DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   करियर  ›  पाठ्यपुस्तक के आधार पर सोमवार से बच्चों को मिलेगा डिजिटल कंटेंट
करियर

पाठ्यपुस्तक के आधार पर सोमवार से बच्चों को मिलेगा डिजिटल कंटेंट

हिन्दुस्तान ब्यूरो,रांचीPublished By: Alakha Singh
Sun, 16 May 2021 11:10 PM
पाठ्यपुस्तक के आधार पर सोमवार से बच्चों को मिलेगा डिजिटल कंटेंट

राज्य के सरकारी स्कूलों के बच्चों को सोमवार से पाठ्यपुस्तक के आधार पर डिजिटल कंटेंट मिलना शुरू हो जाएगा। झारखंड शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद ने इसकी तैयारी पूरी कर ली है। सोमवार सुबह नौ बजे तक स्कूलों को कंटेंट उपलब्ध करा दिया जाएगा। उसके बाद शिक्षक क्लास वार तैयार व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से अलग-अलग हर क्लास का डिजिटल कंटेंट भेजेंगे।

बच्चों को सुबह 10 बजे से पहले कंटेंट मिलना शुरू हो जाएगा। डिजिटल कंटेंट तीन मई से ही भेजा जाना शुरू हुआ है। पहले दो सप्ताह कोरोना जागरुकता, उसकी गाइडलाइन और बच्चों के भावनात्मक विकास को लेकर कंटेंट उपलब्ध कराया गया। इस दौरान 15 मई तक सभी स्कूलों को क्लास वार बच्चों का व्हाट्सएप ग्रुप तैयार करने का निर्देश दिया गया था, ताकि 17 मई से उपलब्ध कराए जाने वाले डिजिटल कंटेंट को उन्हें उपलब्ध कराया जा सके। पहली से 12वीं कक्षा के छात्र-छात्राओं को यह कंटेंट उपलब्ध कराए जाएंगे।

सप्ताह में चार दिन प्रखंड स्तर से होगी ऑनलाइन क्लास
सप्ताह में चार दिन ऑनलाइन क्लास भी होगी। प्रखंड स्तर पर जूम एप के जरिए इन कक्षाओं का संचालन किया जाएगा। जिन छात्र-छात्राओं, उनके माता-पिता या उनके अभिभावकों के पास मोबाइल है, वे इससे सीधे जुड़ सकेंगे। कोरोना संक्रमण कम होने के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायत भवन या खुले मैदान में भी सोशल डिस्टेंसिंग के तहत बच्चों को बुलाकर ई-कंटेंट उपलब्ध कराया जा सकेगा।

विद्यार्थियों का ऑनलाइन टेस्ट भी लिया जाएगा
स्कूली बच्चों को डिजिटल कंटेंट उपलब्ध कराने के साथ-साथ उनका ऑनलाइन टेस्ट भी लिया जाएगा। इसमें हर सप्ताह उपलब्ध कराए जाने वाले कंटेंट के आधार पर अंतिम दिन शनिवार को टेस्ट का आयोजन होगा। इस टेस्ट का मूल उद्देश्य सप्ताह में दिए गए कंटेंट के आधार पर बच्चे कितना जान पा रहे हैं और सीख पा रहे हैं इसका आकलन किया जाएगा। सोमवार को नए कंटेंट उपलब्ध कराने के साथ टेस्ट का रिजल्ट भी उन्हें बताया जाएगा।

आपदा प्रबंधन विभाग से नहीं मिली है अनुमति
इधर, आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से पाठ्यपुस्तक बांटने की अनुमति अब तक नहीं मिल सकी है। इसकी अनुमति मिलने के बाद प्रखंड से स्कूलों तक और स्कूल से बच्चों के अभिभावकों को बुलाकर किताबों का वितरण किया जाएगा। झारखंड शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद ने किताब वितरण की गाइडलाइन पिछले महीने ही जिलों को जारी कर दी है। गाइडलाइन जारी करने के एक-दो दिन के अंदर ही स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह शुरू हो गया जो लगातार बढ़ रहा है। रविवार से इसमें और कड़ाई की गई है। ऐसे में बच्चों तक किताब पहुंचने की संभावना इस महीने कम नजर आ रही है।

संबंधित खबरें