ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरजानें- दिल्ली में कब से शुरू होंगे नर्सरी से फर्स्ट क्लास के एडमिशन, पढ़ें डिटेल्स

जानें- दिल्ली में कब से शुरू होंगे नर्सरी से फर्स्ट क्लास के एडमिशन, पढ़ें डिटेल्स

दिल्ली के स्कूलों में नर्सरी दाखिले के लिए दाखिले की प्रक्रिया एक बार फिर से शुरू होने जा रही है। दिल्ली के स्कूलों में 10,329 सीटें खाली हैं। दिल्ली स्थित स्कूलों में नर्सरी से कक्षा 1 तक अपने बच्चों

जानें- दिल्ली में कब से शुरू होंगे नर्सरी से फर्स्ट क्लास के एडमिशन, पढ़ें डिटेल्स
Priyanka Sharmaलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSat, 01 Oct 2022 08:58 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

Delhi nursery admission 2022-23:दिल्ली के स्कूलों में नर्सरी दाखिले के लिए दाखिले की प्रक्रिया एक बार फिर से शुरू होने जा रही है। दिल्ली के स्कूलों में 10,329 सीटें खाली हैं। दिल्ली स्थित स्कूलों में नर्सरी से कक्षा 1 तक अपने बच्चों का नामांकन करने के इच्छुक अभिभावक 3 अक्टूबर से ऐसा कर सकते हैं। प्रवेश प्रक्रिया आधिकारिक वेबसाइट edudel.nic.in पर वार्ड के पंजीकरण के साथ ऑनलाइन शुरू होगी। आवेदन सह पंजीकरण प्रक्रिया 10 अक्टूबर को समाप्त होगी।

दिल्ली शिक्षा विभाग के अनुसार, कुल सीटों में से 55881 सीटें ईडब्ल्यूएस और डीजी कैटेगरी के छात्रों के लिए हैं, जबकि CDWSN कैटेगरी के लिए कुल 4448 सीटें खाली हैं।

ऑनलाइन ड्रा के आधार पर सीटों का आवंटन किया जाएगा। मौजूदा शेड्यूल के अनुसार ऑनलाइन ड्रा 14 अक्टूबर को होगा। शैक्षणिक वर्ष 2022-23 के लिए दिल्ली के स्कूलों में नर्सरी प्रवेश के लिए आवेदन करने वाले बच्चों की आयु तीन वर्ष से अधिक और चार वर्ष से कम होनी चाहिए। केजी वर्ग में आवेदन करने वालों के लिए, उनकी आयु चार वर्ष से अधिक और पांच वर्ष से कम होनी चाहिए। जबकि कक्षा 1 में आवेदन करने वालों के लिए मौजूदा नियमों के अनुसार बच्चे की आयु पांच वर्ष से अधिक और छह वर्ष से कम होनी चाहिए।

इस बीच, महामारी के दौरान, कई अभिभावकों ने अपने छात्रों को प्राइवेट स्कूलों से दिल्ली के सरकारी स्कूलों में स्थानांतरित कर दिया है।  वहीं दिल्ली के शिक्षा मंत्री और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों के छात्र खुद को देश के भविष्य के लिए रूप में देख रहे हैं, दिल्ली शिक्षा क्रांति की सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि हमारे बच्चों का आत्मविश्वास स्तर बढ़ा है। छात्रों के पास अपने करियर को बेहतर बनाने के साथ-साथ देश की प्रगति में योगदान देने के बारे में सोच रहे हैं।

 

 

 

 

epaper