DA Image
16 नवंबर, 2020|8:40|IST

अगली स्टोरी

दिल्ली : सरकारी स्कूल के छात्रों को मिलेगा स्मार्ट कार्ड, मिलेगा विदेश जाने का मौका

cbse school

इमारतों के बाद अब दिल्ली के सरकारी स्कूलों में भी कई बड़े बदलाव देखने को मिलेंगे। इसके लिए विजन 2030 तैयार किया गया है। सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले करीब 16 लाख छात्रों को स्मार्ट कार्ड दिया जाएगा। वहीं, एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत छात्रों को विदेश जाने का मौका मिलेगा। जानकारी के अनुसार, सरकारी स्कूलों में विजन 2030 योजना की शुरुआत अगले वर्ष से हो जाएगी। वहीं, स्कूलों के पाठ्यक्रमों में भी जरूरत के हिसाब से बदलाव किया जाएगा। सूत्रों के अनुसार, सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले करीब 16 लाख छात्रों को निजी स्कूलों की तर्ज पर स्मार्ट कार्ड दिए जाएंगेँ। इस कार्ड को अनेक कार्यों में प्रयुक्त किया जा सकेगा। छात्रों को स्कूल में कार्ड द्वारा प्रवेश मिलेगा। वहीं, कार्ड के आधार पर छात्र लाइब्रेरी सुविधा का लाभ ले सकेंगे। साथ ही स्वास्थ्य सुविधा के लिए इस कार्ड का प्रयोग किया जा सकेगा। 

विदेश जाकर सीखेंगे
विजन 2030 के तहत सरकारी स्कूलों के छात्र भी शिक्षा संबंधी अनुभवों के लिए शिक्षकों और प्रिंसिपल की तर्ज पर विदेश जाएंगे। इसके तहत निदेशालय ने स्टूडेंट व टीचर्स एक्सचेंज प्रोग्राम के संबंध में विस्तार से योजना तैयार की है। छात्र विदेश में जाकर वहां शिक्षण के तरीकों को जान सकेंगे। गौरतलब है कि यह पहली बार होगा जब दिल्ली के सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे विदेश में जाकर सीखेंगे।

सरकारी स्कूल के बच्चे गणित में हुए होशियार,केस स्टडी में खुलासा

नए स्कूलों में विज्ञान संकाय शुरू होगा
शिक्षा निदेशालय के विजन 2030 के तहत नए सरकारी स्कूलों में विज्ञान संकाय की शुरुआत की जाएगी। निदेशालय के अनुसार अभी 1030 स्कूलों में से 323 स्कूलों में विज्ञान संकाय है। योजना के तहत 30 अगस्त तक विज्ञान संकाय शुरू करने वाले संभावित स्कूलों की पहचान की जाएगी। इसके बाद सभी औपचारिकता पूरी करते हुए 31 दिसंबर तक इन स्कूलों में विज्ञान शिक्षकों की नियुक्ति की जाएगी। जबकि, 15 जनवरी 2021 तक संकाय की शुरुआत स्कूलों में विधिवत रूप से हो जाएगी।

विदेशी भाषा पाठ्यक्रम शुरू होगा
सरकारी स्कूलों में अब कम्प्यूटर साइंस नए विषय व विदेशी भाषा नए पाठ्यक्रम के तौर पर पढ़ाई जाएगी। इसके लिए स्कूलों में इस साल अंत तक कम्प्यूटर लैब की स्थापना होगी तो वहीं 30 जनवरी तक स्कूलों में कम्प्यूटर शिक्षकों की नियुक्ति होगी। इसी तरह सभी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद 30 दिसम्बर तक विदेशी भाषा की शुरुआत स्कूलों में हो जाएगी।

100 नए पायलट स्कूल बनेंगे
राजधानी दिल्ली के मौजूदा सरकारी स्कूलों में योजना के तहत पायलट स्कूलों की संख्या बढ़ेगी। इसके तहत 100 नए पायलट स्कूल बनाए जाएंगे। इसमें खराब हालत वाले स्कूलों को पायलट स्कूल के तौर पर परिवर्तित किया जाएगा। मौजूदा समय मे 54 पायलट स्कूल हैं। इसके बाद पायलटों स्कूलों की संख्यां 154 हो जाएगी।

लैब, साइंस म्यूजियम बनेगा
राजाधनी के सरकारी स्कूलों में विजन 2030 के तहत जहां लैब स्थापना प्रस्तावित है। यह राष्ट्रीय अविष्कार योजना के तहत इस साल के अंत तक तैयार की जाएगी। वहीं छात्रों में विज्ञान की बेहतर समझ पैदा करने के लिए साइंस म्यूजियम तैयार करने की योजना शिक्षा निदेशालय ने तैयार की है।

हर जिले में स्कूल ऑफ एक्सीलेंस
विजन 2030 प्लान के तहत दिल्ली के प्रत्येक जिले में स्कूल ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना की जाएगी। दिल्ली में अभी पांच स्कूल ऑफ एक्सीलेंस है। योजना के तहत एक जिले में एक एक्सीलेंस स्कूल की स्थापना की जानी है। इस तरह कम से कम आठ नए स्कूल ऑफ एक्सीलेंस खोले जाएंगे।

शैलेंद्र शर्मा (सलाहकार शिक्षा निदेशालय) ने कहा, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बजट भाषण में शिक्षा सुधारों की जो बात कही थी। उसी क्रम में आगे बढ़ते हुए शिक्षा निदेशालय ने विजन 2030 के नाम से कार्य योजना बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Delhi govt schools : Students of delhi government school will get smart card will get chance to go abroad