DA Image
हिंदी न्यूज़ › करियर › स्कूल और कॉलेज खोलने को लेकर दिल्ली सरकार ने छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों से मांगे सुझाव
करियर

स्कूल और कॉलेज खोलने को लेकर दिल्ली सरकार ने छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों से मांगे सुझाव

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Pankaj Vijay
Wed, 28 Jul 2021 02:43 PM
स्कूल और कॉलेज खोलने को लेकर दिल्ली सरकार ने छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों से मांगे सुझाव

दिल्ली सरकार ने स्कूल व कॉलेज खोलने को लेकर छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों से सुझाव मांगे हैं। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को कहा कि छात्रों, अभिभावकों और शिक्षक अपनी राय दें कि क्या अब स्कूल और कॉलेज फिर से खुल जाने चाहिए। अगर हां तो उन्हें किन नियमों के आधार पर खोला जाए ताकि सुरक्षा व्यवस्था ठीक हो। सुझाव ईमेल आईईडी delhischool21@gmail.com पर भेजे जा सकते हैं। सुझावों पर विचार करने के बाद स्कूल व कॉलेज खोलने पर अंतिम निर्णय लिया जाएगा। 

दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, 'दिल्ली के सभी सरकारी स्कूलों में पिछले कई दिनों से बच्चों के पेरेंट्स को बुलाया जा रहा है। करीब पांच लाख पेरेंट्स स्कूल आकर शिक्षकों से मिल चुके हैं। यह एक अच्छी सफलता है। मैं भी पेरेंट्स से मिला। पेरेंट्स चाहते हैं कि स्कूल खुले लेकिन सुरक्षा को लेकर उनमें कई सवाल हैं। दिल्ली में स्कूल और कॉलेज खोलने से पहले मैं स्कूल और कॉलेज के छात्रों, प्रिंसिपल, शिक्षकों और माता-पिता से पूछना चाहता हूं कि क्या अब हमें स्कूल और कॉलेज खोल देना चाहिए? अगर खोलना चाहिए तो आपके इस पर क्या सुझाव हैं?' 

सिसोदिया ने कहा, 'अन्य कई राज्यों में स्कूल खुल चुके हैं, कइयों में अगस्त की शुरुआत में खोले जा रहे हैं। दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामले काफी कम हो गए हैं। कोविड काबू में है। इसलिए ईमेल पर अपने सुझाव भेजें।' 

जानें अन्य राज्यों में क्या है स्थिति

उत्तराखंड
उत्तराखंड में छठी कक्षा से ऊपर के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय, पॉलीटेक्निक और मेडिकल कॉलेज दो अगस्त से खुलेंगे। स्कूल, कॉलेजों में कोविड नियमों का सख्ती से पालन कराने के लिए अलग से गाइड लाइन जारी की जाएगी।

पंजाब
पंजाब में सोमवार से दसवीं और 12वीं के छात्रों के लिए ऑफलाइन कक्षाएं बहाल कर दी गईं। हालांकि, राज्य सरकार ने केवल उन शिक्षकों और कर्मचारियों को स्कूल आने की अनुमति दी है, जिन्हें कोविड-19 टीके की दोनों खुराक हासिल हो चुकी है। यही नहीं, स्कूलों के लिए बच्चों की उपस्थिति को लेकर अभिभावकों की लिखित अनुमति लेना अनिवार्य किया गया है। स्कूल में छात्रों और स्टाफ के लिए हर समय मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी होगा। प्रवेश द्वार पर थर्मल स्क्रीनिंग के साथ-साथ सैनेटाइजर की व्यवस्था करना अनिवार्य रहेगा। एक डेस्क पर सिर्फ एक ही छात्र बैठ सकेगा।

गुजरात 
गुजरात में सोमवार से नौवीं, दसवीं और 11वीं के छात्रों के लिए स्कूल खोल दिए गए। 12वीं के छात्रों के लिए ऑफलाइन कक्षाएं 15 जुलाई को ही बहाल की जा चुकी हैं। स्कूल प्रबंधन को 50 फीसदी उपस्थिति के साथ कक्षाएं संचालित करने का आदेश दिया गया है। प्रवेश के समय थर्मल स्क्रीनिंग के अलावा छात्रों और स्टाफ का हर समय मास्क पहने पहने और सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल करना अनिवार्य है। हालांकि, छात्रों पर स्कूल आने की बाध्यता नहीं है। उन्हें बुलाने के लिए स्कूल प्रबंधन का माता-पिता की लिखित अनुमति हासिल करना जरूरी है। घर से पढ़ाई के इच्छुक छात्रों के लिए ऑनलाइन कक्षाएं जारी रहेंगी

मध्य प्रदेश
मध्य प्रदेश में कोविड अनुकूल व्यवहार के अनुपालन के साथ सोमवार से 11वीं और 12वीं के छात्रों के लिए स्कूल खोल दिए गए। हालांकि, छात्रों को अभिभावकों की लिखित अनुमति के बाद ही स्कूल में प्रवेश मिलेगा। यही नहीं, जो छात्र घर से पढ़ाई में ज्यादा सहज हैं, उनके लिए ऑनलाइन कक्षाएं जारी रहेंगी। स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से जारी आदेश के तहत मध्य प्रदेश में 12वीं के छात्रों के लिए सोमवार और गुरुवार को ऑफलाइन कक्षाएं संचालित की जाएंगी। वहीं, 11वीं के छात्रों के लिए मंगलवार और शुक्रवार का दिन निर्धारित किया गया है। राज्य में पांच अगस्त से नौवीं और दसवीं की कक्षाएं भी शुरू करने की तैयारी है।

ओडिशा 
ओडिशा में सोमवार को लगभग तीन महीने बाद दसवीं से 12वीं तक के छात्रों के लिए स्कूल खोल दिए गए। हर स्कूल में एक ‘आइसोलेशन रूम’ स्थापित किया गया है। इसमें उन छात्रों, शिक्षकों और स्टाफ को रखा जाएगा, जिनमें कोरोना संक्रमण से मिलते-जुलते लक्षण उभरते हैं। स्कूल में मौजूद सभी लोगों का मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य है।

आंध्र प्रदेश
16 अगस्त से 50 फीसदी उपस्थिति के साथ ऑफलाइन कक्षाएं शुरू करने की घोषणा की गई है। 

हरियाणा
16 जुलाई से नौवीं से 12वीं, जबकि 23 जुलाई से छठवीं से आठवीं तक के छात्रों के लिए ऑफलाइन कक्षाएं बहाल हुईं, अभिभावकों की लिखित अनुमति दिखाने वाले छात्रों को ही मिल रहा प्रवेश। 

हिमाचल 
कोरोना के कहर में कमी को देखते हुए हिमाचल सरकार ने दो अगस्त से दसवीं से 12वीं तक के छात्रों के लिए स्कूल खोलने का ऐलान किया है। 

छत्तीसगढ़
छत्तीसगढ़ में भी दो अगस्त से कक्षा 12 के छात्रों के लिए ऑफलाइन कक्षाएं बहाल हो जाएंगी। हालांकि, सिर्फ वही छात्र स्कूल जा सकेंगे, जिनके पास अभिभावकों की लिखित अनुमति होगी। दोनों राज्यों में सभी स्कूलों के लिए कोविड प्रोटोकॉल का पालन अनिवार्य रहेगा।

संबंधित खबरें