foreign university is fake or genuine: Soon government portal to tell if a foreign university is genuine PM Modi flagged the ordeal - विदेशी यूनिवर्सिटी कहीं फर्जी तो नहीं, सरकारी पोर्टल से जान सकेंगे छात्र, पीएम मोदी ने दिए थे आदेश DA Image
23 नवंबर, 2019|1:33|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विदेशी यूनिवर्सिटी कहीं फर्जी तो नहीं, सरकारी पोर्टल से जान सकेंगे छात्र, पीएम मोदी ने दिए थे आदेश

fake deegree in bulandshahr

कई भारतीय विद्यार्थी विदेश में फर्जी विश्वविद्यालयों के चक्कर में फंस जाते हैं और उन्हें भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इस बात पर चिंता जाहिर करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अधिकारियों को एक पोर्टल लॉन्च करने का आदेश दिया है जिससे विदेशी विश्वविद्यालयों की सत्यता की जांच की जा सके। इस पोर्टल से विद्यार्थी यह पता लगा सकेंगे कि विदेश में स्थित जिस विश्वविद्यालय में वे दाखिला लेने जा रहे हैं, वह विश्वविद्यालय मान्य है या फर्जी। सरकारी सूत्रों के मुताबिक पिछले कुछ सालों से भारतीय विद्यार्थी विदेश में स्थित कई ऐसे फर्जी विश्वविद्यालयों में दाखिला ले लेते हैं जिनकी मान्यता है ही नहीं। उसके बाद न सिर्फ उनका पैसा डूब जाता है बल्कि उन्हें बीजा संबंधित कई परेशानियों का सामना करना पड़ता। पोर्टल की रूपरेखा को आईटी विभाग जल्द ही अंतिम रूप देगा। 

प्रधानमंत्री ने चिंता जाहिर की
अधिकारियों के मुताबिक बुधवार को प्रगति बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद इस पहल को आगे बढ़ाने के लिए कहा है। बैठक में प्रधानमंत्री ने इस बात चिंता जाहिर की विदेश में कई भारतीय विद्यार्थियों को जानकारी के अभाव में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। वे बिना मान्यता वाले विश्वविद्यालयों के चक्कर में पड़ जाते हैं। इस समस्या से निजात पाने के लिए विद्यार्थियों ने सरकार से गुहार लगाई थी। प्रधानमंत्री के सामने यह मामला तब आया जब वे विदेश में रह रहे भारतीयों की समस्याओं से संबंधित शिकायतों वाले मामले की समीक्षा कर रहे थे। 

दूतावास ने जारी की थी एडवाइजरी

हाल ही में इस संबंध में अमेरिका स्थित भारतीय दूतावास ने एडवाइजरी जारी कर सलाह दी थी कि भारतीय विद्यार्थी अमेरिकी संस्थानों में पूरी तरह पड़ताल करने के बाद ही दाखिला लें। दूतावास ने भारतीय छात्रों को कहा था कि सिर्फ वेबसाइट में दिए गए दावे पर विश्वास न करें, उसकी पूरी गतिविधियों की पड़ताल करें। फैकल्टी, पाठ्यक्रम, कैंपस और वीजा संबंधी कई बारीकियों की पड़ताल करने के बाद भारतीय छात्र विदेशी संस्थानों में दाखिला लेने के बारे में विचार करें।  

ऐसे करते हैं धोखाधड़ी
कुछ अमेरिकी विश्वविद्यालय भारतीय विद्यार्थियों को अपने संस्थान में नियमित स्टूडेंट वीजा दिलाकर दाखिला देते हैं लेकिन वह कई तरह के वीजा कानून का उल्लंघन कर ऐसा करने में कामयाब हो जाते हैं। ऐसी स्थिति में अमेरिकी वीजा कानून के मुताबिक विद्यार्थियों की गिरफ्तारी या अमेरिका से निकालने की नौबत भी आ जाती है। इसी जनवरी में ऐसे करीब 129 भारतीय विद्यार्थियों को गिरफ्तार किया गया था, जिन्होंने फर्जी संस्थानों में दाखिला लिया था। डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्योरिटी ने हाल ही में अमेरिका के डेटरॉयट में फार्मिंग्टन यूनिवर्सिटी का पता लगाया है जो इस तरह की गतिविधियों में संलिप्त थी। एक भारतीय अधिकारी ने बताया कि अगर यूनिवर्सिटी अमेरिका के सक्षम प्राधिकार द्वारा प्रमाणित भी है और उसमें स्टूडेंट एंड एक्सचेंज विजिटल प्रोग्राम (एसईवीआईएस) के तहत विद्यार्थियों को शामिल भी किया है, तो भी इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि वह संस्थान हर मानदंड में उपयुक्त है।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:foreign university is fake or genuine: Soon government portal to tell if a foreign university is genuine PM Modi flagged the ordeal