DA Image
4 अगस्त, 2020|10:50|IST

अगली स्टोरी

कोरोना से 62 फीसदी घरों के बच्चों की शिक्षा बाधित: 'सेव द चिल्ड्रेन'

student

कोरोना महामारी के बीच लगभग 62 प्रतिशत घरों के बच्चों की शिक्षा रुक गई है। यह बात एक त्वरित आकलन से सामने आई है, जिसके तहत 15 राज्यों में 7,235 परिवारों का सर्वेक्षण किया गया। बाल अधिकार एनजीओ सेव द चिल्ड्रेन ने यह सर्वेक्षण लक्षित लाभार्थियों के बीच चुनौतियों, विषयगत प्राथमिकताओं और कोरोना के प्रभाव को समझने के लिए किया था। रिपोर्ट में सामने आया कि बच्चे न सिर्फ शिक्षा से वंचित हैं, बल्कि पर्याप्त खाने को भी नहीं मिल रहा।  

सर्वेक्षण 07 से 30 जून, 2020 के बीच किया गया। इसमें 7,235 परिवार शामिल हुए। देश के उत्तरी क्षेत्र में 3,827, दक्षिणी क्षेत्र में 556, पूर्वी क्षेत्र में 1722 और पश्चिमी क्षेत्र में 1130 घरों का सर्वेक्षण किया गया।

आकलन के अनुसार इनमें से 62 प्रतिशत घरों में बच्चों की शिक्षा रुकने की जानकारी दी गई। ऐसे अधिक घर उत्तर भारत में सामने आए जहां 64 प्रतिशत घरों के बच्चों ने अपनी शिक्षा रोक दी। वहीं, दक्षिण भारत में सबसे कम संख्या 48 प्रतिशत दर्ज की गई। हालांकि, इस आकलन पर अभी मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से तत्काल कोई टिप्पणी नहीं आई है। 

40 फीसदी को मध्याह्न भोजन नहीं मिल रहा- 
सर्वेक्षण में पता चला कि करीब 40 प्रतिशत घरों ने बताया कि उनके बच्चों को मध्याह्न भोजन नहीं मिल रहा है। यह संख्या पश्चिम क्षेत्र में 52 प्रतिशत, उत्तर में 39 प्रतिशत, दक्षिण में 38 प्रतिशत और पूर्व में 28 प्रतिशत है। कुल संख्या में से 40 प्रतिशत शहरी और 38 प्रतिशत ग्रामीण बच्चे मध्याह्न भोजन प्राप्त नहीं कर रहे। आकलन में 40 प्रतिशत लोग बच्चों को पर्याप्त भोजन मुहैया नहीं करा पा रहे हैं और 10 में से आठ परिवारों ने आय में कमी होने की भी बात बताई।  

सरकारी सहयोग नहीं मिल पा रहा- 
एनजीओ के प्रोग्राम एंड पॉलिसी इंपैक्ट निदेशक अनिंदित रॉय चौधरी ने कहा कि रिपोर्ट की मुख्य बात यह है कि बच्चों के बड़े हिस्से को शिक्षा के मामले में किसी भी प्रकार का समर्थन नहीं मिल रहा है। पांच में से दो परिवारों ने बताया कि उन्हें उनके बच्चों की शिक्षा के लिए स्कूल से और शिक्षा विभाग से किसी भी प्रकार का सहयोग नहीं मिला है। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:covid-19:Education of children 62 percent disrupted due to Coronavirus says Save the Children named ngo