DA Image
Saturday, November 27, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरConstitution Day 2021: आजादी मिलने से पहले हुई थी संविधान सभा की पहली मीटिंग, यहां पढ़ें जरूरी बातें

Constitution Day 2021: आजादी मिलने से पहले हुई थी संविधान सभा की पहली मीटिंग, यहां पढ़ें जरूरी बातें

लाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीPriyanka Sharma
Thu, 25 Nov 2021 09:23 PM
Constitution Day 2021: आजादी मिलने से पहले हुई थी संविधान सभा की पहली मीटिंग, यहां पढ़ें जरूरी बातें

Constitution Day 2021: हर साल देशभर में 26 नवंबर को संविधान दिवस को मनाया जाता है। साल 1949 को इसी दिन संविधान बनकर तैयार हुआ था। इस संविधान को 26 जनवरी 1950 में लागू किया गया था। जब भी संविधान का नाम आता है, डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को याद जरूर किया जाता है, उन्हें ही संविधान का निर्माता कहा जाता है।

भारत के एक स्वतंत्र राष्ट्र बनने के बाद, संविधान सभा ने डॉ भीमराव अंबेडकर की अध्यक्षता वाली एक समिति को संविधान का मसौदा तैयार करने का काम सौंपा था। संविधान का फाइनल ड्राफ्ट तैयार करने में 2 साल 11 महीने और 17 दिन लगे थे।

साल 1948 की शुरुआत में डॉ. अम्बेडकर ने भारतीय संविधान का मसौदा तैयार किया और उसे संविधान सभा में पेश किया। 26 नवंबर 1949 को इस मसौदे को बहुत कम संशोधनों के साथ अपनाया गया था। वहीं भारतीय संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ।

भारत को आजादी मिलने से पहले साल 1946 , जुलाई महीने में भारतीय संविधान सभा के लिए चुनाव हुए थे।  कम ही लोग जानते हैं कि संविधान सभा की पहली बैठक  9 दिसंबर 1946 को हुई थी। जिसके बाद देश  दो भागों - भारत और पाकिस्तान में बंट गया था। इसी के साथ  संविधान सभा भी दो हिस्सो में बंट गई थी। जो बाद में भारत की संविधान सभा और पाकिस्तान की संविधान सभा बनीं।

आपको बता दें, भारतीय संविधान लिखने वाली सभा में 299 सदस्य थे। भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद संविधान सभा के अध्यक्ष थे। संविधान सभा ने 26 नवंबर1949 में अपना काम पूरा कर लिया और 26 जनवरी 1950 को यह संविधान लागू किया गया।  जिसके बाद से हर साल देश में 26 जनवरी के दिन गणतंत्र दिवस मनाया जाता है।

बता दें,  भारतीय संविधान को पूर्ण रूप से तैयार करने में 2 वर्ष, 11 माह, 18 दिन का समय लगा था। भारत का  संविधान 25 भागों, 470 अनुच्छेदों और 12 सूचियों में बंटा भारतीय संविधान किसी दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है।

 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें