DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   करियर  ›  मध्य प्रदेश में पहली से 8वीं कक्षा के लिए दूरदर्शन और रेडियो पर शैक्षणिक कार्यक्रम आज से

करियरमध्य प्रदेश में पहली से 8वीं कक्षा के लिए दूरदर्शन और रेडियो पर शैक्षणिक कार्यक्रम आज से

एजेंसी,भोपालPublished By: Saumya Tiwari
Thu, 01 Apr 2021 06:07 AM
मध्य प्रदेश में पहली से 8वीं कक्षा के लिए दूरदर्शन और रेडियो पर शैक्षणिक कार्यक्रम आज से

मध्यप्रदेश में स्कूल शिक्षा विभाग कक्षा पहली से आठवीं के विद्यार्थियों के लिए एक अप्रैल से पूवार्नुसार ही दूरदर्शन और रेडियो पर शैक्षणिक कार्यक्रम का प्रसारण होगा। आधिकारिक जानकारी के अनुसार यह शैक्षणिक गतिविधियां रेडियो पर प्रात: 10 से 11 और सांय 5 से 5:3० बजे तक एवं दूरदर्शन पर दोपहर 12 से ०1:3० बजे तक संचालित की जाएंगी। दूरदर्शन पर कक्षा छठवीं से आठवीं के लिए विज्ञान, गणित एवं सामाजिक विज्ञान में विषय आधारित शिक्षण कार्यक्रम का प्रसारण किया जाएगा।

 इसी प्रकार रेडियो पर कक्षा पहली से आठवीं के लिए पाठ्यपुस्तक आधारित हिंदी, गणित, अंग्रेजी विषयों में और सांयकालीन प्रसारण में खेल, योग, कला, म्यूजिक, यातायात नियम जैसे विषयों पर कार्यक्रम प्रसारित किए जाएंगे। सभी जिलों के कलेक्टर्स को उक्त संबंध में शैक्षणिक गतिविधियां प्रारंभ करने के लिए समुचित निदेर्श जारी करने हेतु कहा गया है।

डिजीलेप (डिजिटल लर्निंग एन्हांसमेंट प्रोग्राम) के अंतर्गत कक्षा पहली, दूसरी के पाठ्यपुस्तक आधारित वीडियो तथा कक्षा तीसरी से आठवीं के लिए दक्षता उन्नयन गतिविधि आधारित वीडियो प्रतिदिन व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से शिक्षकों, पालकों और विद्यार्थियों को उपलब्ध कराए जाएंगे। शिक्षकों के द्वारा इन वीडियो पर क्विज, प्रश्न आदि से सीखे गए विषयों के आधार पर विद्यार्थियों का मूल्यांकन किया जाएगा।

कोविड 19 वायरस की वर्तमान परिस्थितियों और विद्यार्थियों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखकर नवीन शैक्षणिक सत्र 2०21-22 में कक्षाओं का ऑनलाइन संचालन किया जाएगा। सत्र 2020-21 में कोविड-19 के कारण कक्षा पहली से आठवीं के विद्यार्थियों के लिए नियमित कक्षाओं का संचालन नहीं हो सका है। इस कारण संपूर्ण सत्र में शैक्षणिक गतिविधियों को रेडियो स्कूल, डिजीलैप और दूरदर्शन के माध्यम से आयोजित करके शिक्षण प्रक्रिया जारी रखी गई है। संपूर्ण सत्र को'हमारा घर-हमारा विद्यालय'की अवधारणा पर पलकों एवं शिक्षकों के सहयोग से शिक्षण प्रक्रिया सुचारू रखने के प्रयास किए गए हैं।

संबंधित खबरें