ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरबिहार शिक्षक भर्ती : नए टीचरों के सर्टिफिकेट की होगी ऑनलाइन जांच, STET व CTET पात्रता पर पैनी नजर

बिहार शिक्षक भर्ती : नए टीचरों के सर्टिफिकेट की होगी ऑनलाइन जांच, STET व CTET पात्रता पर पैनी नजर

बिहार में नवनियुक्त शिक्षकों के सभी तरह के सर्टिफिकेट की जांच ऑनलाइन होगी। राज्यस्तर पर सभी बोर्ड के साथ बैठक कर जिलों के अधिकारियों को आईडी और पासवर्ड उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है।

बिहार शिक्षक भर्ती : नए टीचरों के सर्टिफिकेट की होगी ऑनलाइन जांच, STET व CTET पात्रता पर पैनी नजर
Pankaj Vijayप्रमुख संवाददाता,मुजफ्फरपुरSat, 11 Nov 2023 08:42 AM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में नवनियुक्त शिक्षकों के सभी तरह के सर्टिफिकेट की जांच ऑनलाइन होगी। राज्यस्तर पर सभी बोर्ड के साथ बैठक कर जिलों के अधिकारियों को आईडी और पासवर्ड उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है, ताकि कम समय में नवनियुक्त शिक्षकों के सभी सर्टिफिकेट की जांच सही तरीके से की जा सके। सूबे के लगभग एक लाख 20 हजार नवनियुक्त शिक्षकों के सर्टिफिकेट की जांच करनी है। इसे लेकर सभी जिले के अधिकारियों को निर्देश दिया गया था। जांच ऑफलाइन करने में समय अधिक लगता, इसे लेकर ऑनलाइन जांच करने की तैयारी की गई है। 

बिहार बोर्ड, सीबीएसई, संस्कृत बोर्ड समेत सभी तरह के बोर्ड आईडी और पासवर्ड उपलब्ध कराएंगे और उसके माध्यम से ही संबंधित शिक्षकों के सर्टिफिकेट की जांच की जाएगी। शिक्षकों के सभी तरह के सर्टिफिकेट भी विभाग के पास ऑनलाइन ही उपलब्ध होंगे। बिहार लोक सेवा आयोग सभी शिक्षकों के सर्टिफिकेट उपलब्ध कराएगा, जो संबंधित शिक्षकों ने आवेदन भरने के समय दिए थे। 

जिला स्तर के अधिकारी ही करेंगे जांच :
जांच जिला स्तर के अधिकारी ही करेंगे। जांच की पूरी जवाबदेही डीपीओ स्थापना की होगी। डीपीओ स्थापना को सभी तरह के आईडी पासवर्ड और सर्टिफिकेट उपलब्ध कराए जा रहे हैं।  राज्यस्तर पर बनी टीम के अधिकारियों ने बताया कि अगर भविष्य में किसी भी शिक्षक के सर्टिफिकेट में किसी तरह का फर्जीवाड़ा या गड़बड़ी सामने आती है तो इसके लिए डीपीओ स्थापना जवाब दे होंगे। ऐसे में यह जिम्मेवारी डीपीओ स्थापना की बनती है कि सभी तरह के सर्टिफिकेट की जांच संबंधित बोर्ड से भलीभांति करा ली जाए। 

जिले में 30 हजार से अधिक सर्टिफिकेट की जांच : 
जिले में साढ़े छह हजार नवनियुक्त शिक्षकों के सर्टिफिकेट का सत्यापन होना है। सभी तरह के सर्टिफिकेट मिलाकर संख्या 30 हजार से अधिक हो जाएगी। इसमें मैट्रिक, इंटर, ग्रेजुएशन संबंधित सर्टिफिकेट, जो बिहार के अंदर के हैं, वह तो संबंधित बोर्ड से आसानी से हो जाएंगे। इसके साथ ही जो टीचर ट्रेनिंग से संबंधित सर्टिफिकेट हैं, उसको लेकर भी ऑनलाइन व्यवस्था करने की कवायद की जा रही है। अगर राज्य के बाहर के किसी ट्रेनिंग संस्थान का आईडी और पासवर्ड नहीं मिल पाता है तो संबंधित सर्टिफिकेट का सत्यापन जाकर ऑफलाइन कराया जाएगा। 

टीईटी, एसटीईटी व सीटेट की जांच पर विशेष नजर :
शिक्षकों की नियुक्ति टीईटी, एसटीईटी, सीटेट के सर्टिफिकेट पर हुई है। काउंसलिंग के बाद जिलास्तर पर कराया गए सत्यापन में कई अभ्यर्थी ऐसे मिले, जो एसटीईटी या सीटेट में फेल हैं। इसके बावजूद उन्होंने अपना सर्टिफिकेट लगा दिया था। ऐसे में विभाग का निर्देश है कि इन सर्टिफिकेट की जांच पर विशेष नजर रखी जाएगी। दिए गए रोल नंबर से सत्यापन कर लिया जाएगा। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें