ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरसीबीएसई 10वीं 12वीं के प्रश्नपत्र का हर खंड होगा रंगीन, 2024 की परीक्षा से होगा लागू

सीबीएसई 10वीं 12वीं के प्रश्नपत्र का हर खंड होगा रंगीन, 2024 की परीक्षा से होगा लागू

CBSE 10th 12th Exam 2024: प्रश्न पत्र में हर प्रश्न आसानी से दिखे, खंडवार प्रश्नों का उत्तर देने में दिक्कत ना आए इसके लिए सीबीएसई के 10वीं व 12वीं के प्रश्न पत्र के हर खंड को रंगीन किया जाएगा।

सीबीएसई 10वीं 12वीं के प्रश्नपत्र का हर खंड होगा रंगीन, 2024 की परीक्षा से होगा लागू
Pankaj Vijayमुख्य संवाददाता,पटनाFri, 09 Jun 2023 08:31 AM
ऐप पर पढ़ें

प्रश्न पत्र में हर प्रश्न आसानी से दिखे, खंडवार प्रश्नों का उत्तर देने में दिक्कत ना आए इसके लिए सीबीएसई के 10वीं व 12वीं के प्रश्न पत्र के हर खंड को रंगीन किया जाएगा। इसकी जानकारी बोर्ड द्वारा सैंपल पेपर के माध्यम से छात्र-छात्राओं को दी गई है। एक खंड से दूसरे खंड के बीच थोड़ा गैप भी रहेगा ताकि छात्रों को खंडवार प्रश्नों की संख्या दिखे। इसे वर्ष 2024 की बोर्ड परीक्षा से लागू किया जाएगा।

बता दें कि अभी तक प्रश्न पत्र की एक बनावट होती थी। एक खंड से दूसरे खंड में समानता होने से छात्र खंडवार उत्तर नहीं देते थे। इससे उत्तरपुस्तिका जांच में परेशानी होती थी, लेकिन अब छात्र एक खंड का उत्तर एक ही जगह लिखेंगे। आम तौर पर हर विषय में पांच खंड में प्रश्न रहते हैं। इसमें वस्तुनिष्ठ, लघु उत्तरीय, अतिलघु उत्तरीय, दीर्घ उत्तरीय और केस स्टडी वाले प्रश्न शामिल होते हैं। अब इन सभी को अंडर लाइन करके कलरफुल किया गया है। जिससे छात्र सभी सेक्शन के प्रश्नों का उत्तर दे सके।

मार्किंग स्कीम बताएगी उत्तर लिखने का सही तरीका बोर्ड परीक्षा में वस्तुनिष्ठ प्रश्न या लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न का उत्तर कैसे दे, कितने शब्दों में दे? उत्तर देने में प्रश्न संख्या लिखना अनिवार्य है या नहीं? इन तमाम जानकारी को बोर्ड ने मार्किंग स्कीम के माध्यम से दिया है।

बोर्ड की मानें तो ज्यादातर छात्र वस्तुनिष्ठ प्रश्न के उत्तर में केवल उत्तर की संख्या लिख देते हैं, जबकि संख्या के साथ उत्तर भी एक शब्द में लिखना होता है। तभी पूरे अंक मिलते हैं। इसको बोर्ड द्वारा मार्किंग स्कीम से समझाया गया है।

12वीं में कम रहेगी प्रश्नों की संख्या
बोर्ड प्रशासन की मानें तो 10वीं में कुल प्रश्नों की संख्या 12वीं से ज्यादा रहेगी। 10वीं के हर विषय में 39 से 40 प्रश्न शामिल रहेगा। 12वीं में जीवविज्ञान, भौतिकि, रसायन शास्त्रत्त् में प्रश्नों की संख्या 33 होगी। गणित में कुल 38 प्रश्न पूछे जाएंगे। वाणिज्य और कला संकाय में भी प्रश्नों की संख्या विज्ञान संकाय की तरह ही रहेगी।