DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

DU Admission 2019: फर्जी दाखिला हुआ तो कॉलेज जिम्मेदार

डीयू ने मंगलवार को स्पष्ट कर दिया है कि अगर किसी कॉलेज में फर्जी दाखिला होगा तो उसके लिए कॉलेज ही जिम्मेदार होगा। ऐसी स्थिति न हो इसके लिये सभी कॉलेजों को फोरेंसिक एक्सपर्ट से प्रमाणपत्र चेक कराने के लिए कहा गया है। डीयू में दाखिला से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि विगत कुछ वर्षों में कई कॉलेजों में फर्जी दाखिले के मामले सामने आए हैं। ऐसे मामले उजागर होने पर कॉलेज ने नामांकन रद भी किया है, लेकिन ऐसी स्थिति ही क्यों हो? इसलिये डीयू के सभी कॉलेजों को फोरेंसिक एक्सपर्ट से दाखिला के समय उन प्रमाणपत्रों को चेक करने के लिए कहा गया है, जिसका ऑनलाइन वैरिफिकेशन नहीं हो सकता। 

टूल के सबंध में जानकारी दी
साउथ कैंपस में मंगलवार को आयोजित हुये कॉलेजों के प्रतिनिधियों को एलिजिबिलिटी चेक टूल के बारे में कंप्यूटर सेंटर के डॉयरेक्टर डॉ. संजीव सिंह ने बताया। उन्होंने सभी नोडल अधिकारियों को यह बताया कि इसका प्रयोग वह दाखिला के समय कैसे कर सकते हैं? उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि यह टूल सुझाव और सहूलियत के लिये है। 
फोरेंसिक एक्सपर्ट द्वारा प्रमाणपत्रों की जांच के बारे में एक कॉलेज प्रिंसिपल का कहना है कि यह एक महंगा तरीका है। कॉलेजों को डीयू की तरफ से दाखिला से जुड़ी कोई मदद नहीं मिलती है। कई कॉलेजों को तो एक साल बाद फीस मिली है। ऐसे फोरेंसिक एक्सपर्ट का खर्च भी कॉलेज के स्टूडेंट्स फंड से ही लिया जाएगा। 

DU Admission 2019: एक टूल बताएगा छात्र एडमिशन के योग्य है या नहीं

बीए प्रोग्राम की कटऑफ से जुड़े कई सवाल
साउथ कैंपस कॉलेज में आयोजित नोडल अधिकारी की बैठक में डीयू के अधिकारियों के समक्ष सबसे अधिक सवाल बीए प्रोग्राम में विषय संयोजन को लेकर अलग-अलग कटऑफ कैसे निकाली जाए और ईडब्ल्यूएस की कटऑफ कैसे निकाली जाए के संबध में पूछे गए। ज्ञात हो कि डीयू 159 विषयों के संयोजन की अलग-अलग कटऑफ कॉलेज जारी करेंगे। 

DU Cut off 2019: St Stephen ने जारी की कटऑफ, 28 जून से इंटरव्यू

छात्रों के अंकों की जानकारी देगा
डीयू जो डाटा कॉलेजों को देगा उसमें पहले से कई श्रेणियां बनाकर देगा, जिससे कटऑफ तय करने में कॉलेजों को आसानी हो। इसके लिए 90-95 फीसदी और 95-100 फीसदी अंक पाने वाले छात्रों की भी जानकारी अलग से देगा। ताकि कटऑफ तय करने में किसी तरह की परेशानी न हो। 

एक बार ही दाखिला रद कर पाएंगे
डीयू के एक अधिकारी का कहना है कि प्राय: एक कटऑफ में छात्र मनचाहा कॉलेज नहीं मिलने पर एक से दो बार दाखिला रद करा देते थे। लेकिन डीयू ने स्पष्ट किया है कि एक कटऑफ के तहत कॉलेज एक बार ही दाखिला रद करा पायेंगे। ज्ञात हो कि डीयू ने इस बार केवल पांच कटऑफ की तिथि घोषित की है। 

सभी बैंकों से भुगतान
डीयू के वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि अब छात्रों को पेमेंट के लिये सहूलियत दी गई है। वह किसी भी बैंक से डीयू दाखिला के समय कॉलेज का भुगतान कर सकते हैं। इसके अलावा यदि छात्र दाखिला कैंसिल कराकर दूसरे कॉलेज में दाखिला लेता है, जहां पर फीस कम है तो बची हुई फीस फिर से छात्र के खाते में आ जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:du admission 2019: In case of fake admission related college will be responsible