DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रुहेलखंड विश्वविद्यालय कराएगा बीएड की संयुक्त प्रवेश परीक्षा

देशभर में बीएड अब चार साल का होने के बाद संयुक्त प्रवेश परीक्षा की जिम्मेदारी पहली बार रुहेलखंड विश्वविद्यालय को मिल गई है। सोमवार को संयुक्त प्रवेश परीक्षा कराने के लिए रुहेलखंड विश्वविद्यालय को शासन से चिठ्ठी भी मिल गई। अब संयुक्त प्रवेश परीक्षा को लेकर रुहेलखंड विश्वविद्यालय के कुलपति अगले कुछ दिनों में बैठककर पूरी तैयारी का खाका खींचेंगे और समितियों के गठन के साथ ही परीक्षा को लेकर कार्यक्रम भी तैयार किया जाएगा। इस साल से बीएड चार साल को हो गया है और अर्हता इंटर है, ऐसे में विवि अब प्रश्नपत्र भी तैयार करेगा। 


नेशनल काउंसिल फॉर टीचर्स एजुकेशन (एनसीटीई) ने दो वर्षीय बीएड खत्म कर चार वर्षीय चार वर्षीय एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम (आईटीईपी) पर मुहर लगा दी थी। इस चार वर्षीय कोर्स के लिए कॉलेजों से आवेदन मांग लिए थे। ऐसे में अब इस नए कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा को लेकर रुहेलखंड विश्वविद्यालय ने प्रदेश सरकार से अनुमति मांगी थी। दलील दी थी कि पिछले चार साल से लखनऊ विश्वविद्यालय बीएड की संयुक्त प्रवेश परीक्षा करा रहा है और रुहेलखंड विवि को 2011 में बीएड की संयुक्त प्रवेश परीक्षा का अनुभव भी है। ऐसे में रुहेलखंड विवि को इसकी मंजूरी दी जाए। इसपर मंथन के बाद प्रदेश सरकार ने रुहेलखंड विवि को मंजूरी दे दी। इसकी पुष्टि भी कुलपति ने कर दी। 


उच्च शिक्षामंत्री के संबंधों का कुलपति को मिला फायदा
कुलपति प्रो. अनिल शुक्ल और उच्च शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा की दोस्ती पुरानी है। विवि के दीक्षांत समारोह में उप मुख्यमंत्री कुलपति के बुलाने पर आए थे। ऐसे में बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा कर जिम्मेदारी सात साल बाद एक बार फिर से रुहेलखंड विश्वविद्यालय को मिल गई है। 

विश्वविद्यालय की फाइनेंशियल स्थिति अच्छी होती है
विश्वविद्यालय लगातार बढ़ते खर्चों के कारण घाटे में जा रहा था ऐसे में बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा जिम्मेदारी मिलने के बाद रुहेलखंड विवि की आय बढ़नी तय है। ऐसा हुआ तो विश्वविद्यालय प्रशासन का घाटे का बजट फायदे के बजट में बदल जाएगा और अगले कई वर्षों को तक विवि को कोई विशेष समस्या नहीं झेलनी पड़ेगी। 

बरेली कोर कमेटी, लेगी फैसला
रुहेलखंड विवि संयुक्त प्रवेश परीक्षा को लेकर जल्द कोर कमेटी बनाएगा। इसमें कुलसचिव को-आर्डिनेटर होंगे पर कुलसचिव इन दिनों छुट्टी पर हैं ऐसे में विश्वविद्यालय प्रशासन परीक्षा नियंत्रक को भी को-आर्डिनेटर बना सकता है। इसके अलावा कोर कमेटी में अन्य जिम्मेदारियां भी बांटी जाएंगी।

रुहेलखंड विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अनिल शुक्ल ने बताया कि संयुक्त प्रवेश परीक्षा कराने की मंजूरी शासन से मिल गई है। शासन की ओर से इसको लेकर चिठ्ठी भी मिल गई है। अब जल्द बैठक करते हुए आगे की कार्ययोजना तैयार की जाएगी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:B Ed Joint Entrance Examination 2019 to be organized by Ruhalkhand University