ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरCCSU Exam : सिरदर्द बने परीक्षा फॉर्म, बैक पेपर फिर टलना तय

CCSU Exam : सिरदर्द बने परीक्षा फॉर्म, बैक पेपर फिर टलना तय

सीसीएसयू में वार्षिक बैक और सेमेस्टर परीक्षा फॉर्म छात्र-छात्रा एवं कॉलेजों के लिए सिरदर्द बन गए हैं। मंगलवार को विवि खुलते ही हजारों छात्र फॉर्म सही कराने और खुलवाने के लिए काउंटर पर पहुंच गए।

CCSU Exam : सिरदर्द बने परीक्षा फॉर्म, बैक पेपर फिर टलना तय
Pankaj Vijayप्रमुख संवाददाता,मेरठWed, 29 Nov 2023 10:49 AM
ऐप पर पढ़ें

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से संबद्ध कॉलेजों में वार्षिक बैक और सेमेस्टर परीक्षा फॉर्म छात्र-छात्रा एवं कॉलेजों के लिए सिरदर्द बन गए हैं। मंगलवार को विवि खुलते ही हजारों छात्र फॉर्म सही कराने और खुलवाने के लिए काउंटर पर पहुंच गए। सैकड़ों किमी दूर से किराया खर्च करके आए छात्र सुबह दस बजे लाइन में लग चुके थे जबकि कंपनी के कर्मचारी 11 बजे काम करने पहुंचे। फीस शून्य दिखाने, तय फीस से अधिक फीस कटौती करने, फॉर्म नहीं खुलने, पेपर कोड गलत भरने और अधूरे पेपर खुलने सहित अनेक समस्याओं के साथ छात्र दिनभर लाइन में जूझते रहे। 25 नवंबर तक समस्या खत्म करने अथवा स्वयं बाहर होने का लिखित पत्र देने के बावजूद कंपनी समस्याओं का समाधान करने में कंपनी पूरी तरह से विफल साबित हुई है। 

 बैक परीक्षाओं पर फिर संकट
कंपनी के पूरी तरह विफल होने से विवि में सात दिसंबर से प्रस्तावित वार्षिक बैक परीक्षाओं पर फिर संकट मंडराने लगा है। कंपनी कॉलेजों को फॉर्म सत्यापित करने का विकल्प नहीं दे पाई। ऐसे में फॉर्म सत्यापित नहीं हो पाए। केंद्रों की जो सूची विवि को मिली है उसमें एक कॉलेज का नाम एक से अधिक जिलों में है। कंपनी अभी तक एक्स, कालबाधित छात्रों के फॉर्म भी नहीं भरवा पाई है। विवि के अनुसार जो स्थितियां हैं उसमें सात दिसंबर से बैक परीक्षाएं नहीं हो सकती। ऐसे में बैक परीक्षाएं फिर से स्थगित की जा सकती हैं। यदि बैक पेपर स्थगित हुए तो यह 20 दिसंबर से विषम सेमेस्टर के साथ ले जाए जा सकते हैं। विवि इससे पहले भी कंपनी के चलते बैक पेपर परीक्षाएं स्थगित कर चुका है। 

बैक परीक्षा तिथि बढ़ाने पर अंतिम फैसला आज
विवि में मंगलवार को यूजी-पीजी ट्रेडिशनल रेगुलर-प्राइवेट वार्षिक एवं प्रोफेशनल वार्षिक बैक परीक्षा फॉर्म भरने की अंतिम तिथि खत्म हो गई। हालांकि जो स्थितियां हैं उसमें विवि को फिर से बैक फॉर्म भरने की तिथि बढ़ाने पड़ेगी। विवि इस पर अंतिम फैसला आज करेगा।

छात्रों से कर डाली ठगी, भटकते रहे छात्र
फॉर्म सही कराने के लिए कैंपस पहुंच रहे कुछ छात्र ठगी का शिकार हो गए हैं। इन छात्रों से फॉर्म खुलवाने के लिए पैसे लग गए। फॉर्म नहीं खुलने पर छात्रों ने फोन किया तो कथित रूप से पैसे लेने वालों के फोन नहीं उठे। रजिस्ट्रार के काउंटर पर निरीक्षण में भी कुछ खामियां मिली। काउंटर पर केबिन के अंदर बाहरी छात्र बैठे थे जबकि दूरदराज से आए छात्र लाइन में इंतजार कर रहे थे। रजिस्ट्रार ने कंपनी को चेतावनी देते हुए कर्मचारियों के अतिरिक्त केबिन में किसी के प्रवेश भी रोक लगा दी है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें