ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरCUET UG : DU में 5000 से ज्यादा सीटें खाली, इन अंडर ग्रेजुएट कोर्सेज में नहीं दिखी रुचि

CUET UG : DU में 5000 से ज्यादा सीटें खाली, इन अंडर ग्रेजुएट कोर्सेज में नहीं दिखी रुचि

डीयू में यूजी कोर्स में करीब 5000 से अधिक सीटें खाली हैं। इनमें अनारक्षित और आरक्षित वर्ग की सीटें शामिल हैं। हालांकि, भाषा और बीए प्रोग्राम के पाठ्यक्रम में ही अनारक्षित वर्ग की सीटें खाली हैं।

CUET UG : DU में 5000 से ज्यादा सीटें खाली, इन अंडर ग्रेजुएट कोर्सेज में नहीं दिखी रुचि
Pankaj Vijayप्रमुख संवाददाता,नई दिल्लीFri, 06 Oct 2023 07:37 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) में स्नातक पाठ्यक्रम में करीब पांच हजार से अधिक सीटें खाली हैं। इनमें अनारक्षित और आरक्षित वर्ग की सीटें शामिल हैं। हालांकि, भाषा और बीए प्रोग्राम के पाठ्यक्रम में ही अनारक्षित वर्ग की सीटें खाली हैं। बंगाली, उर्दू सहित अन्य भाषाओं में छात्र कम रुचि ले रहे हैं। नार्थ कैंपस के कॉलेजों में जहां कई विषयों में सीटों से अधिक दाखिले हुए हैं, वहीं साउथ कैंपस के कॉलेजों में कई विषयों में आरक्षित तथा अनारक्षित श्रेणी वर्ग की सीटें नहीं भरी हैं। डीयू के अनुसार, अनारक्षित वर्ग में लगभग 1 हजार और आरक्षित वर्ग में करीब 4 हजार से अधिक सीटें खाली हैं।

स्पेशल ड्राइव के बावजूद सीटें नहीं भरीं  
दाखिले से जुड़े एक पूर्व अधिकारी ने बताया कि डीयू पहले भी आरक्षित वर्ग की सीटों को भरने के लिए स्पेशल ड्राइव चलाता था, लेकिन सीटें खाली रह जाती थी। इसके पीछे कई तरह के तर्क दे सकते हैं। उनका कहना है कि छात्रों को कई बार मनचाहा कोर्स या कॉलेज नहीं मिलता है। इसके अलावा दिल्ली में छात्रों के लिए रहना-खाना एक बढ़ी समस्या है। सभी विद्यार्थी यह खर्च वहन नहीं कर सकते हैं। ज्ञात हो कि स्नातक में दाखिले के लिए तीन स्पेशल ड्राइव चलाने के बावजूद सीटें नहीं भरी हैं।

पहली काउंसलिंग में अतिरिक्त प्रवेश दिए गए 
डीयू के पास स्नातक में 71 हजार सीटें हैं, लेकिन सभी कॉलेजों में सभी प्रोग्रामों के लिए केवल आवंटन के पहले दौर में अनारक्षित, ओबीसी-एनसीएल और ईडब्ल्यूएस श्रेणियों में 20 फीसदी, एससी, एसटी तथा पीडब्ल्यूबीडी श्रेणियों में 30 फीसदी अतिरिक्त सीटों का आवंटन किया गया। हालांकि, जिन कॉलेजों में पिछले शैक्षणिक सत्र में 5 फीसदी से कम छात्रों ने दाखिला वापस लिया, वहीं अनारक्षित, ओबीसी (एनसीएल), ईडब्ल्यूएस के लिए 10 फीसदी और एससी, एसटी, पीडब्ल्यूडी श्रेणियों के लिए 15 फीसदी अतिरिक्त सीटें आवंटित की गईं। इसलिए डीयू के कई प्रमुख कॉलेजों में निर्धारित सीटों से अधिक दाखिले हुए।

पिछले वर्ष की अपेक्षा दाखिले अधिक : डीन एडमिशन 
डीयू की डीन एडमिशन प्रो.हनीत गांधी ने कहा कि यहां इस बार स्नातक में पिछले वर्ष से अधिक दाखिले हुए हैं। विगत वर्ष 65 हजार सीटों पर दाखिले हुए थे, वहीं इस बार लगभग 70 हजार सीटों पर दाखिले हुए हैं। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें