ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरUPSC रिजल्ट में DU का डंका, दिल्ली पुलिसकर्मियों के बच्चे भी आगे, देश के नंबर 1 कॉलेज की 4 लड़कियां टॉप 50 में

UPSC रिजल्ट में DU का डंका, दिल्ली पुलिसकर्मियों के बच्चे भी आगे, देश के नंबर 1 कॉलेज की 4 लड़कियां टॉप 50 में

दिल्ली पुलिसकर्मियों के बच्चों और डीयू के विभिन्न कॉलेजों से पढ़ाई करने वाले छात्रों ने संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन किया है। उनकी इस सफलता पर परिवार से लेकर पड़ोसियों तक में खुशी ह

UPSC रिजल्ट में DU का डंका, दिल्ली पुलिसकर्मियों के बच्चे भी आगे, देश के नंबर 1 कॉलेज की 4 लड़कियां टॉप 50 में
Pankaj Vijayप्रमुख संवाददाता,नई दिल्लीThu, 18 Apr 2024 03:33 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली पुलिसकर्मियों के बच्चों और दिल्ली विश्वविद्यालय के विभिन्न कॉलेजों से पढ़ाई करने वाले छात्रों ने संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन किया है। उनकी इस सफलता पर परिवार से लेकर पड़ोसियों तक में खुशी है। दिल्ली पुलिस कमिश्नर की ओर से ट्वीट करके इस पर बधाई दी गई है। मिरांडा हाउस की बेटियों ने बाजी मारी डीयू के मिरांडा हाउस कॉलेज, राजधानी कॉलेज, सेंट स्टीफंस कॉलेज सहित अन्य कॉलेजों के विद्यार्थियों ने संघ लोक सेवा आयेाग (यूपीएससी) में बेहतर प्रदर्शन किया है। पहले ही प्रयास में दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस कालेज की छात्रा रहीं डोनुरु अनन्या रेड्डी ने देशभर में तीसरा स्थान हासिल किया। 

नौशीन ने 9वां स्थान हासिल किया वहीं, सेंट स्टीफेंस की रुहानी ने पांचवी रैंक हासिल की है। एसजीटीबी खालसा कॉलेज से पढ़ाई करने वाली नौशीन ने 9वां स्थान हासिल किया है। राजधानी कॉलेज के अर्पित कुमार यादव ने 136वीं रैंक हासिल की है। मिरांडा हाउस से कुल पांच छात्राओं ने यह पूरीक्षा उत्तीर्ण की है। टॉप 50 में चार इसी कॉलेज की हैं। आपको बता दें कि भारत सरकार की एनआईआरएफ कॉलेज रैंकिंग में मिरांठा हाउस बीते कई सालों से नंबर वन बना हुआ है। कॉलेज की शिक्षिका डा.हेना सिंह का कहना है कि हमें उम्मीद है कि और छात्राओं ने यह सफलता अर्जित की है। हम उनका डाटा जुटा रहे हैं। दयाल सिंह कॉलेज के एक शिक्षक ने फेसबुक पर लिखा है कि उनके पांच छात्रों ने यह परीक्षा उत्तीर्ण की है।

प्रतिभा बोलीं, परिवार के साथ से मिली कामयाबी दिल्ली पुलिस के एसआई की बेटी 26 वर्षीय प्रतिभा के लिए यह दूसरा प्रयास था। प्रतिभा अपने परिवार के साथ गुरुग्राम में रहती हैं। उनके पिता दिल्ली पुलिस की सुरक्षा इकाई में तैनात हैं जबकि मां हरियाणा के स्वास्थ्य विभाग में तैनात हैं। प्रतिभा का कहना है कि मैं भाग्यशाली थी कि मेरे परिवार ने बहुत समर्थन किया और हमेशा मुझे अपने घर में पढ़ाई का माहौल दिया। यह मेरा दूसरा प्रयास था और मैं आईपीएस अधिकारी बनना चाहती हूं। उन्होंने अपने भाई के मार्गदर्शन से खुद ही सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी की और 356वीं रैंक हासिल की। उन्होंने गणित में बीएससी और एमएससी की पढ़ाई की है।

बेटी सृष्टि डबास की सफलता पर पिता गदगद
दिल्ली पुलिस के एक अन्य एएसआई की बेटी सृष्टि डबास, जिन्होंने छठी रैंक हासिल की वह भी काफी खुश हैं। ट्रैफिक यूनिट में तैनात एएसआई संजीव डबास ने कहा कि यह मेरी बेटी का पहला प्रयास था और उसने यह परीक्षा पास कर ली। मैं उस पर बहुत खुश और गर्व महसूस कर रहा हूं। अपनी नौकरी करते हुए उसने इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए कुछ ऑनलाइन कक्षाएं लेने के अलावा खुद ही पढ़ाई की।

इंटरव्यू से पहले मां का निधन, लेकिन हौसला नहीं टूटा
तिलक मार्ग थाने में तैनात दिल्ली पुलिस के एएसआई की बेटी रूपल राणा ने 26वीं रैंक हासिल की है। वह अपने परिवार के साथ लाजपत नगर पुलिस कॉलोनी में रहती हैं। उनके पिता जसबीर राणा ने कहा कि परीक्षा में सफल होने के लिए वह रोजाना लगभग 12 घंटे पढ़ाई करती थी। यह उसका तीसरा प्रयास था और वह इस साल बहुत आशान्वित थी। उन्होंने कहा, वह जानती थी कि परीक्षा में सफलता हासिल करेगी, लेकिन उसने कभी इतनी अच्छी रैंक की उम्मीद नहीं की थी। यूपीएससी परीक्षा के दौरान रूपल के लिए यह कठिन समय था क्योंकि अंतिम साक्षात्कार से ठीक दो महीने पहले उनकी मां का निधन हो गया था। रूपल की मां की मौत हार्ट अटैक से हुई थी। उनके पिता ने बताया कि मां के निधन के बाद भी बेटी ने उम्मीद नहीं खोई और कड़ी मेहनत से अपनी मां का सपना पूरा किया। उन्होंने कहा कि हमारे परिवार में आज तक कोई भी इतने ऊंचे पद पर नहीं पहुंचा है।

पवन ने मेहनत से हासिल किया लक्ष्य
क्राइम ब्रांच में तैनात दिल्ली पुलिस के सब-इंस्पेक्टर पवन कादियान के बेटे उदित कादियान ने 375वीं रैंक हासिल की है और उन्हें आईपीएस अधिकारी बनने की उम्मीद है। दिल्ली के नजफगढ़ के निवासी एसआई पवन ने कहा, उदित हमेशा एक आईपीएस अधिकारी बनना चाहते थे। उन्होंने कहा कि मैं जब भी घर लौटता था तो उसे हमेशा पढ़ाई करते हुए पाता था। कुछ दिनों में वह सुबह 4-5 बजे तक पढ़ाई करता था। द्वारका में सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) के रूप में दिल्ली पुलिस में तैनात अधिकारी मनोज कुमार ने भी सिविल सेवा परीक्षा 2023 उत्तीर्ण की है।
 

Virtual Counsellor