ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरमनीष सिसोदिया ने बताया, सरकारी स्कूलों के छात्रों में क्या-क्या आए बदलाव

मनीष सिसोदिया ने बताया, सरकारी स्कूलों के छात्रों में क्या-क्या आए बदलाव

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया गुरुवार को खेड़ा खुर्द स्थित सर्वोदय कन्या विद्यालय में सुबह की प्रार्थना सभा में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने छात्रों से विभिन्न विषयों पर सीधे संवाद किया। देशभक

मनीष सिसोदिया ने बताया, सरकारी स्कूलों के छात्रों में क्या-क्या आए बदलाव
Priyanka Sharmaप्रमुख संवाददाता,नई दिल्लीThu, 29 Sep 2022 11:05 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया गुरुवार को खेड़ा खुर्द स्थित सर्वोदय कन्या विद्यालय में सुबह की प्रार्थना सभा में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने छात्रों से विभिन्न विषयों पर सीधे संवाद किया। देशभक्ति, हैप्पीनेस को लेकर बच्चों से पूछा कि उनकी जिंदगी में कैसा बदलाव आया है। इस मौके पर एक छात्रा ने कहा कि पहले वह जातिगत भेदभाव में विश्वास रखती थी, लेकिन देशभक्ति कक्षा में उसकी यह धारणा टूटी है। छात्रा ने कहा कि पाठ्यक्रम के माध्यम से यह जानने और समझने में मदद मिली कि स्वतंत्रता आंदोलन में लोगों ने जाति-धर्म से ऊपर उठकर देश की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी।

उपमुख्यमंत्री ने एक पुराने वाक्या का जिक्र किया कि कैसे एक सरकारी स्कूल में बच्चे ने मुझे जबाव दिया था कि सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे देश का भविष्य नहीं होते बल्कि प्राइवेट स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे देश का भविष्य होते हैं। उन्होंने कहा कि पिछले 7 सालों में दिल्ली की शिक्षा व्यवस्था में कई क्रांतिकारी बदलाव आए हैं। अब सरकारी स्कूल के बच्चे न केवल खुद को देश का भविष्य मानते हैं बल्कि यह भी सोच पैदा हुई है कि कैसे अपने काम की बदौलत समाज और देश की तरक्की में अपना योगदान दे सकते हैं। अब किसी काम के साथ उनकी सोच केवल रोजगार पाने तक सीमित नहीं है बल्कि बच्चे यह सोचने लगे हैं कि कैसे उनके काम से समाज व देश प्रभावित होगा।

पढ़ें - Bihar NEET PG 2022: जारी हुई मेरिट लिस्ट, bceceboard.bihar.gov.in पर डायरेक्ट देखें

छात्रों ने गिनाईं बदलाव से जुड़ी उपलब्धियां

संवाद के दौरान 12वीं की एक छात्रा ने एंत्रप्रेन्योरशिप माइंडसेट पाठ्यक्रम के अपने अनुभवों को साझा किया। उसने कहा कि इस पाठ्यक्रम से नौकरी उपलब्ध कराने की प्रेरणा मिली है। पहले वो किसी से बातचीत करने में हिचकती थी, लेकिन ईएमसी और बिज़नेस ब्लास्टर्स ने उसके कम्युनिकेशन स्किल्स को बेहतर बनाया है, जिससे नेतृत्व क्षमता भी पैदा हुई है।

सेजल ने शुरू किया अपना स्टार्ट-अप

उपमुख्यमंत्री ने एसकेवी खेड़ा खुर्द की छात्रा रही सेजल से भी मुलाकात की। सेजल ने इसी वर्ष 12वीं कक्षा उतीर्ण की है और दिल्ली सरकार के बिजनेस ब्लास्टर्स प्रोग्राम के पहले साल का हिस्सा भी थी। सेजल ने इस प्रोग्राम के जरिये हर्बल प्रोडक्ट्स का अपना स्टार्ट-अप शुरू किया और सालभर में लाखों का बिजनेस किया है। सेजल ने अपने स्टार्ट-अप कंपनी के लिए जीएसटी नंबर भी लिया है और अपने इस बिजनेस के माध्यम से वो 20 लोगों को रोजगार दे रही है। उसने बताया कि एंटरप्रेन्योरशिप माइंडसेट के जरिए अपना कारोबार करने का विचार आया।

 

epaper