ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरबीआरएबीयू: दाखिला लेकर परीक्षा नहीं दे रहे छात्र, अब तैयार होगा रिकार्ड

बीआरएबीयू: दाखिला लेकर परीक्षा नहीं दे रहे छात्र, अब तैयार होगा रिकार्ड

उच्च शिक्षा निदेशालय ने सभी विश्वविद्यालयों से रिपोर्ट मांगी है। विभाग ने विषयवार परीक्षा फार्म भरने वाले छात्रों का ब्योरा मांगाया है जिससे कि परीक्षा नहीं दे रहे छात्रों का रिकॉर्ड तैयार कराया जा सक

बीआरएबीयू: दाखिला लेकर परीक्षा नहीं दे रहे छात्र, अब तैयार होगा रिकार्ड
Alakha Singhवरीय संवाददाता,मुजफ्फरपुरWed, 29 May 2024 08:18 AM
ऐप पर पढ़ें


बीआरएबीयू समेत सूबे के अन्य विश्वविद्यालयों में दाखिला लेकर परीक्षा नहीं देने वाले छात्रों का रिकार्ड तैयार किया जायेगा। उच्च शिक्षा निदेशालय ने सभी विश्वविद्यालयों को पत्र लिखकर स्नातक प्रथम और दूसरे सेमेस्टर में विषयवार शामिल होने वाले छात्रों की सूची मांगी है। पत्र में कहा गया है कि स्नातक के दोनों सेमेस्टर में परीक्षा की क्या स्थिति है और किस विषय में कितने छात्रों ने परीक्षा फार्म भरा इसका ब्योरा भेजा जाये। इस पत्र के बाद विवि प्रशासन परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों का ब्योरा तैयार करने में जुट गया है।

सूचना देने में देर होने पर निदेशालय ने जताई नाराजगी
निदेशालय ने छात्रों का ब्योरा देने में देर होने पर नाराजगी जताई है। निदेशालय ने 20 मई तक सभी विश्वविद्यालयों को सारी सूचनाएं भेज देने का निर्देश दिया था, लेकिन तय समय पर सूचना नहीं भेजने पर विवि को फिर से रिमांडर भेजा है और जल्द से जल्द सारा ब्योरा भेजने का निर्देश दिया है। निदेशालय में सभी विश्वविद्यालयों का रिकार्ड दर्ज किया जायेगा।

हर बार परीक्षा नहीं देते हजारों छात्र
बीआरएबीयू में हर बार हजारों छात्र दाखिला लेकर परीक्षा का फार्म नहीं भरते हैं। स्नातक सेमेस्टर वन की परीक्षा में भी लगभग 15 हजार छात्रों ने परीक्षा का फार्म नहीं भरा था। पीजी के भी हर विषय में छात्र परीक्षा फार्म नहीं भरते हैं। बीआरएबीयू के मैथिली विभाग के अध्यक्ष प्रो. इंदुधर झा ने बताया कि जितने छात्रों ने पहले सेमेस्टर में दाखिला लिया था, उतने छात्रों ने सेमस्टर की परीक्षा का फार्म नहीं भरा।

परीक्षा नहीं देने वाले छात्र दूसरे छात्रों का सीट करते हैं खराब
बीआरएबीयू के शिक्षकों ने बताया कि परीक्षा नहीं देने वाले छात्र दूसरे छात्रों की सीट खराब करते हैं। एडमिशन लेने के लिए ये छात्र आवेदन तो कर देते हैं, लेकिन परीक्षा के समय गायब हो जाते हैं। इन छात्रों में से कई बाद में परीक्षा लेने का दबाव भी बनाते हैं। हाल में ही परीक्षा विभाग की तरफ से सभी प्राचार्यों को पत्र गया है कि पहले सेमेस्टर में जिन छात्रों ने फाइनल परीक्षा नहीं दी है और वह सेकेंड सेमेस्टर में परीक्षा देना चाहते हैं तो उनका इंटरनल का अंक चेक किया जाये। इंटरनल परीक्षा देने वाले छात्रों को दूसरे सेमेस्टर की परीक्षा में शामिल होने का मौका दिया जाये।
 

Virtual Counsellor