ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरGandhi Jayanti Speech In Hindi : गांधी जयंती पर भाषण हिंदी में, जल्दी से हो जाएगा याद

Gandhi Jayanti Speech In Hindi : गांधी जयंती पर भाषण हिंदी में, जल्दी से हो जाएगा याद

Gandhi Jayanti Speech: देशभर में 2 अक्टूबर का दिन गांधी जयंती के रूप में मनाया जाता है। अगर आप भी  भाषण व निबंध प्रतियोगिता में हिस्सा लेना चाह रहे हैं तो यहां से देख सकते हैं या आइडिया ले सकते हैं। 

Gandhi Jayanti Speech In Hindi : गांधी जयंती पर भाषण हिंदी में, जल्दी से हो जाएगा याद
Pankaj Vijayलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 02 Oct 2022 08:04 AM
ऐप पर पढ़ें

Gandhi Jayanti Speech In Hindi: देशभर में 2 अक्टूबर का दिन गांधी जयंती के रूप में मनाया जाता है। इसी दिन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म हुआ था। गांधी जी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था। देशभर में गांधी जयंती के उपलक्ष्य में राष्ट्रीय अवकाश होता है। महात्मा गांधी के बलिदान और देश को आजादी कराने में उनके बेहद महत्वपूर्ण योगदान के लिए उन्हें राष्ट्रपिता का ओहदा दिया गया है। 
गांधी जयंती के दिन बापू द्वारा दी गई शिक्षाओं को याद करने के लिए देशभर में और पूरे विश्व में कई कार्यक्रम होते हैं। स्कूल-कॉलेजों में इस दिन वाद विवाद, भाषण व निबंध प्रतियोगिताएं होती हैं। अगर आप भी  भाषण व निबंध प्रतियोगिता में हिस्सा लेना चाह रहे हैं तो यहां से देख सकते हैं या आइडिया ले सकते हैं। 

सभी आदरणीय अध्यापक गण और प्यारे मित्रों, आप सबको मेरा प्रणाम
आज गांधी जयंती के अति महत्वपूर्ण दिवस के अवसर पर हम एकत्रित हुए है। मुझे महात्मा गांधी पर दो शब्द कहने के अनुमति देने के लिए आप सबका धन्यवाद। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म गुजरात के पोरबंदर में 2 अक्टूबर 1869 को हुआ। लोग उन्हें आदर के साथ बापू कहकर बुलाते थे। आज पूरा देश गांधी जयंती को राष्ट्रीय पर्व के रूप में मना रहा है और उन्हें श्रद्धंजलि दे रहा है। महात्मा गांधी की ताकत सत्य और अहिंसा के सिद्धांत थे। सत्य और अहिंसा के रास्ते पर चलकर उन्होंने आजादी की लड़ाई में कई आंदोलन किए और अंग्रजों को भारत छोड़ने पर मजबूर कर दिया। 

गांधी जी के पास अद्भुत नेतृत्व क्षमता थी। गांधी जी से प्रभावित होकर लोग आजादी की लड़ाई से जुड़ते रहे। उन्होंने अपने प्रभावशाली व्यक्तित्व व विचारों  से स्वतंत्रता आंदोलन को धार दी। गांधी जी समाज में फैली बुराइयों जैसे छुआछूत, शराब, जातीय भेदभाव, असमानता, महिलाओं के साथ भेदभाव के भी घोर विरोधी थी।

Gandhi Jayanti Quotes , Messages, Photo : गांधी जयंती पर शेयर करें बापू के ये अनमोल विचार और फोटो मैसेज

उनके अहिंसा के सिद्धांत को पूरी दुनिया ने सलाम किया, यही वजह है कि पूरा विश्व आज का दिन अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के तौर पर भी मनाता है। महात्मा गांधी की महानता, उनके कार्यों व विचारों के कारण ही 2 अक्टूबर को स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस की तरह राष्ट्रीय पर्व का दर्जा दिया गया है। 

वैसे तो गांधी जयंती पर बापू को याद करने के लिए देश भर में कार्यक्रम होते हैं लेकिन प्रमुख कार्यक्रम दिल्ली के राजघाट पर होता है। राजघाट गांधी जी का समाधि स्थल है। गांधी जयंती पर देश के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री व अन्य नेतागण राजघाट आकर बापू की समाधि पर श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। प्रार्थना सभा में राम धुन व गांधी जी के प्रिय भजनों का गान होता है। 

महात्मा गांधी के विचार हमेशा से न सिर्फ भारत, बल्कि पूरे विश्व का मार्गदर्शन करते आए हैं और आगे भी करते रहेंगे। अब मैं अपने भाषण पर विराम लगाना चाहूंगा। आपने मुझे अपने विचार रखने का मौका दिया, इसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद।
जय हिंद। जय भारत। भारत माता की जय। 

Gandhi Jayanti 2022: महात्मा गांधी जयंती पर जानें उनके जीवन से जुड़ी 20 दिलचस्प बातें
इन विषयों पर आप भाषण दे सकते हैं -(  Gandhi Ji Speech Ideas )
गांधी जी का 21वीं सदी में अर्थ
गांधी जी के आंदोलन जिन्होंने जिलाई आजादी,
गांधी जी का विद्यार्थियों को मैसेज
मानवता और गांधी जी
गांधी जी की आज के दौर में प्रासंगिकता
बापू और अहिंसा
बैरिस्टर से लेकर एक राष्ट्र के पिता तक का सफर.
शिक्षा पर गांधी जी के विचार
मानव जाति के लिए गांधी के संदेश
'अछूत' प्रथा पर गांधी की विचारधारा
हरिजन कल्याण में गांधी जी का योगदान
गांव के जीवन को लेकर गांधी जी के विचार
एक समाज सुधारक के तौर पर गांधी जी

Gandhi Jayanti Speech Tips : ऐसे तैयार करें स्पीच व भाषण
- सबसे पहले अच्छी कविता, शायरी या गांधी जी का कोई कोट्स पढ़ सकते हैं जिससे लोगों का ध्यान आकर्षित होगा।
- सभी शिक्षकों, सहपाठियों नमन करते हुए गांधी जयंती की शुभकामना दें।
- पूर्व गर्व व जोश के साथ अपने भाषण को शुरू करें।
- स्पीच को सरल शब्दों में कहने का प्रयास करें.
- भाषण में गांधी जी के जीवन से जुड़ी बातों का जिक्र जरूर करें। 
- अपने भाषण को सीमित रखें क्योंकि छात्र ज्‍यादा लंबा भाषण पसंद नहीं करते।
- बोलने से पहले भाषण का कई बार अभ्‍यास कर लें।

epaper