Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरCBSE 12th Term 1 exam : सीबीएसई परीक्षा में गुजरात दंगों के प्रश्न पर हंगामा, बोर्ड ने कहा- कार्रवाई होगी

CBSE 12th Term 1 exam : सीबीएसई परीक्षा में गुजरात दंगों के प्रश्न पर हंगामा, बोर्ड ने कहा- कार्रवाई होगी

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीYogesh Joshi
Wed, 01 Dec 2021 08:26 PM
CBSE 12th Term 1 exam : सीबीएसई परीक्षा में गुजरात दंगों के प्रश्न पर हंगामा, बोर्ड ने कहा- कार्रवाई होगी

इस खबर को सुनें

सीबीएसई की बुधवार को कक्षा 12वीं की परीक्षा में समाजशास्त्र के प्रश्न पत्र में गुजरात दंगों पर सवाल से विवाद खड़ा हो गया है। सीबीएसई ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया है कि यह सवाल सीबीएसई के दिशानिर्देशों के अनुरूप नहीं है। इसे बनाने वाले संबंधित व्यक्तियों पर कार्रवाई की जाएगी।

ट्विटर पर वायरल पोस्ट के अनुसार प्रश्नपत्र में 2002 में हुए गुजरात दंगे को लेकर सवाल किया गया था। ट्विटर पर लोगों ने इसे लेकर आपत्ति जताई है। ट्विटर यूजर हर्षवर्धन त्रिपाठी ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री को ट्वीट करते हुए लिखा कि आपके संज्ञान में होना आवश्यक है, बाकी तंत्र बहुत मजबूत है। कल्पना कीजिए कि बच्चों के दिमाग में हिन्दू-मुसलमान का जहर कैसे भरा जा रहा है।

इसके बाद सीबीएसई ने ट्वीट किया कि कक्षा 12 में समाजशास्त्र की टर्म 1 की परीक्षा में एक अनुचित प्रश्न पूछा गया है। प्रश्न पत्र बनाने के लिए बाहरी विशेषज्ञ ने सीबीएसई दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया है। सीबीएसई त्रुटि स्वीकार करता है और जिम्मेदार व्यक्तियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगा। इसके बाद सोशल मीडिया पर लोग सीबीएसई पर जमकर बरसे। 

यह था प्रश्न, जिस पर फूटा लोगों का गुस्सा
समाजशास्त्र के प्रश्नपत्र में 2002 में हुए गुजरात दंगे को लेकर एक सवाल पूछा गया है। समाजशास्त्र के प्रश्नपत्र में बहुवैकल्पिक सवाल में यह पूछा गया था कि वर्ष 2002 में अभूतपूर्व पैमाने पर मुस्लिम विरोधी हिंसा किस सरकार के कार्यकाल में हुई। इस प्रश्न के उत्तर के लिए चार विकल्प दिए गए थे- कांग्रेस, भाजपा, डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन।

एक अन्य ट्वीट में सीबीएसई बोर्ड ने कहा। "कागजी सेटर्स के लिए सीबीएसई दिशानिर्देश स्पष्ट रूप से कहते हैं कि उन्हें यह सुनिश्चित करना होगा कि प्रश्न केवल अकादमिक उन्मुख होने चाहिए और वर्ग, धर्म तटस्थ होने चाहिए और ऐसे डोमेन को नहीं छूना चाहिए जो सामाजिक और राजनीतिक विकल्पों के आधार पर लोगों की भावनाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं।"

एक अन्य नोटिस में बोर्ड ने स्कूलों से छात्रों की मांग और आवश्यकता के अनुसार अंग्रेजी या हिंदी में प्रश्न पत्र प्रिंट करने को कहा है। “यह ध्यान में आया है कि कुछ परीक्षा केंद्र प्रश्न पत्रों के अंग्रेजी और हिंदी दोनों संस्करणों को प्रिंट कर रहे हैं और उसके बाद छात्रों को वितरित किए जा रहे हैं। बोर्ड ने कहा कि यह सीबीएसई द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार नहीं है।

epaper

संबंधित खबरें