DA Image
5 अगस्त, 2020|6:34|IST

अगली स्टोरी

CBSE class 10, 12 results 2020: जानें 10वीं में कम्पार्टमेंट परीक्षा से पास होने का नियम

cbse exam 2020 update and cbse news

CBSE class 10, 12 results 2020: सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) की 10वीं और 12वीं कक्षा के परिणाम अगले तीन-चार दिन में यानी 15 जुलाई तक जारी किए जाएंगे। लेकिन पहली बार बोर्ड परीक्षा देने वाले सीबीएसई 10वीं के छात्रों के मन में पास होने को लेकर तरह-तरह के प्रश्न उठ रहे हैं। किसी का यदि एक पेपर खराब हुआ तो उसके मन में सवाल है क्या उसे भी कारोनो के इस दौर में पास कर दिया जाएगा। आपको बता दें सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर सीबीएसई की ओर से जारी कि गए असेसमेंट के तहत छात्रों को तीन विषयों जिनकी परीक्षाएं हो चुकी हैं उनके औसत अंकों के आधार पर बाकी पेपर्स के अंक दिए जाएंगे। साथ ही जिनके तीन से अधिक विषयों की परीक्षाएं हो चुकी हैं उन्हें बेस्ट ऑफ 2 पेपर्स के औस अंक दिए जाएंगे। वहीं जिनके तीन से कम सब्जेक्ट्स के पेपर हुए हैं उन्हें शेष पेपर्स के मार्क प्रोजेक्ट रिपोर्ट, असाइमेंट वर्क और इंटरनल असेमेंट के आधार पर दिए जाएंगे।

सीबीएसई कम्पार्टमेंट परीक्षा से पास होने का नियम: पहली बार बोर्ड परीक्षा देने वाले सीबीएसई 10वीं के कई छात्र चिंता में हैं उनके एक या दो पेपर अच्छे नहीं बने। छात्रों के मन में सवाल है कि यदि उनके नंबर एक विषय में कम आए तो उनका क्या होगा? ऐसे छात्रों को हम बता दें कि सीबीएसई एक या दो विष्यों में फेल होने वाले छात्रों के लिए संबंधित विषय की कम्पार्टमेंट परीक्षा आयोजित कराता है। इसी परीक्षा में भाग लेने वाला छात्र यदि पास हो जाता है स्टूडेंट को पास माना जाता है। लेकिन यदि किसी छात्र के किसी सब्जेक्ट में कम्पार्टमेंट है और उसने कम्पार्टमेंट परीक्षा में भाग नहीं लिया या भाग लेने बाद रिजल्ट फेल आया जो उसे फेल ही माना जाता है।

 

CBSE 10th Exam Pattern 2020: 

सीबीएसई के परीक्षा पैटर्न में हाल के वर्षों में जो बदलाव किया गया है और उसे बहुत ही आसान बनाया गया है। 2020 के सीबीएसई परीक्षा पैटर्न के अनुसार, 80 परसेंट मार्क थ्योरी एग्जाम के लिए निर्धारित हैं और 20 परसेंट मार्क इंटरनल एसेसमेंट के लिए। छात्रों को परीक्षा में पास होने के लिए परीक्षा और इंटरनल दोनों के मार्क मिलाकर 33 परसेंट पासिंग मार्क लाना जरूरी है। ऐसे में यदि किसी के छात्र थ्योरी की परीक्षा में 33 परसेंट से कम आते हैँ तो वह इंटरनल असेसमेंट के अंक मिलाकर पास माना जाएगा। हालांकि जो छात्र अपने अंकों से संतुष्ट नहीं हैं वे कम्पार्टमेंट परीक्षा का विकल्प भी चुन सकते हैं।

इस प्रकार से कहा जा सकता है कि सीबीएसई का जो परीक्षा पैटर्न है उसमें बहुत कम ही ऐसे छात्र होंगे जो 10वीं परीक्षा में असफल होंगे।

ऐसे मिलेंगे इंटरनलए असेसमेंट के मार्क्स-
सीबीएसई 10वीं की परीक्षा में प्रत्येक विषय के लिए 20 अंक इंटरनल असेसमेंट के लिए निर्धारित हैं। जिसमें पीरियाडिक टेस्ट (PT) के लिए 10 अंक, नोटबुक जमा कराने के 05 अंक और सब्जेक्ट इनरिचमेंट एक्टीविटी के लिए 05 अंक निर्धारित हैं।

कोरोना संकट से कम्‍पार्टमेंट को लेकर असमंजस
लेकिन कोरोना संकट के दौरान में जब छात्राओं की मुख्य परीक्षाएं रद्द की जा चुकी हैं तो ऐसे में यह दुविधा है कि कम्पार्टमेंट परीक्षा होगी या उसके लिए सीबीएसई कोई नया फॉर्मूला निकालेगी। इस मामले में सीबीएसई की ओर से अभी तक कोई नोटिफिकेशन जारी नहीं किया गया।

हालांकि माना यह ज रहा है कि सितंबर या उसके बाद हालात सामान्य होने पर सीबीएसई कम्पार्टमेंट परीक्षा आयोजित करा सकती है। कम्पार्टमेंट परीक्षा का मोड ऑनलाइन या ऑफलाइन हो सकता है। इस बारे रिजल्ट जारी होने के बाद सीबीएसई बोर्ड कम्पार्टमेंट परीक्षा डेट आदि के बारे में और स्पष्ठता कर सकता है।

CBSE result date 2020: खत्म होने वाला है सीबीएसई 10वीं 12वीं रिजल्ट का इंतजार

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:CBSE class 10 12 results 2020: learn the rules of passing the compartment in the 10th