ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरBRAU Admission 2022 : अंग्रेजी और गणित से दूर भाग रहे कॉलेज के विद्यार्थी

BRAU Admission 2022 : अंग्रेजी और गणित से दूर भाग रहे कॉलेज के विद्यार्थी

बीआरएबीयू मुजफ्फरपुर कॉलेजों में पिछले दोनों विषयों में स्नातक में दो वर्ष में सबसे कम आवेदन हुए हैं। अंग्रेजी और गणित में हर वर्ष छात्रों का रुझान घट रहा है। वहीं इतिहास और जूलॉजी के प्रति छात्रों का

BRAU Admission 2022 : अंग्रेजी और गणित से दूर भाग रहे कॉलेज के विद्यार्थी
Alakha Singhवरीय संवाददाता,मुजफ्फरपुरTue, 09 Aug 2022 10:25 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

BRAU Admission 2022 : उत्तर बिहार के छात्र स्नातक में अंग्रेजी और गणित पढ़ने से दूर भाग रहे हैं। पिछले तीन वर्षों में स्नातक पार्ट वन में इन विषयों में आए आवेदन इसकी पुष्टि कर रहे हैं। वर्ष 2020 से अब तक लगातार इन विषयों में आवेदन कम हो रहे हैं। पिछले दो वर्षों में इस वर्ष सबसे कम आवेदन इन दोनों विषयों में आए हैं। वहीं, दूसरी ओर इतिहास और जूलॉजी के प्रति छात्रों का रुझान बढ़ा है। 

बिहार विश्वविद्यालय के शिक्षकों का भी कहना है कि छात्रों का रुझान अंग्रेजी व गणित विषय में कम हुआ है। बिहार विश्वविद्यालय के गणित विभाग के प्रोफेसर डॉ. प्रदीप गुप्ता ने बताया कि अब क्रिएटिव छात्र नहीं आ रहे हैं। इंटर स्तर पर भी पढ़ाई में ह्रास हुआ है। छात्र पासपोर्ट और कुंजी का ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं। इसलिए गणित में आवेदन कम हुए हैं। लेकिन, कॅरियर के लिहाज से गणित की संभावना इंजीनिरिंग से लेकर बायोकेमेस्ट्री तक में है।

वहीं, बिहार विश्वविद्यालय के मानवीकी संकाय के अध्यक्ष प्रो. एसके पॉल ने बताया कि बिहार में मैट्रिक स्तर तक अंग्रेजी अनिवार्य विषय नहीं है। इसलिए छात्रों का बेस ही इस विषय में कमजोर हो जाता है। अंग्रेजी में कम आवेदन आने का यह भी एक बड़ा कारण है।

हर वर्ष चार से पांच सौ तक आवेदनों में की आई कमी :
अंग्रेजी विषय में इस वर्ष 3885 आवेदन आए हैं तो गणित विषय में 2674 छात्रों ने आवेदन किए हैं। वर्ष 2020 में अंग्रेजी विषय के लिए 4906 तो 2021 में 3946 आवेदन आए थे। गणित विषय में वर्ष 2020 में 3641 तो वर्ष 2021 में 2877 आवेदन आए थे। हर वर्ष इन दोनों विषयों के आवेदनों में चार से पांच सौ की कमी आई है।

इतिहास और गृह विज्ञान में बढ़ गए आवेदन :
अंग्रेजी और गणित में आवेदन कम हो रहे हैं तो इतिहास व गृह विज्ञान में आवेदन की संख्या बढ़ गई है। वर्ष 2020 में स्नातक पार्ट वन में इतिहास पढ़ने के लिए 19 हजार 737 छात्रों ने आवेदन किए थे। वर्ष 2021 में यह संख्या बढ़कर 22 हजार 786 हो गई। वहीं, इस वर्ष 46 हजार 751 आवेदन आए हैं। यह संख्या पिछली बार से दोगुनी है। इतिहास की तरह गृह विज्ञान पढ़ने वाले की संख्या भी बढ़ी है। वर्ष 2020 में गृह विज्ञान में 5870 आवेदन आये थे, 2021 में आवेदानें की संख्या 7695 हो गई। इस वर्ष 12663 आवेदन आए हैं। गृह विज्ञान में छात्राओं के साथ छात्रों ने भी आवेदन दिया है।

तीन वर्ष में मैथिली में दस छात्रों ने भी नहीं किया आवेदन
बिहार विश्वविद्यालय में पिछले तीन वर्षों में मैथिली विभाग में दस छात्रों ने भी आवेदन नहीं किया है। वर्ष 2020 में दो, 2021 में 9 और इस वर्ष चार छात्रों ने आवेदन किया है। इसके अलावा भोजपुरी में इस वर्ष 11 छात्रों ने आवेदन किया है। वर्ष 2020 में इस विषय में भी 11 छात्रों ने आवेदन किया था। वर्ष 2021 में 19 छात्रों ने फॉर्म भरा था। 

epaper