DA Image
21 सितम्बर, 2020|9:53|IST

अगली स्टोरी

दिल्ली सरकारी स्कूल : प्राइमरी कक्षाओं में बच्चे पढ़ाई संग खेल के गुर सीखेंगे

nursery admissions

राजधानी दिल्ली के सरकारी स्कूलों में प्राइमरी (नर्सरी से पांचवीं तक) कक्षाओं के बच्चे भी अब पढ़ाई के साथ खेल के गुर सीखेंगे। इसके लिए शिक्षा निदेशालय ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसके तहत प्राइमरी कक्षाओं के बच्चों के लिए भी फिजिकल एजुकेशन के शिक्षकों की तैनाती के आदेश दिए गए हैं।

निदेशालय ने 423 पद सृजित किए 
प्राइमरी कक्षाओं में फिजिकल एजुकेशन के शिक्षकों की तैनाती के लिए शिक्षा निदेशालय ने 423 पद सृजित किए हैं। इस संबंध में निदेशालय की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि उपराज्यपाल की मंजूरी के बाद प्राइमरी कक्षाओं के लिए फिजिकल एजुकेशन के शिक्षकों के पद सृजित किए गए हैं। इस संबंध में निदेशालय ने स्कूल प्रमुखों को जानकारी देते हुए निर्देशित किया है। ये सभी पद नियमित आधार पर सृजित किए गए हैं।

पहली बार प्राइमरी कक्षाओं में फिजिकल एजुकेशन शिक्षक  
शिक्षा निदेशालय के स्कूलों में पहली बार प्राइमरी कक्षाओं के लिए फिजिकल एजुकेशन शिक्षकों की तैनाती की जा रही है। राजकीय विद्यालय शिक्षक संघ के महासचिव अजय वीर यादव ने निदेशालय के इस फैसले का स्वागत किया है। यादव ने बताया कि अभी तक अंडर 14, अंडर 17 और अंडर 19 स्तर पर होने वाली खेल प्रतियोगिताओं के अनुरूप ही स्कूल में फिजिकल एजुकेशन के शिक्षकों की नियुक्तियां की जाती थी। इसके तहत पीजीटी-टीजीटी फिजिकल एजुकेशन शिक्षकों की तैनाती होती है। मगर यह पहली बार हो रहा है, जब प्राइमरी कक्षाओं के बच्चों के लिए भी फिजिकल एजुकेशन के शिक्षकों की तैनाती का फैसला लिया गया है। इससे 10 साल तक के बच्चे लाभांवित होंगे और स्कूल में पढ़ने के साथ ही खेल के गुर भी सीखेंगे। इस कदम से स्कूली बच्चों का शारीरिक के साथ ही मानसिक विकास होगा। अभी तक प्राइमरी कक्षाओं के बच्चे इस सुविधा से वंचित थे।

स्कूलों में पहचाना जाएगा दिव्यांगों का हुनर
दिल्ली में शिक्षा निदेशालय के अधीन चल रहे स्कूल दिव्यांग छात्रों के लिए अधिक अनुकूल बनेंगे।  स्कूलों में रैंप और दिव्यांगों के लिए सुविधाजनक टायलेट का निर्माण होगा। वहीं, स्कूलों में दिव्यांग छात्रों का हुनर पहचान कर उन्हें प्रोत्साहित किया जाएगा।

शिक्षा निदेशालय ने विजन 2030 के तहत सरकारी स्कूलों को दिव्यांग छात्रों के लिए अधिक अनुकूल बनाने की रूपरेखा तैयार की है। इसके तहत स्कूलों के मौजूदा ढांचे में बदलाव करते हुए उन्हें दिव्यांग छात्रों के अनुकूल बनाया जाएगा। वहीं, उनके अंदर विशेष हुनर को पहचान कर प्रोत्साहित करने के लिए गतिविधियां व कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। सरकारी स्कूलों में 17 अन्य रिसोर्स सेंटर भी विकसित किए जाएंगे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Delhi Government School : In primary classes children will learn the sports also