ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरइन कोर्सेज में दाखिले के लिए अनिवार्य नहीं हैं कक्षा 12वीं के ये सब्जेक्ट्स

इन कोर्सेज में दाखिले के लिए अनिवार्य नहीं हैं कक्षा 12वीं के ये सब्जेक्ट्स

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (AICTE) ने मंगलवार को कक्षा 12 के उन विषयों की घोषणा की, जिनमें कुछ कोर्सेज में प्रवेश लेने के लिए वो विषय अनिवार्य नहीं है।

इन कोर्सेज में दाखिले के लिए अनिवार्य नहीं हैं कक्षा 12वीं के ये सब्जेक्ट्स
Priyanka Sharmaलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीWed, 30 Mar 2022 01:54 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (AICTE) ने मंगलवार को कक्षा 12 के उन विषयों की घोषणा की, जिनमें कुछ कोर्सेज में प्रवेश लेने के लिए वो विषय अनिवार्य नहीं है। आर्किटेक्चर में ग्रेजुएट कोर्सेज में प्रवेश के लिए  फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथेमेटिक्स अब अनिवार्य विषय नहीं होंगे।

अन्य दो कोर्सेज जिन्हें अनिवार्य रूप से कक्षा 12 में PCM विषयों की आवश्यकता नहीं होगी, वे हैं फैशन टेक्नोलॉजी और पैकेजिंग टेक्नोलॉजी। पिछले साल फिजिक्स, केमिस्ट्री या मैथ्स (PCM) नहीं पढ़ने वाले छात्रों को उनके मनचाहे कोर्स में दाखिला दिलाने को लेकर हंगामा हुआ था।

कक्षा 12वीं में PCM की आवश्यकता नहीं है

AICTE ने कहा, "हमने प्रवेश पर सिफारिशें करने के लिए एक एक्सपर्ट कमिटी का गठन किया है जिसके लिए PCM को ऑप्शनल बनाया जा सकता है। पैनल की सिफारिशों के आधार पर, तीन कोर्सेज को चुना गया है"

PCM के अलावा, जो विषय तीन कोर्सेज में प्रवेश के लिए पात्र हैं, उनमें कंप्यूटर विज्ञान, इलेक्ट्रॉनिक्स, सूचना प्रौद्योगिकी, जीव विज्ञान, सूचना विज्ञान अभ्यास, जैव प्रौद्योगिकी, तकनीकी व्यावसायिक विषय, कृषि, इंजीनियरिंग ग्राफिक्स, व्यावसायिक अध्ययन और उद्यमिता शामिल हैं।

PM केयर सर्टिफिकेट फॉर 12वीं स्टूडेंट

प्रति कोर्स दो सीटों का आरक्षण अन्य बच्चों को प्रभावित नहीं करेगा क्योंकि इस खंड के तहत छात्रों को प्रवेश देने वाले संस्थान अपनी स्वीकृत प्रवेश क्षमता को दो तक बढ़ा सकते हैं। AICTE की नई अनुमोदन प्रक्रिया पुस्तिका में कहा गया है, "ऐसे बच्चे जिन्हें 'पीएम केयर्स सर्टिफिकेट' जारी किया गया है, वे सुपरन्यूमेरी कोटा के तहत पॉलिटेक्निक संस्थानों में प्रवेश के लिए पात्र होंगे।"

AICTE स्पेशल कैटेगरी छात्र

यह योजना 18 वर्ष से कम उम्र के सभी बच्चों को कवर करती है, जिन्होंने 3 मार्च, 2020 के बीच कोविड -19 के कारण माता-पिता को खो दिया।

 

 

 

epaper