DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   करियर  ›  Delhi Edu Result 2021 : दिल्ली शिक्षा विभाग के स्कूलों का रिजल्ट जारी, 9वीं में 1.97 लाख और 11वीं में 1.65 लाख छात्र पास
करियर

Delhi Edu Result 2021 : दिल्ली शिक्षा विभाग के स्कूलों का रिजल्ट जारी, 9वीं में 1.97 लाख और 11वीं में 1.65 लाख छात्र पास

वरिष्ठ संवाददाता,नई दिल्लीPublished By: Alakha Singh
Tue, 22 Jun 2021 11:38 PM
Delhi Edu Result 2021 : दिल्ली शिक्षा विभाग के स्कूलों का रिजल्ट जारी, 9वीं में 1.97 लाख और 11वीं में 1.65 लाख छात्र पास

Delhi Edu 9th, 11th Result 2021 : शिक्षा निदेशालय ने मंगलवार को अपने अधीन संचालित स्कूलों की नौवीं और 11वीं कक्षा के परीक्षा परिणाम जारी कर दिए। शिक्षा निदेशालय ने पहली बार अपनी आधिकारिक वेबसाइट edudel.nic.in पर परिणाम जारी किया है। वहीं व्हाट्सएप और एसएमएस के माध्यम से भी निदेशालय ने परिणाम जारी किया है। निदेशालय ने कोरोना की वजह से इन दोनों कक्षाओं की वार्षिक परीक्षा रद्द कर दी थी और छात्रों का मूल्यांकन अर्द्धवार्षिक व आंतरिक परीक्षा के आधार पर किया।

शैक्षणिक सत्र 2020-21 में नौवीं कक्षा में लगभग 2.58 लाख छात्र पंजीकृत थे, जिनमें से 2.45 लाख छात्रों ने अर्द्धवार्षिक परीक्षा दी थी। इस आधार पर 1.97 लाख छात्र पास हुए हैं। इस प्रकार नौवीं कक्षा का पास प्रतिशत 80.3 फीसदी रहा। पिछले साल मुख्य परीक्षा में 65 फीसदी बच्चे पास हुए थे तो दोबारा मूल्यांकन के बाद परिणाम 85 फीसदी हो गया था।

इसी तरह 11वीं में 1.70 लाख छात्र पंजीकृत थे, जिसमें से 1.69 लाख छात्र परीक्षा में शामिल हुए और 1.65 लाख छात्र परीक्षा में पास हुए हैं। इस तरह कक्षा 11 में 96.9 फीसदी छात्र पास हुए। सत्र 2019-20 सत्र में कंपार्टमेंट परीक्षा के बाद 99.25 फीसदी पास हुए थे।

शिक्षा निदेशालय के मुताबिक शैक्षणिक वर्ष 2020-21 में नौवीं के छात्रों की सामाजिक अध्ययन और तीसरी भाषा की अर्द्धवार्षिक परीक्षाएं आयोजित नहीं हो सकी थी। इसी तरह 11वीं के छात्रों की भूगोल और बिजनेस स्टडीज की परीक्षा का आयोजन नहीं हो पाया। ऐसे में इन विषयों के छात्रों को उनके दो सर्वश्रेष्ठ अंकों वाले विषयों में प्राप्त औसत अंक प्रदान किए गए हैं। यही फार्मूला उन विषयों के लिए भी लगाया गया, जिसकी परीक्षा छात्रों नें नहीं दी थी।

16 हजार छात्रों का दोबारा मूल्यांकन
शिक्षा निदेशालय के मुताबिक नौवीं कक्षा के लगभग 12500 और 11वीं में 3500 छात्र थे, जिन्होंने एक भी विषय की अर्द्धवार्षिक परीक्षा नहीं दी थी। ऐसे में यह छात्र फेल हो गए हैं। इन 16 हजार छात्रों के परिणाम के लिए प्रोजेक्ट आधारित दोबारा मूल्यांकन किया जाएगा। यह कक्षाओं आधारित असाइनमेंट या प्रोजेक्ट वर्क के आधार पर होगा।

संबंधित खबरें