DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार में आधे शिक्षक बाहरी काम के बोझ से बेहाल

Teacher Recruitment

स्कूल नियमित खुलते हैं। 92 फीसदी छात्र और शिक्षक स्कूल भी आते हैं। क्लास रूम में शिक्षक जो पढ़ाते हैं वो 88 फीसदी छात्रों को समझ में भी आता है। लेकिन बिहार में 50 फीसदी शिक्षक अपने काम से संतुष्ट नहीं है। शिक्षकों के ऊपर दूसरे कामों का बोझ इतना अधिक है कि वे शिक्षक बने नहीं रहना चाहते हैं।

शिक्षकों की ये बातें एनसीईआरटी के नेशनल एचीवमेंट सर्वे 2017-18 में निकल कर सामने आयी हैं। सर्वे के अनुसार यह स्थिति तीसरी, पांचवीं और आठवीं तीनों ही कक्षाओं के शिक्षकों की है। सर्वे के अनुसार तीसरी कक्षा के 81 फीसदी छात्र क्लास रूम की पढ़ाई समझते हैं। वहीं 5वीं के 83 फीसदी और 8वीं के 88 फीसदी छात्र अपनी पढ़ाई क्लास रूम के भरोसे ही करते हैं। राज्यभर के 88 फीसदी शिक्षकों को राज्य सरकार की शिक्षा संबंधित मेटेरियल आदि की जानकारी है।

UPTET Admit Card 2018: परीक्षा देने जाने से पहले जान लें ये बातें

राज्य के सभी योजनाओं आदि से भी शिक्षक अवगत हैं। एनएएस 2017-18 में प्रदेशभर के 14,777 शिक्षकों को शामिल किया गया था। इसमें तीसरी क्लास के 4494, पांचवीं के 4798 और 8वीं क्लास के 5485 शिक्षक शामिल थे। शिक्षकों के लिए भी एनसीईआरटी ने अलग से प्रश्नावली बनायी थी। अधिकतर शिक्षकों में विषयवार भी जानकारी बतायी गयी है।

UPTET Admit Card 2018: यूपीटीईटी एडमिट कार्ड जारी, 3 Steps में देखें

रश्मि रेखा, (राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी) ने कहा- छात्रों को क्लास रूम में शिक्षक की बातें समझ में आती हैं। लेकिन जो कमी है उसे भी सही करने की कोशिश की जायेगी। इसके लिए कई शिक्षकों को जागरूक करने की आवश्यकता है। इसके लिए हर जिलों में एजुकेशन कोआर्डिनेटर बनाये गये हैं।

शिक्षकों की दशा का जिक्र
- तीसरी क्लास के 45 फीसदी, 5वीं के 42 फीसदी और 8वीं के 52 फीसदी शिक्षक उसी विषय के शिक्षक हैं जिस विषय में उन्होंने उच्च शिक्षा प्राप्त की है।

- 82 फीसदी शिक्षकों को शिक्षा मेटेरियल की पूरी जानकारी है

- 28%शिक्षक पर ओवरलोड है .

-  50 फीसदी शिक्षक संतुष्ट नहीं हैं .

- 30 फीसदी शिक्षक स्कूल के मूलभूत संरचना से परेशान हैं.

-  14% शिक्षकों ने पानी स्कूल में नहीं होने की शिकायत की है.

-  20 फीसदी शिक्षकों ने स्कूलों में शौचालय की कमी बताई .

- 32 फीसदी शिक्षकों ने स्कूल में बिजली नहीं होने की वजह बताई .

-  स्कूल में कमियों के बावजूद शिक्षक करते हैं मेहनत.

-  14777 शिक्षकों पर किये गये सर्वे में सामने आईं बातें 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bihar: half of teacher are overburdened with their work