ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरGandhi jayanti 2022:गांधी जी के इन विचारों से लें प्रेरणा, गांधी जी के इन कोट्स को अपने जीवन में अपनाएं

Gandhi jayanti 2022:गांधी जी के इन विचारों से लें प्रेरणा, गांधी जी के इन कोट्स को अपने जीवन में अपनाएं

Gandhi jayanti 2022 आज दो अक्टूबर के दिन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म हुआ था। संयुक्त राष्ट्र ने 15 जून 2007 को महात्मा गांधी के जन्म दिन 2 अक्तूबर को विश्व अहिंसा दिवस के रुप में घोषित किया था।

Gandhi jayanti 2022:गांधी जी के इन विचारों से लें प्रेरणा, गांधी जी के इन कोट्स को अपने जीवन में अपनाएं
Anuradha Pandeyलाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीSun, 02 Oct 2022 08:16 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

आज दो अक्टूबर के दिन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म हुआ था। संयुक्त राष्ट्र ने 15 जून 2007 को महात्मा गांधी के जन्म दिन 2 अक्तूबर को विश्व अहिंसा दिवस के रुप में घोषित किया था। महात्मा गांधी की जयंती भारत सहित दुनिया के कई  देशों में मनाई जा रही है। गांधी जी ने भारत को आजाद करने के लिए हमेशा सत्य और अहिंसा का मार्ग अपनाया था। गांधी जी के विचार तब भी महत्वपूर्ण थे और आज भी गांधी जी के विचार प्रासंगिक है। गांधी जी के सत्य व अहिंसा के रास्ते पर चलकर ही समाज और देश का विकास हो सकेगा। गांधी जी ने सत्य और अहिंसा के साथ स्वच्छता का भी रास्ता अपनाया था, इसलिए गांधी जी के बताये रास्ते पर चलने के लिए लोगों को अपने आसपास साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देना चाहिए। ताकि स्वच्छता के साथ बीमारी दूर हो सके। आप भी आज गांधी जयंती के मौके पर अपनों को उनके सिद्धांतों को अपनाएं और उनके इन विचारों कों अच्छे से समझें।

Gandhi Ji Speech in hindi: गांधी जयंती की मौके पर यहां पढ़ें उनसे जुड़ी ये खास बातें

किसी देश की महानता और उसकी नैतिक उन्नति का अंदाजा हम वहां जानवरों के साथ होने वाले व्यवहार से लगा सकते हैं।

स्वास्थ्य ही है असली धन सोने और चांदी के टुकड़े नहीं।

कमज़ोर कभी माफ नहीं कर सकते। क्षमा ताकतवर की विशेषता है।

विश्वास को हमेशा तर्क से तौलना चाहिए, जब विश्वास अंधा हो जाता है तो मर जाता है

जब तक गलती करने की स्वतंत्रता ना हो तब तक स्वतंत्रता का कोई अर्थ नहीं है

भगवान का कोई धर्म नहीं। सभी धर्मों इज्जत करें।

थोडा सा अभ्यास बहुत सारे उपदेशों से बेहतर है

गौरव लक्ष्य पाने के लिए कोशिश करने में हैं, न कि लक्ष्य तक पहुंचने में

 

epaper