ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरBEd Vs DElEd BTC : प्राथमिक भर्ती में मौका देने पर अड़े बीएड अभ्यर्थी , रोजगार अधिकार की उठाई आवाज

BEd Vs DElEd BTC : प्राथमिक भर्ती में मौका देने पर अड़े बीएड अभ्यर्थी , रोजगार अधिकार की उठाई आवाज

प्राथमिक स्कूलों की शिक्षक भर्ती से बीएड के बाहर होने पर संयुक्त बीएड मोर्चा की ओर से शिक्षक दिवस पर बालसन चौराहे पर महापंचायत का आयोजन किया गया। बीएड डिग्रीधारियों ने राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन एसी

BEd Vs DElEd BTC :  प्राथमिक भर्ती में मौका देने पर अड़े बीएड अभ्यर्थी , रोजगार अधिकार की उठाई आवाज
Anuradha Pandeyप्रमुख संवाददाता। ,प्रयागराजWed, 06 Sep 2023 07:59 AM
ऐप पर पढ़ें

प्राथमिक स्कूलों की शिक्षक भर्ती से बीएड के बाहर होने पर संयुक्त बीएड मोर्चा की ओर से शिक्षक दिवस पर बालसन चौराहे पर महापंचायत का आयोजन किया गया। बीएड डिग्रीधारियों ने राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन एसीपी सतेन्द्र त्रिपाठी को सौंपा और उनकी समस्या पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करते हुए अवसर देने का अनुरोध किया। महापंचायत में आजाद अधिकार सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमिताभ ठाकुर भी पहुंचे और समर्थन दिया।

मोर्चा के पंकज कुमार पांडेय, अमित यादव, पुष्पेंद्र सिंह, अनुज सिंह, देवेंद्र, सत्यम पाठक, योगेंद्र, कुशल, हरी ओम व राहुल विद्यार्थी आदि का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से बीएड अभ्यर्थियों के भविष्य पर संकट है। प्राइमरी की शिक्षक भर्ती से बीएड अयोग्य होने पर लाखों छात्र हताश व परेशान हैं। लिहाजा सरकार को चाहिए कि कानून पास कर बीएड को प्राथमिक स्कूलों की भर्ती में मान्य किया जाए।

प्रयागराज, वरिष्ठ संवाददाता। संयुक्त युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को रोजगार की मांग को लेकर पत्थर गिरजाघर के पास जोरदार धरना-प्रदर्शन किया। कहा कि रिक्त पदों को भरने के चुनावी वादों व रोजगार संकट हल करने के प्रति सरकार गंभीर नहीं है। चेतावनी दी कि अगर चुनाव से पहले सभी रिक्त पदों को भरने पर ठोस कदम नहीं उठाया गया तो इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

आंदोलन का नेतृत्व मोर्चा के केंद्रीय टीम सदस्य राजेश सचान व युवा मंच अध्यक्ष अनिल सिंह ने किया। प्रशासन के माध्यम से राष्ट्रपति और सीएम को संबोधित ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में संसद के विशेष सत्र में रोजगार अधिकार के लिए विधेयक लाने, केंद्र सरकार एवं राज्यों में रिक्त पड़े पदों को पारदर्शिता के साथ भरने, आउटसोर्सिंग व संविदा व्यवस्था खत्म करने, रेलवे, बैंकिंग, बीमा, बिजली-कोयला, शिक्षा-स्वास्थ्य जैसे क्षेत्रों में निजीकरण पर रोक लगाने, प्रदेश में छह लाख रिक्त पदों को भरने के चुनावी वादों को पूरा करने आदि की मांग की। विनोद तिवारी, अधिवक्ता केके राय, राजवेंद्र सिंह, सुनील मौर्या, अविनाश मिश्रा, संघर्ष विक्रम, डॉ. कमल उसरी, अंशु मालवीय आदि मौजूद रहे।

Virtual Counsellor