ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरAIIMS Delhi : बिना मंजूरी शुरू किए दो बीएससी कोर्स, डेंटल काउंसिल से मान्यता न मिलने से छात्र परेशान

AIIMS Delhi : बिना मंजूरी शुरू किए दो बीएससी कोर्स, डेंटल काउंसिल से मान्यता न मिलने से छात्र परेशान

एम्स दिल्ली में अनियमितता का चौंकाने वाला मामला सामने आया है। बिना मंजूरी के दो बीएससी कोर्स शुरू किए गए थे जिन्हें अभी भी मान्यता नहीं मिली। 2018 से अब तक दोनों कोर्स में 39 छात्र पढ़ाई पूरी कर चुके

AIIMS Delhi : बिना मंजूरी शुरू किए दो बीएससी कोर्स, डेंटल काउंसिल से मान्यता न मिलने से छात्र परेशान
Alakha Singhहेमवती नंदन राजौरा,नई दिल्लीFri, 23 Feb 2024 09:18 AM
ऐप पर पढ़ें

New Courses in AIIMS Delhi : एम्स दिल्ली ने बिना भारतीय दंत परिषद की अनुमति के बीएससी के दो डिग्री पाठ्यक्रम शुरू कर दिए। दोनों पाठ्यक्रम शुरू हुए करीब पांच साल हो चुके हैं, लेकिन डेंटल काउंसिल से इन पाठ्यक्रमों को मान्यता नहीं मिल पाई है। ऐसे में वर्ष 2018 से अभी तक एम्स के दोनों पाठ्यक्रमों में पढ़ाई पूरी कर चुके या इंटर्नशिप कर रहे 39 विद्यार्थियों का करियर अधर में लटका है। चौंकाने वाली बात यह है कि एम्स से पढ़ाई पूरी करने के बाद भी इन छात्रों का भारतीय दंत परिषद में पंजीकरण नहीं हो सका है। वे रोजगार के लिए भटक रहे हैं। इस मामले में अब छात्रों ने कोर्ट का रुख कर लिया है।

 मई 2022 में एम्स का पत्र मिलने के बाद भारतीय दंत परिषद ने इस मुद्दे पर 23 जून, 2022 को बैठक में इस पर फैसला लेते हुए एम्स के दोनों पाठ्यक्रमों को मान्यता देने से मना कर दिया था। भारतीय दंत परिषद ने भारत सरकार के स्वास्थ्य विभाग को लिखे पत्र में बताया कि उनकी परिषद के तहत ऐसे कोई पाठ्यक्रम सूची में नहीं है।

2018 में शुरू हुए
दोनों डिग्री पाठ्यक्रमों को वर्ष 2016 में एम्स की अकादमिक समिति की बैठक में मंजूरी दी गई थी। इसके बाद 2018 में दाखिले शुरू हो गए, लेकिन एम्स को भारतीय दंत परिषद से अनुमति नहीं मिली। वर्ष 2022 में पहला बैच पूरा हुआ तो छात्रों को पता चला कि वे दंत परिषद में पंजीकरण नहीं कर सकते हैं।

रोजगार के लिए भटकना पड़ रहा
हिन्दुस्तान संवाददाता से बातचीत में एक छात्र ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि हमने एम्स जैसे प्रतिष्ठित संस्थान से अपना डिग्री कोर्स पूरा कर लिया, लेकिन अभी तक वह कोर्स डेंटल काउंसिल की ओर से मान्य ही नहीं है। ऐसे में कई सालों की पढ़ाई के बाद भी रोजगार के लिए भटक रहे हैं। इस मुद्दे पर एम्स प्रशासन से उनका पक्ष लेने की कई बार कोशिश की गई, लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें