ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरBSEB Bihar Board : मैट्रिक छात्र दें ध्यान, बिहार बोर्ड इंटर में एडमिशन के लिए 11 अप्रैल से खुलेगा पोर्टल

BSEB Bihar Board : मैट्रिक छात्र दें ध्यान, बिहार बोर्ड इंटर में एडमिशन के लिए 11 अप्रैल से खुलेगा पोर्टल

Bihar Board Inter admission 2024 : शैक्षणिक सत्र 2024-25 में इंटरमीडिएट में नामांकन को लेकर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा संचालित ऑनलाइन ओएफएसएस पर 11 अप्रैल से 25 अप्रैल तक खुला रहेगा।

BSEB Bihar Board  : मैट्रिक छात्र दें ध्यान, बिहार बोर्ड इंटर में एडमिशन के लिए 11 अप्रैल से खुलेगा पोर्टल
Pankaj Vijayहिन्दुस्तान,पटनाThu, 22 Feb 2024 12:17 PM
ऐप पर पढ़ें

Bihar Board Inter admission 2024 : शैक्षणिक सत्र 2024-25 में इंटरमीडिएट में नामांकन को लेकर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा संचालित ऑनलाइन फैसिलिटेशन फॉर स्टूडेंट्स (ओएफएसएस) पोर्टल पर 11 अप्रैल से 25 अप्रैल तक खुला रहेगा। शिक्षा विभाग ने बुधवार को यह आदेश जारी किया है। विभाग ने कहा है कि डिग्री कॉलेजों से इंटर की पढ़ाई को अलग करने को लेकर चिह्नित डिग्री कॉलेजों को ओएफएसएस पोर्टल से हटाने की कार्रवाई बिहार विद्यालय परीक्षा समिति करेगी। पहले राउंट का स्कूल आवंटन और नामांकन आठ मई से शुरू होगा और 15 मई को बंद होगा। दूसरा राउंड का नामांकन 30 जून और तीसरा राउंट 15 जुलाई तक चलेगा। स्पॉट नामांकन की प्रक्रिया 30 जुलाई तक चलेगी।

डिग्री कॉलेजों में अब इंटर की पढ़ाई नहीं
राज्य के डिग्री कॉलेजों से शैक्षणिक सत्र 2024-25 से ही इंटरमीडिएट की पढ़ाई अलग होगी। इसको लेकर शिक्षा विभाग ने बुधवार को आदेश जारी कर दिया है। एक दिन पहले राज्य कैबिनेट की मंजूरी ली गयी थी।

आदेश में कहा है कि विश्वविद्यालय अधिनियम में प्रावधानित है कि कॉलेजों से इंटर की शिक्षा अलग की जाएगी। इसके तहत उक्त निर्णय लिया गया है। डिग्री कॉलेजों में वर्तमान में संचालित इंटर की पढ़ाई को समाप्त कर एक अप्रैल, 2024 से पात्र सभी उच्च माध्यमिक विद्यालयों में इसकी पढ़ाई शुरू करने की स्वीकृति प्रदान की जाती है। राज्य सरकार द्वारा उच्च माध्यमिक विद्यालयों की आधारभूत संरचना का बड़े पैमाने पर निर्माण कराया गया है। विशेष अभियान चलाकर 67961 उच्च माध्यमिक व 65737 माध्यमिक शिक्षक की नियुक्ति की गयी है। इसको देखते हुए आवश्यकता है कि केवल उच्च माध्यमिक विद्यालयों में प्लस-2 स्तर की शिक्षा संचालित की जाए। इस आलोक में बिहार विद्यालय परीक्षा समिति आगे की कार्रवाई करेगी। 

मालूम हो कि वर्ष 2006 से ही पटना विश्वविद्यालय के सभी डिग्री कॉलेजों से इंटर स्तर की शिक्षा समाप्त कर दी गयी है। उसके बाद ही अन्य विश्वविद्यालय से इंटर की पढ़ाई को अलग करना था पर तब शिक्षकों और आधारभूत संरचना की कमी के कारण यह नहीं हो सका था।

Virtual Counsellor