Pankaj Vijayआशीष आदर्श, करियर काउंसलर,नई दिल्लीThu, 13 Jun 2024 08:14 AM
ऐप पर पढ़ें

किसी भी विश्वविद्यालय में आपकी पहली पोस्टिंग असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर होती है, जिसके लगभग 8 वर्ष के बाद एसोसिएट प्रोफेसर और फिर लगभग 3 वर्ष बाद आप प्रोफेसर बन जाते हैं। परंतु इस क्षेत्र में प्रवेश करने के लिए केवल पीएचडी पर्याप्त नहीं है। सरकार द्वारा विभिन्न राज्यों में सरकारी विश्वविद्यालयों में नियुक्ति के लिए विभिन्न आयोग बनाये गए हैं, जो ये नियुक्तियां करते हैं। देश के ज्यादातर आयोगों द्वारा निर्धारित नियुक्ति प्रक्रिया में दो चरण होते हैं - अकादमिक वेरिफिकेशन और इंटरव्यू। अकादमिक वेरिफिकेशन में आपके ग्रेजुएशन, पीजी, यूजीसी नेट, पीएचडी, आर्टिकल पब्लिकेशन, टीचिंग एक्सपीरियंस एवं नेशनल या इंटरनेशनल अवॉर्ड पर अलग-अलग अंक निर्धारित किये गए हैं।

इंटरव्यू में विषय का ज्ञान और टीचिंग एप्टीट्यूड की परख की जाती है। ग्रेजुएशन और पीजी में आपके प्राप्तांक के आधार पर अंक निर्धारित होते हैं। मसलन, ग्रेजुएशन में 80 फीसदी से अधिक अंक होने पर 15 नंबर, 60 फीसदी से अधिक अंक होने पर 13 नंबर और 60 फीसदी से कम अंक पर 10 नंबर दिए जाते हैं, वहीं पोस्ट ग्रेजुएशन में 80 फीसदी से अधिक पर 25 नंबर, 60 फीसदी से अधिक पर 23 और 60 फीसदी से कम अंक पर 20 नंबर निर्धारित हैं। यदि यूजीसी नेट जेआरएफ किया है, तो 7 नंबर और केवल यूजीसी नेट किया है, तो 5 नंबर मिलेंगे। 

टीचिंग अनुभव पर प्रति वर्ष 2 अंक मिलेंगे और यह अधिकतम 5 वर्षों के लिए होगा। यही नियम प्रकाशित लेखों पर भी मान्य होगा। उसके बाद इंटरव्यू होता है। आयोग या विश्वविद्यालय द्वारा नियुक्ति अधिसूचना को देखें।

मैं कॉमर्स से ग्रेजुएट हूं और मुझे ट्रेड फाइनेंस का कुछ वर्षों का अनुभव है। कृपया आय के विकल्प बताएं।
नवीन प्रकाश

एक्सपर्ट का जवाब- भारतीय बैंक अपने यहां स्पेशल कैडर ऑफिसर के तौर पर उन ग्रेजुएट्स को नियुक्ति करते हैं, जिनके पास किसी बैंक में न्यूनतम दो वर्षों का ट्रेड फाइनेंस में काम का तजुर्बा हो और अधिकतम आयु 32 वर्ष हो। इन्हें ट्रेड फाइनेंस ऑफिसर कहा जाता है। एसबीआई द्वारा ये नियुक्ति नियमित रूप से की जाती है। आप बैंकों के नियुक्ति विज्ञापन पर नजर रखें।

Virtual Counsellor