ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरपुनर्वास विवि में चार नए कोर्स की शुरुआत होगी

पुनर्वास विवि में चार नए कोर्स की शुरुआत होगी

डॉ. शकुंतला मिश्रा National Rehabilitation University में परास्नातक और डिप्लोमा स्तर के दो-दो पाठ्यक्रमों की शुरूआत होगी। टेलीकम्युनिकेशन सेंटर की स्थापना की जाएगी। जिससे दूरदराज गांव में रह

पुनर्वास विवि में चार नए कोर्स की शुरुआत होगी
Anuradha Pandeyप्रमुख संवाददाता,लखनऊWed, 15 May 2024 08:07 AM
ऐप पर पढ़ें

डॉ. शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय में इसी सत्र से परास्नातक और डिप्लोमा स्तर के दो-दो पाठ्यक्रमों की शुरूआत होगी। टेलीकम्युनिकेशन सेंटर की स्थापना की जाएगी। जिससे दूरदराज गांव में रहने वाले मूक-बधिर बच्चों का निशुल्क उपचार किया जा सके। यह प्लान ऑडियोलॉजी एवं स्पीच लैंग्वेज पैथोलॉजी विभाग ने संकायाध्यक्ष प्रोफेसर वीके सिंह की अगुवाई में आगामी एक, तीन और पांच वर्ष के लिए तैयार किया है। जिसे कुलपति प्रो. संजय सिंह को मंगलवार को सौंपा गया।

ऑडियोलॉजी एवं स्पीच लैंग्वेज पैथोलॉजी के सहायक आचार्य सुशांत गुप्ता ने बताया कि शैक्षिक सत्र 2024-25 से पीजी स्तर पर एमएससी इन ऑडियोलॉजी और एमएससी इन स्पीच लैंग्वेज पैथोलॉजी कोर्स की शुरूआत होगी। जबकि एक-एक वर्ष के डिप्लोमा और पीजी डिप्लोमा कोर्स भी आरंभ किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन ऑडिटरी वर्बल थेरेपी और डिप्लोमा इन हियरिंग एंड ईयर मोल्ड को भी प्रारंभ किया जा रहा है। इसके लिए भारतीय पुनर्वास परिषद, नई दिल्ली से मान्यता प्राप्त होने के बाद आवेदन शुरू होंगे। सुशांत गुप्ता का कहना है कि एक वर्ष में स्पीच लैंग्वेज पैथोलॉजी लैब को एडवांस उपकरणों के लैस भी किया जाएगा।

साल के डिप्लोमा और पीजी डिप्लोमा होंगे शुरू

मूक-बधिर बच्चों को घर बैठे मिलेगा इलाज

सहायक आचार्य मानसी दोषी ने बताया कि विवि में टेलीकम्युनिकेशन सेंटर की शुरूआत होने जा रही है। इससे दूरदराज गांवों में रहने वाले मूक-बधिर बच्चों तक निशुल्क इलाज की सुविधा पहुंचाएंगे। भाषा दोष एवं श्रवण बाधित बच्चों को ठीक करने के लिए मुफ्त स्पीच थेरेपी और जांच करेंगे। उनका कहना है कि विवि ने लगभग पांच गांवों को गोद लिया है। इन्हीं गांवों से शुरूआत की जाएगी।

शोध करने पर देंगे ग्रांट

सहायक आचार्य सुशांत गुप्ता के मुताबिक विभाग ने अगले पांच वर्ष में रिसर्च एंड डेवलेपमेंट सेंटर की स्थापना करने की योजना बना रखी है। दिव्यांगता के क्षेत्र में शोध करने वाले शोधार्थियों को ग्रांट प्रदान करेंगे। बता दें कि पुनर्वास विवि के सात विद्यार्थियों का कैंपस प्लेसमेंट हुआ।

Virtual Counsellor