DA Image
19 जनवरी, 2020|6:41|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

CTET 2019: सीटीईटी परीक्षा में पूछे गए ये प्रश्न, परीक्षार्थियों की समझ और संवेदनशीलता की हुई परख

ctet december 2019

ctet 2019: केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सीटीईटी) में शिक्षक अभिरुचि को लेकर पूछे गए प्रश्नों ने परीक्षार्थियों को खासा परेशान किया। यह प्रश्न इस तरह से पूछे गए थे कि कई प्रश्नों के उत्तर में दिए गए चार में से एक से अधिक विकल्प सही प्रतीत हो रहे थे। ऐसे में परीक्षार्थियों को सही विकल्प का चुनाव करने में बहुत मुश्किल हुई।

शिक्षक बनने के बाद शिक्षकों के सामने पठन-पाठन को लेकर आने वाले चुनौतियों पर आधारित इन प्रश्नों के जरिए यह जानने का प्रयास किया गया कि परीक्षार्थी शिक्षक बनने के लिए कितने तैयार हैं। परीक्षार्थियों की समझ के साथ उनकी संवेदनशीलता को भी प्रश्नों के जरिए परखने का प्रयास किया गया। मसलन एक प्रश्न में पूछा गया था कि बच्चों की अधिगम गतिविधियों में भागीदारी करने के लिए लगातार पुरस्कार देना व दंड का प्रयोग करने से क्या प्रभाव पड़ता है? इसी तरह का एक प्रश्न था कि विद्यार्थियों को स्पष्ट उदाहरण एवं गैर उदाहरण देने का क्या परिणाम है? एक बटे चार से एक बटे तीन छोटा है, इसे बच्चों को समझाने के लिए कौन की योजना सबसे अधिक उपयुक्त होगी? प्राथमिक कक्षाओं में बच्चों को गणित पढ़ाने के लिए बनाई जाने वाली पाठ योजना का कौन का अति महत्वपूर्ण पहलू है?

CTET 2019 में सेंधमारी: सॉल्वर गैंग ने किया था ढाई-ढाई लाख में सौदा

90 प्रतिशत से अधिक हुए शामिल
सीटीईटी के लिए जिले में 83 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। इन केंद्रों पर 101058 परीक्षार्थियों को परीक्षा देनी थी। इनमें से 93 हजार परीक्षा में शामिल हुए, जो कुल परीक्षार्थियों लगभग 92 प्रतिशत है। परीक्षा दो पालियों में आयोजित हुई। पहली पाली की परीक्षा 9.30 से 12 बजे तक तो दूसरी पाली की परीक्षा 2 से 4.30 बजे तक हुई।

दस हजार लेकर दे रहा था परीक्षा, धरा गया
सोरांव/ हिन्दुस्तान संवाद    
एमपीवीएम गंगागुरुकुलम स्कूल में परीक्षा के दौरान दूसरे के स्थान पर परीक्षा दे रहा युवक पकड़ा गया। स्कूल की प्रधानाचार्य अल्पना डे ने सोरांव थाने में मुकदमा पंजीकृत कराते हुए इस युवक को पुलिस को सौंप दिया है। परीक्षा के दौरान चल रही जांच में कक्ष संख्या 102 में सीबीएसई के जांच अधिकारी डॉ. अनुज सिंह एवं डॉ. नरेश अग्रवाल को एक परीक्षार्थी पर शक हुआ। उसके अभिलेखों की गहनता से जांच कर पूछताछ की गई तो पता चला कि उसका नाम अरविंद विश्वकर्मा है और वह मऊआइमा थाना क्षेत्र के उमरियासारी का रहने वाला है। वह सोरांव थाना क्षेत्र के अरूआवां निवासी संदीप कुमार के स्थान पर परीक्षा दे रहा था। अरविन्द ने पुलिस को बताया कि उसे प्रतापगढ़ के अजय यादव ने यह काम सौंपा था। इसके एवज में अजय ने उसे 50 हजार रुपये देने को कहा था। इसमें से 10 हजार रुपये एडवांस में दिए गए थे। जांच के दौरान उसकी जेब से 10 हजार रुपये बरामद भी हुए। उसके पास से एक फर्जी आईडी भी मिली है। अरविन्द ने बताया कि फर्जी आईडी अजय ने उसे दी थी।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:CTET 2019: These questions asked in the CTET december exam understanding and sensitivity of the candidates has been checked